रिमझिम बारिश में सरकार व प्रशासन पर बैखोफ बरसे सिरोही के यह पूर्व विधायक

विभिन्न मांगों को लेकर प्रदर्शन एएसपी: कलक्ट्रेट मुख्य गेट के अंदर भीड़ को नहीं घुसने देंगे

पूर्व विधायक बोले: मेरे लिए चाय लाने वाले वर्दी में रौब झाडऩे लग गए

By: Bharat kumar prajapat

Published: 20 Jul 2018, 11:12 AM IST

सिरोही. भाजपा की ओर चुनाव पूर्व किए वादों को पूरा करने की मांग को लेकर जिला कांग्रेस कमेटी के आह्वान पर गुरुवार को अहिंसा सर्किल से कलक्ट्रेट तक पैदल मार्च निकालकर प्रदर्शन किया गया। कांग्रेसजन सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कलक्ट्रेट तक पहुंचे तो पुलिस ने मुख्य गेट पर रोक दिया और अंदर नहीं घुसने दिया। इस दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पन्नालाल मीणा भीड़ के बीच पहुंच गए और लोगों को वहां हटने के लिए धमकी दी। इस पर लोग आक्रोशित हो गए और पुलिस के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। वहीं पूर्व विधायक संयम लोढा और एएसपी के बीच तीखी नोक-झोंक हो गई। जब एएसपी ने कहा कि भीड़ को मुख्य द्वार के अंदर नहीं घुसने देंगे तो जवाब में पूर्व विधायक ने कहा, ‘ये मेरे लिए चाय लेकर आते थे और आज सत्ता नहीं है तो वर्दी में रौब झाडऩे आ गए। वर्दी के रौब से हम डरने वाले नहीं हैं। अगर हिम्मत है तो हमें जेल में डाल दो।’

सीआई साहब! जय-जय भीम आप भी बोलो
प्रदर्शन के दौरान कांग्रेसजनों ने शहीद भगतसिंह, डॉ. भीमराव अम्बेडकर जिंदाबाद के नारे लगाए। इस दौरान जय-जय भीम के नारे भी लगाए। इस दौरान पूर्व विधायक ने कोतवाली थाना प्रभारी आनंद कुमार से कहा कि ‘सीआई साहब! जय-जय भीम तो आप भी बोल दो।’

पुख्ता बंदोबस्त रहे
प्रदर्शन को लेकर पुलिस प्रशासन की ओर से पुख्ता बंदोबस्त किए गए थे। कलक्ट्रेट का मुख्य गेट बंद करने के साथ ही बेरिकेड्स लगाकर पर्याप्त पुलिस जाप्ता तैनात किया। एडीएम आशाराम डूडी, एएसपी पन्नालाल मीणा, एसडीएम नाथूसिंह राठौड़, डीएसपी प्रेम, कोतवाली थाना प्रभारी आनंद कुमार, सीआई गोरधनराम, अनादरा थाना प्रभारी कमलेश गहलोत, उप निरीक्षक अनिता रानी समेत अन्य पुलिस अधिकारियों के नेतृत्व में पर्याप्त जाप्ता तैनात रहा। इतना ही नहीं वज्र वाहन के जाप्ते को भी तैनात किया गया।

प्रमुख मार्गों से गुजरा पैदल मार्च
कांग्रेस का पैदल मार्च पूर्व विधायक लोढा व जिलाध्यक्ष जीवाराम आर्य के नेतृत्व में अहिंसा सर्किल से रवाना होकर पैलेस रोड, सिनेमा गली, सरजावाव दरवाजा, बस स्टैण्ड, अम्बेडकर सर्किल, भाटकड़ा होते हुए कलक्ट्रेट पहुंचा।

पहले बाहर रोका, फिर गेट में घुसने नहीं दिया
पैदल मार्च कलक्ट्रेट पहुंचा तो पुलिस ने जिला परिषद के पास गेट पर लोगों को रोक दिया। काफी देर विरोध-प्रदर्शन के बाद गेट खोला, लेकिन मुख्य प्रवेश द्वार बन्द कर दिया। ऐसे में भीड़ ने भाजपा सरकार सहित जिला प्रशासन के विरुद्ध नारेबाजी शुरू कर दी।

पुलिस-प्रशासन पर लगाए आरोप
पूर्व विधायक लोढा ने पुलिस व प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाए। कलक्टर पर पटवारियों व तहसीलदारों से बंधी वसूलने तथा पुलिस पर निर्दोष लोगों को फंसाने व शराब की दुकानों से मंथली वसूलने का आरोप लगाया।

ये रहे मौजूद
इस दौरान पूर्व विधायक गंगाबेन गरासिया, पीसीसी सदस्य लकमाराम कोली, मजदूर यूनियन इंटक जिलाध्यक्ष इन्दरसिंह देवड़ा, पूर्व सांसद पारसाराम मेघवाल, सिरोही ब्लॉक अध्यक्ष किशोर पुरोहित, आबूरोड के रसीद खान गौरान, पिण्डवाड़ा से प्रेमाराम देवासी, शिवगंज से हरीश राठौड़, माउण्ट आबू से नारायणसिंह भाटी, आबूरोड प्रधान लालाराम गरासिया, महिला कांग्रेस जिलाध्यक्ष हेमलता शर्मा, एनएसयूआई जिलाध्यक्ष कुशल देवड़ा, सेवादल जिला संगठक भूराराम कोली, पूर्व लोकसभा प्रत्याशी संध्या चौधरी, जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष सवाराम चौधरी, आनन्द जोशी, जोगाराम मेघवाल, सुभाष चौधरी, महामंत्री भगवतसिंह देवड़ा, हमीद कुरैशी, सचिव मुख्तियार बाबू खां आदि मौजूद थे।

...और कलक्टर ने एडीएम को दे दिया चार्ज
सिरोही. कांग्र्रेसजनों ने सभी को कलक्ट्रेट के अंदर जाने देने या कलक्टर को बाहर बुलाकर ज्ञापन देने की मांग रखी। इस दौरान जिला कलक्टर बाबूलाल मीणा खुद चैम्बर में मौजूद थे और बाहर प्रदर्शन हो रहा था। इस बीच, नाटकीय घटनाक्रम के तहत मुख्य सचिव की बैठक में जाने का कहकर कलक्टर ने दोपहर बाद कार्यभार अतिरिक्त जिला कलक्टर आशाराम डूडी को देने का आदेश जारी कर दिया। इसके बाद कांग्रेसजनों को जिला कलक्टर के बाहर होने के सम्बंध में आदेश की कॉपी दिखाई गई। फिर एडीएम ने बतौर कार्यवाहक जिला कलक्टर मौके पर पहुंचकर ज्ञापन लिया।

लोक गीत से महंगाई पर कटाक्ष
पुलिस प्रशासन की ओर से कलक्ट्रेट का मुख्य द्वार नहीं खोलने पर कांग्रेसजन धरने पर बैठ गए। इस दौरान महिलाओं ने भजन-कीर्तन किए। वहीं कई लोगों ने लोक गीतों के माध्यम से महंगाई व केन्द्र व राज्य सरकार की नीतियों पर कटाक्ष किया।

बारिश में भी डटे रहे
प्रदर्शन के दौरान बारिश का दौर शुरू हो गया लेकिन लोग कलक्ट्रेट के गेट पर डटे रहे। हालांकि, प्रशासन ने प्रतिनिधि मंडल को अंदर आकर ज्ञापन देने की बात कही लेकिन लोग गेट खोलने की मांग पर अड़ गए। आखिरकार एडीएम डूडी ने बारिश में गेट पर आकर ज्ञापन लिया। इसके बाद धरना समाप्त कर दिया।

ये हंै प्रमुख मांग
जिले में नर्मदा नहर का पानी लाने, राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थानीय वाहनों को टोल मुक्त करने, जिले में हुए गेहूं घोटाले के आरोपितों को गिरफ्तार करने, जिला मुख्यालय को रेल लाइन से जोडऩे के लिए सर्वे के अनुसार पहले वर्ष का बजट जारी करने, जिले के किसानों का 58 5 करोड़ का कर्जा माफ करने, क्रेडिट सोसायटी में जिले के लोगों का डूृबा पैसा निदेशकों की सम्पत्ति कुर्क करके लौटाने, महंगाई कम करने, पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने, बजरी पर लगी रोक हटाने, रेल, रोडवेज, रसोई गैस, रेलवे प्लेट फार्म टिकट का बढ़ा हुआ किराया वापस लेने, गत वर्ष खरीफ फसल के शत प्रतिशत खराबे की इनपुट सब्सिडी तुरन्त जारी करने सहित पानी-बिजली एवं चुनावों में किए गए वादों को पूरा करने की मांग रखी।

Bharat kumar prajapat Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned