SIROHI सीएम साहब! शिवगंज शहर को सीवरेज का इंतजार, वर्ष 2013 में आपने ही की थी बजट घोषणा

शिवगंज. पाली व सिरोही जिले की सीमा बसे शिवगंज एवं सुमेरपुर व्यापारिक केन्द्र के रूप में विशिष्ट पहचान बनाए हुए हैं लेकिन यहां सीवरेज सिस्टम तक नहीं है।

By: Bharat kumar prajapat

Updated: 10 Mar 2019, 09:02 AM IST

शिवगंज. पाली व सिरोही जिले की सीमा बसे शिवगंज एवं सुमेरपुर व्यापारिक केन्द्र के रूप में विशिष्ट पहचान बनाए हुए हैं लेकिन यहां सीवरेज सिस्टम तक नहीं है।
हालांकि, वर्ष 2013 में कांग्रेस सरकार के समय बजट करीब 45 करोड़ रुपए में सीवरेज सिस्टम की घोषणा की गई थी। योजना के तहत दोनों शहरों में सीवरेज के साथ ही संयुक्त ट्रीटमेंट प्लांट भी स्वीकृत किया गया था। अब इसे स्थानीय जनप्रतिनिधियों की नाकामी ही समझा जाएगा कि पिछले पांच सालों में सुमेरपुर में सीवरेज सिस्टम अस्तित्व में आ चुका है लेकिन शिवगंज के साथ सौतेला व्यवहार ही किया गया। ऐसे में शिवगंज को आज भी सीवरेज का इंतजार है।
गौरतलब है कि जवाई नदी के किनारे पर बसे शिवगंज व सुमेरपुर भले ही दो अलग-अलग जिलों की सीमाओं में स्थित हो लेकिन दोनों कस्बों की भौगोलिक, सामाजिक एवं आर्थिक गतिविधियां एक समान है। इन दोनों कस्बों के बाशिंदों को नालियों व सड़कों पर बहने वाले पानी से निजात दिलाने के उद्देश्य को लेकर वर्ष 2013 में राज्य सरकार ने करीब 45 करोड़ रुपए बजट घोषणा में स्वीकृत किए थे। इसके तहत सीवरेज के अलावा दोनों के लिए एक ही स्थान पर ट्री्रटमेंट प्लांट भी तैयार किया जाना था। ट्री्रटमेंट प्लांट के जरिए रिसाइक्लिंग कर उसका उपयोग सिंचाई अथवा अन्य कार्यों के लिए किया जाना था।


सुमेरपुर में अस्तित्व में सीवरेज
स्वीकृति के बाद सुमेरपुर में जनप्रतिनिधियों के प्रयासों के चलते सीवरेज का कार्य युद्ध स्तर पर शुरू भी हो गया। बीते पांच सालों में यह सिस्टम अस्तित्व में भी आ चुका है। अब इसे स्थानीय जनप्रतिनिधियों की नजरअंदाजी ही कहा जाएगा कि शिवगंज शहरवासियों को आज भी इसका इंतजार है। जबकि अब तो सिरोही एवं आबूरोड में भी सीवरेज योजना स्वीकृत हो चुकी है।

एक को मिली सौगात, दूसरे की अनदेखी
घोषणा के बाद यह उम्मीद जगी थी कि दोनों शहरों को शीघ्र ही सीवरेज की सुविधा उपलब्ध हो जाएगी। लेकिन बाद में सुमेरपुर में सीवरेज के लिए वित्तीय स्वीकृति मिल गई लेकिन शिवगंज का मामला अटक गया। उसके बाद पांच साल बीत गए लेकिन किसी ने सीवरेज को लेकर कोई ठोस प्रयास नहीं किए। नतीजतन आज भी शिवगंज को सीवरेज का इंतजार है।

&शिवगंज और सुमेरपुर शहर के लिए वर्ष 2013 में कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में मुख्यमंत्री गहलोत ने बजट घोषणा में सीवरेज मय ट्रीटमेंट प्लांट के लिए 45 करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए थे। लेकिन बाद में सरकार बदल गई। भाजपा सरकार के कार्यकाल के दौरान यहां के विधायक राज्यमंत्री भी बने लेकिन सीवरेज को लेकर कोई ध्यान नहीं दिया। परिणामस्वरूप शिवगंज शहर को स्वीकृति के बाद भी योजना का लाभ नहीं मिल सका।
-संयम लोढ़ा, विधायक सिरोही
&स्वीकृति के बावजूद पिछले पांच साल में शिवगंज को सीवरेज का लाभ नहीं मिला। मुख्यमंत्री के आज सिरोही प्रवास के दौरान अब इस मामले उनके ध्यान में लाया जाएगा। शिवगंज को भी सीवरेज से जोडऩे का प्रयास किया जाएगा।
-जीवाराम आर्य, जिलाध्यक्ष, जिला कांग्रेस कमेटी, सिरोही

Bharat kumar prajapat Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned