सिरोही. करीब ढाई करोड़ की लागत से बन रहे गौरव पथ में गुणवत्ता और निर्धारित मापदंड का पालन नहीं किया गया। सार्वजनिक निर्माण विभाग और ठेकेदार की मिलीभगत का आरोप लगाते हुए उच्च स्तरीय जांच कर ठेका निरस्त करने की मांग की गई है। नगर परिषद के पार्षदों ने शनिवार को एडीएम को ज्ञापन देकर गौरव पथ के डामरीकरण में लीपापोती से अवगत करवाया। इस पर एडीएम ने निर्माण सामग्री का नमूना लेने की बात कही। ज्ञापन में बताया कि नगर परिषद क्षेत्र में गोयली से भटकड़ा सर्किल तक गौरव पथ बनाया जा रहा है। ठेकेदार द्वारा मिट्टी साफ किए बिना थोड़ी डामर डालकर रोड़ी बिछाई जा रही है। पार्षदों ने शनिवार को मौके पर देखा कि रोड हाथ से ही टूट रही है। वाहनों की आवाजाही के कारण जग-जगह सड़क बिखरने लगी है। इन हालात में यह कितने दिन चलेगी? अंदाजा लगाया जा सकता है। मौके पर ठेकेदार के लोगों को टोका तो बोले, ऐसे ही काम होगा। साथ ही, अभद्रता भी की। ज्ञापन में चेतावनी दी कि घटिया सड़क निर्माण की जांच कर एफआईआर दर्ज नहीं की गई तो धरना दिया जाएगा। ज्ञापन देने वालों में नेता प्रतिपक्ष ईश्वरसिंह डाबी, जितेन्द्र सिंघी, वीरेन्द्र एम चौहान, गोपीराम मेघवाल, मारूफ हुसैन, प्रवीण कुमार राठौड़, शैतानराम, भील समाज के जिलाध्यक्ष तलसाराम भील, सारणेश्वर मानव सेवा समिति के उपाध्यक्ष कन्हैयालाल पटेल शामिल थे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned