दूसरों के जीवन की रक्षा सबसे बड़ा धर्म

माउंट आबू. केरिपुबल डीआईजी राकेश चौहान ने कहा कि दूसरों की जीवन रक्षा करना सबसे बड़ा मानव धर्म व सच्ची सेवा है। रक्तदाताओं रक्तदान करके यह साबित कर दिया कि जाति-धर्म तो केवल दैहिक स्तर पर होता है। खूनी रिश्ते को किसी भी स्तर पर बांटा नहीं जा सकता।

By: Rajuram jani

Published: 03 Mar 2019, 09:00 PM IST

माउंट आबू. केरिपुबल डीआईजी राकेश चौहान ने कहा कि दूसरों की जीवन रक्षा करना सबसे बड़ा मानव धर्म व सच्ची सेवा है। रक्तदाताओं रक्तदान करके यह साबित कर दिया कि जाति-धर्म तो केवल दैहिक स्तर पर होता है। खूनी रिश्ते को किसी भी स्तर पर बांटा नहीं जा सकता। वे रविवार को किचन गार्डन पार्किंग में राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना व ग्लोबल अस्पताल के संयुक्त तत्वाधान में शहीदों के नाम स्वैच्छिक रक्तदान शिविर को संबोधित कर रहे थे।
पालिका अध्यक्ष सुरेश थिंगर ने कहा कि रक्त की हर बंूद कीमती है। डॉ. प्रताप मिढ्ढा ने कहा कि रक्तदान करने में कोई संकोच नहीं करना चाहिए। रक्तदान करने के बाद फिर तेजी से रक्त बनना आरंभ हो जाता है। राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना जिलाध्यक्ष महेंद्रसिंह परमार ने कहा कि रक्तदान करना आपस में प्रेम व सेवा भाव सिखाता है। स्वैच्छिक रूप से रक्तदान करना अमूल्य दान है। इस मौके डॉ. वर्षा शर्मा, धर्मेन्द्रसिंह ने भी विचार व्यक्त किए।
युवाओं ने उत्साह से किया रक्तदान
शिविर में युवाओं में रक्तदान को लेकर खासा उत्साह देखा गया। डॉ. रजतदास, बीके ज्योति, बीके संजीवनी आदि के नेतृत्व में रक्तदाताओं ने ५३१ यूनिट रक्तदान किया।

Rajuram jani Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned