scriptStill, seats could not be filled even in govt colleges, private also | अभी शासकीय कॉलेजों में भी नहीं भर पाई सीट, निजी को नहीं मिल रहे छात्र | Patrika News

अभी शासकीय कॉलेजों में भी नहीं भर पाई सीट, निजी को नहीं मिल रहे छात्र

30 जुलाई तक सीएलसी राउंड में प्रवेश का मौका, इसके बाद बंद हो जाएगी प्रक्रिया......

सिंगरौली

Published: July 21, 2022 11:57:42 pm

सिंगरौली. तमाम कोशिशों के बावजूद शासकीय अग्रणी महाविद्यालय बैढऩ को छोड़ दिया जाए तो ज्यादातर महाविद्यालयों में अभी सीट खाली है। निजी महाविद्यालयों की तो बात ही नहीं करिए। निजी महाविद्यालय संचालक छात्र-छात्राओं को प्रवेश के लिए तमाम तरह के व्यवस्थाओं का हवाला दे रहे हैं, लेकिन छात्रों का निजी की ओर से रूझान देखने को नहीं मिल रहा है। फिलहाल सीट भरने के लिए उच्च शिक्षा विभाग ने एक मौका और दिया है। इसके बाद प्रक्रिया स्थगित कर दी जाएगी।
Still, seats could not be filled even in govt colleges, private also
Still, seats could not be filled even in govt colleges, private also
शासकीय व अशासकीय महाविद्यालयों में प्रवेश के बावत उच्च शिक्षा विभाग ने 30 जुलाई तक मौका दिया है। महाविद्यालय विभिन्न पाठ्यक्रमों में कॉलेज लेवल काउंसिलिंग के जरिए प्रवेश ले सकते हैं। अग्रणी महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. एमयू सिद्दीकी के मुताबिक अभी तक केवल अग्रणी महाविद्यालय की सीट भर पाई है। देवसर सहित अन्य बाकी के शासकीय महाविद्यालयों में स्नातक स्तर के पाठ्यक्रमों में सीट खाली है। संभावना जताई जा रही है कि 30 जुलाई तक देवसर महाविद्यालय की सीटें भर जाएंगी, लेकिन बाकी के अन्य महाविद्यालयों की सीट भर पाना मुमकिन नहीं जान पड़ रहा है।
दूसरे जिलों में छात्रों ने लिया प्रवेश
जिले में 10 शासकीय महाविद्यालय संचालित हैं। इनमें केवल बैढऩ व देवसर दो महाविद्यालय में बीए के साथ बीएससी व बीकॉम के पाठ्यक्रम संचालित हैं। यही वजह है कि बीएससी व बीकॉम की पढ़ाई करने वाले ज्यादातर छात्र रीवा सहित दूसरे जिलों के महाविद्यालयों में प्रवेश ले लेते हैं। छात्रों की पहली पसंद अग्रणी महाविद्यालय बैढऩ होता है। इसके बाद छात्र दूसरे जिलों में जाना पसंद करते हैं।
आधे से अधिक सीट खाली
प्राचार्य डॉ. सिद्दीकी के मुताबिक सरई, चितरंगी, बरका, बरगवां, माड़ा, रजमिलान, कन्या बैढऩ व कन्या सिंगरौली महाविद्यालय में बीए की आधी से अधिक सीट खाली है। इन महाविद्यालयों में कन्या महाविद्यालयों के साथ चितरंगी महाविद्यालय में बीएससी व बीकॉम पाठ्यक्रम शुरू किया जाना था। संभावना थी कि इन पाठ्यक्रमों का संचालन शुरू होने पर छात्र-छात्राओं का रुझान बढ़ेगा, लेकिन न ही पाठ्यक्रमों की शुरुआत हुई और न ही छात्रों की संख्या में इजाफा हुआ।
सुविधा के नाम पर केवल भवन
अग्रणी बैढऩ व देवसर के महाविद्यालय को छोड़ दिया जाए तो बाकी के महाविद्यालयों में कोई सुविधा भी मुहैया नहीं हो सकी है। चितरंगी, रजमिलान और कन्या महाविद्यालय सहित कुछ अन्य महाविद्यालयों को भवन तो उपलब्ध हो गया है, लेकिन इसके अलावा पुस्तकालय, प्रयोगशाला व फर्नीचर जैसी अन्य दूसरी सुविधाएं नदारद है। प्राध्यापकों की नियुक्ति भी स्वीकृत पदों के अनुरूप नहीं है। यही वजह है कि छात्र-छात्राओं और उनके अभिभावकों का रुझान इन महाविद्यालयों की ओर नहीं होता है।
इंजीनियरिंग व मेडिकल में रुचि
शासकीय व निजी महाविद्यालयों में बीए, बीएससी व बीकॉम की सीट खाली रह जाने के पीछे की एक वजह छात्र-छात्राओं की इंजीनियरिंग व मेडिकल के प्रति बढ़ता रुझान है। महाविद्यालयों के प्राचार्य खुद यह स्वीकार करते हैं कि जिले के हायर सेकंडरी की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले आधे से अधिक छात्र इंजीनियरिंग व मेडिकल सहित अन्य दूसरे तकनीकी पाठ्यक्रमों में प्रवेश ले लेते हैं। बाकी बचे छात्र-छात्राओं में आधे से अधिक अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय सहित रीवा के अन्य महाविद्यालय में प्रवेश लेते हैं। इस तरह से जिले के महाविद्यालयों में प्रवेश लेने वाले छात्र-छात्राओं की संख्या बहुत कम रह जाती है। प्रत्येक वर्ष यहां जिले से 20 से 25 हजार छात्र हायर सेकंडरी की परीक्षा उत्तीर्ण करते हैं।
महाविद्यालयों में निर्धारित
महाविद्यालय निर्धारित सीट
शास. महाविद्यालय बैढऩ 860
शास. महाविद्यालय सरई 180
शास. महाविद्यालय देवसर 500
शास. महाविद्यालय चितरंगी 160
शास. महाविद्यालय बरका 360
शास. कन्या महा. बैढऩ 260
शास. कन्या महा. सिंगरौली 360
शास. महाविद्यालय बरगवां 160
शास. महाविद्यालय माड़ा 480
शास. महाविद्यालय रजमिलान 60

