बिजली की मनमानी कटौती से चौपट हो रहा व्यापारियों का व्यवसाय

अधिकारियों को ज्ञापन देकर लगाई राहत की गुहार ....

By: Ajeet shukla

Published: 15 Jun 2021, 11:44 PM IST

सिंगरौली. साहब, मनमानी कटौती बंद करिए। एक तो पहले ही कोरोना आपदा में स्थिति खराब है। दूसरे बिजली की मनमानी कटौती ने व्यवसाय चौपट कर रखा है। विभाग अधिकारियों को ज्ञापन सौंपते हुए आटा चक्की संचालकों ने कुछ ऐसे ही अंदाज में गुहार लगाई है। आम आदमी पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष रानी अग्रवाल व प्रदेश संगठन सचिव संदीप शाह के नेतृत्व में बिजली कार्यालय पहुंचे व्यावसाइयों ने ज्ञापन सौंपकर निर्धारित पूरे समय तक बिजली की आपूर्ति बहाल रखने की मांग की।

चक्की संचालकों ने कहा कि इस समय बिजली विभाग द्वारा आटा चक्की संचालकों को केवल 4 घंटे बिजली दिया जा रहा है। लगातार तीन दिन से ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली की कटौती हो रही है। आम आदमी पार्टी के पदाधिकारियों ने बिजली कटौती को व्यवसाईयों के साथ अन्याय करार दिया। कहा कि यह उनके साथ कुठाराघात है। इसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। कहा कि जल्द ही बिजली की आपूर्ति पटरी पर नहीं लौटी तो आम आदमी पार्टी बिजली विभाग का घेराव करेगी। इसकी पूरी जिम्मेदारी शासन प्रशासन व बिजली विभाग की होगी।

प्रदेश उपाध्यक्ष रानी अग्रवाल ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों की जनता इस गर्मी में बिजली न मिलने के कारण बहुत ही परेशानी झेल रहे है। आए दिन लोगों की बिजली संबंधित शिकायत लेकर आते हैं। प्रदेश संगठन सचिव संदीप शाह ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में आटा चक्की संचालकों को निर्धारित समय तक बिजली नहीं दी जा रही है। जिससे व गेहूं की कुटाई और पिसाई नहीं कर पा रहे हैं। इससे उनके व्यापार में काफी नुकसान हो रहा है। इसको लेकर उनमें आक्रोश भी है।

उन्होंने कहा कि जल्द ही पुराने समय के अनुसार आटा चक्की संचालकों को बिजली दी जाए। इसके लिए आटा चक्की संचालकों ने 3 दिवस का मौका दिया है। तीन दिनों के भीतर बिजली आपूर्ति व्यवस्था बेहतर नहीं की गई तो वह उग्र आंदोलन करने को बाध्य होंग। ज्ञापन सौंपने के दौरान पार्टी के जिला संरक्षक अनिल द्विवेदी, युवा शक्ति के जिला अध्यक्ष अक्षय शाह, प्रदेश सदस्य यूथ अनिल शाह, अर्जुन, राजेश शाह, दिपेश कुमार, उपेंद्र कुमार सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।

Ajeet shukla Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned