scriptCuriosity became the flight of bats in the sky during the day | कौतूहल बना दिन में चमगादड़ों का आसमां में उड़ान भरना | Patrika News

कौतूहल बना दिन में चमगादड़ों का आसमां में उड़ान भरना

-अमूमन रात में ही उडऩे वाले चमगादड़ों को भारी तादाद में मंडराते देखने के लिए जमा हुई लोगों की खासी भीड़

सिरोही

Updated: January 21, 2022 09:24:10 pm

माउंट आबूा। पर्वतीय पर्यटन स्थल माउंट आबू में दिन के समय अचानक चमगादड़ों का भारी तादाद में झुंड में उडऩा लोगों के लिए कौतूहल का विषय बन गया। दिन में पेड़ों, पर्वतों की गुफाओं व खंडहरों में लटककर आराम फरमाने व रात के समय विचरण कर भोजन, पानी समेत समस्त गतिविधियां करने वाले चमगादड़ शुक्रवार को भरी दुपहरी में तेज धूप के बीच आसमान में मंडराते देख लोग आश्चर्यचकित हो गए और तरह-तरह के कयास लगाते सुनाई दिए।
कौतूहल बना दिन में चमगादड़ों का आसमां में उड़ान भरना
कौतूहल बना दिन में चमगादड़ों का आसमां में उड़ान भरना
दोपहर के वक्त चमगादड़ों की उड़ान
दोपहर के समय राजभवन व सर्वे ऑफ इंडिया के ऊपर आसमान में चमगादड़ों का झुंड उड़ता दिखाई दिया। देखते ही देखते शहर में यह खबर जंगल में आग की तरह फैल गई। लोग सडक़ों, बाजारों व आवासीय भवनों की छतों पर एकत्रित होकर आसमान में उड़ते चमगादड़ों को देखकर चर्चा में मशगूल रहे।
भविष्य का संदेश देते हैं चमगादड
जानकारों के अनुसार चमगादड़ अपने आप में एक अत्यंत संवदेनशील प्राणी है। जो आने वाले भविष्य में भूकंप, किसी अतिवृष्टि, तूफान समेत अन्य किसी प्रकार के प्राकृतिक व मानवनिर्मित आपदा आने की संभावना को भांपते हुए स्वयं के लिए सुरक्षित स्थान ढंूढने की कवायद में इस तरह की गतिविधियों में संलग्र होती हैं।
इनका कहना है
&दोपहर के समय धूप खिलने के बावजूद माउंट आबू में चमगादड़ों के भारी संख्या में उड़ान भरने से भविष्य के प्रति चिंता होने लगी है। जो किसी प्रकार की अनहोनी अथवा कोई प्राकृतिक आपदा हो सकती है। - बाबूसिंह परमार, माउंट आबू
-भारी संख्या में चमगादड़ों का दिन में अचानक उड़ान भरना अपने आप में किसी आश्चर्य से कम नहीं है। इससे निकट भविष्य में होने वाली किसी प्राकृतिक आपदा का संकेत मिलता है। कोई प्राकृतिक आपदा आने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। - रामसिंह बुजुर्ग, सालगांव, माउंट आबू।
-दिन के समय भारी संख्या में चमगादडों का झुंड में उडऩा कोई खतरे का संकेत हो सकता है। चमगादड़ों का कभी गोलाई में, कई छितराई अवस्था में, कभी राजभवन स्थित पेड़ों पर एक साथ बैठकर फिर उडऩे का क्रम अपराह्न तक जारी रहा। जो लोगों के लिए चिंतामिश्रित आश्चर्य का विषय बना हुआ है। - विजयसिंह, ओरिया, माउंट आबू
-दिन में चमगादड़ों के उडऩे के दो प्रमुख कारण हो सकते हैं। या तो उन्हें किसी की ओर से डिस्टर्ब किया गया हो या फिर भोजन की तलाश में उड़े हों। हालंाकि शोर-शराबा, साउंड आदि तो उन्हें सुनाई देता है, पर उन्हें दिन में दिखाई नहीं देता। अक्सर रात के समय ही चमगादड़ों का मूवमेन्ट रहता है। - विजय शंकर पांडेय, डीएफओ, माउंट आबू

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.