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

सुशील कुमार मोदी का नीतीश सरकार पर हमला, कहा - 'लालू के दामाद और कार्यकर्ता चला रहे सरकार, नीतीश लाचार'ड‍िप्‍टी सीएम मनीष स‍िसोद‍िया के यहां CBI की रेड के बाद LG का बड़ा आदेश, 12 IAS अफसरों का ट्रांसफरमनीष सिसोदिया के घर समेत 31 जगहों पर रेड, 17 अगस्त को ही दर्ज हुई थी FIR, CBI ने जारी की पूरी डीटेलउपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आवास पर CBI की छापेमारी के बाद आम आदमी पार्टी ने किया ऐलान - '2024 में मोदी Vs केजरीवाल'Kerala News: मुस्लिम लीग के महासचिव का विवादित बयान, बोले- 'लड़के-लड़कियों का स्कूल में साथ बैठना खतरनाक'CBI Raids Manish Sisodia House Live Updates: बीजेपी की बौखलाहट ने देश को ये संदेश दिया है कि 2024 का चुनाव AAP v/s BJP होगा- संजय सिंहबंगाल, महाराष्ट्र में भी ED के छापे, उनके सामने तो मैं तिनका हूँ, 'सांसद अफजाल अंसारी ने दी चुनौती- पूर्वांचल हमारा ही रहेगा'Mumbai News: दही हांड़ी फोड़ने पर 55 लाख से लेकर स्पेन जाने सहित मिल रहे हैं ये खास ऑफर; पढ़े पूरी खबर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.