अभी नहीं चेते तो बारिश में बुरे हाल

अभी नहीं चेते तो बारिश में बुरे हाल

mahesh parbat | Publish: May, 18 2018 09:42:25 AM (IST) Sirohi, Rajasthan, India

- शहर में बरसाती नालों की सफाई पर नहीं ध्यान

सिरोही. शहर में प्रचंड गर्मी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि बारिश भी शायद जल्दी आ सकती है। प्रशासन आपदा से निपटने के लिए तैयार है लेकिन नालों की सफाई अअ तक शुरू नहीं की गई है। बड़े बरसाती नाले गंदगी से अटे पड़े हैं। इससे पानी निकासी में समस्या आएगी। पानी मुख्य मार्ग पर भरने की आशंका है। बारिश के समय कॉलोनियों का सारा पानी नाले व नालियों से होकर गुजरता है। कई नालों में तो बबूल की झाडिय़ां खड़ी हैं।
गंदगी से अटे झोप-बुझ नाले
बाहरीघाटा पहाड़ी से उतरने वाले झरने का पानी शहर के झोप एवं बुझ नाले होकर कालका तालाब में जाता है लेकिन दोनों नालों की स्थित बदहाल है। एक में तो कचरा डालकर डम्पिंग यार्ड बना दिया तो दूसरे में कचरा तथा बबूल की झाडिय़ां खड़ी हैं। वर्तमान में शहर के लगभग सभी नाले कचरे से अटे हुए हैं। कई फीट कीचड़ भी जमा है। पानी की निकासी नहीं हो पा रही।
हर वर्ष औपचारिकता
लोगों का कहना है कि हर वर्ष नगरपरिषद की ओर से नालों की सफाई के नाम पर औपचारिकता की जाती है। ठेकेदार पूरी सफाई नहीं करते हैं। नाले व नालियों के लेवल का ध्यान नहीं रखा जाता। इसके चलते पानी की निकासी नहीं होने से कई स्थानों पर जलभराव की स्थिति बनी हुई है।
यहां हाल ज्यादा खराब
जिला उद्योग के पीछे व सुभाषनगर नाले में बबूल की झाडिय़ां खड़ी हैं तो माली छात्रावास के सामने, भाटकड़ा चौराहा, कृष्णापुरी, आदर्श नगर जाने वाले मार्ग, जिला अस्पताल के पास, टांकरिया, अग्रवाल छात्रावास के बाहर, सार्दुलपुरा, संतोषी माता मंदिर के पास, पैलेस रोड, हाउसिंग बोर्ड स्थित नालों में मिट्टी व कचरा भरा है। अन्य कई छोटे-बड़े नाले भी अवरुद्ध हैं।
...तो होगा आवागमन बाधित
सारणेश्वर मार्ग पर दूधिया तालाब में पहाड़ी झरने के बहाव में झाडिय़ां तथा मिट्टी पड़ी हुई हैं लेकिन हटाया नहीं जा रहा है। इससे बारिश के समय में मार्ग बंद हो सकता है। बीते वर्ष भी अतिवृष्टि में सडक़ के ऊपर से पानी गया था। वहीं चौसठ जोगनी मंदिर के पास मातर माता झरने के बहाव क्षेत्र में भी बबूल की झाडिय़ां उगी है। &जेसीबी खराब पड़ी है, ठीक होते ही एक-दो दिन में शहर के नालों की सफाई करवाई जाएगी।
ताराराम माली, सभापति नगर परिषद, सिरोहीसिरोही फाइल संख्या - १
न्यूज पंच.... अभी नहीं चेते तो बारिश में बुरे हाल!
- शहर में बरसाती नालों की सफाई पर नहीं ध्यान
सिरोही. शहर में प्रचंड गर्मी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि बारिश भी शायद जल्दी आ सकती है। प्रशासन आपदा से निपटने के लिए तैयार है लेकिन नालों की सफाई अअ तक शुरू नहीं की गई है। बड़े बरसाती नाले गंदगी से अटे पड़े हैं। इससे पानी निकासी में समस्या आएगी। पानी मुख्य मार्ग पर भरने की आशंका है। बारिश के समय कॉलोनियों का सारा पानी नाले व नालियों से होकर गुजरता है। कई नालों में तो बबूल की झाडिय़ां खड़ी हैं।
गंदगी से अटे झोप-बुझ नाले
बाहरीघाटा पहाड़ी से उतरने वाले झरने का पानी शहर के झोप एवं बुझ नाले होकर कालका तालाब में जाता है लेकिन दोनों नालों की स्थित बदहाल है। एक में तो कचरा डालकर डम्पिंग यार्ड बना दिया तो दूसरे में कचरा तथा बबूल की झाडिय़ां खड़ी हैं। वर्तमान में शहर के लगभग सभी नाले कचरे से अटे हुए हैं। कई फीट कीचड़ भी जमा है। पानी की निकासी नहीं हो पा रही।
हर वर्ष औपचारिकता
लोगों का कहना है कि हर वर्ष नगरपरिषद की ओर से नालों की सफाई के नाम पर औपचारिकता की जाती है। ठेकेदार पूरी सफाई नहीं करते हैं। नाले व नालियों के लेवल का ध्यान नहीं रखा जाता। इसके चलते पानी की निकासी नहीं होने से कई स्थानों पर जलभराव की स्थिति बनी हुई है।
यहां हाल ज्यादा खराब
जिला उद्योग के पीछे व सुभाषनगर नाले में बबूल की झाडिय़ां खड़ी हैं तो माली छात्रावास के सामने, भाटकड़ा चौराहा, कृष्णापुरी, आदर्श नगर जाने वाले मार्ग, जिला अस्पताल के पास, टांकरिया, अग्रवाल छात्रावास के बाहर, सार्दुलपुरा, संतोषी माता मंदिर के पास, पैलेस रोड, हाउसिंग बोर्ड स्थित नालों में मिट्टी व कचरा भरा है। अन्य कई छोटे-बड़े नाले भी अवरुद्ध हैं।
...तो होगा आवागमन बाधित
सारणेश्वर मार्ग पर दूधिया तालाब में पहाड़ी झरने के बहाव में झाडिय़ां तथा मिट्टी पड़ी हुई हैं लेकिन हटाया नहीं जा रहा है। इससे बारिश के समय में मार्ग बंद हो सकता है। बीते वर्ष भी अतिवृष्टि में सडक़ के ऊपर से पानी गया था। वहीं चौसठ जोगनी मंदिर के पास मातर माता झरने के बहाव क्षेत्र में भी बबूल की झाडिय़ां उगी है। &जेसीबी खराब पड़ी है, ठीक होते ही एक-दो दिन में शहर के नालों की सफाई करवाई जाएगी।
ताराराम माली, सभापति नगर परिषद, सिरोही

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned