scriptFear of creating problem of 'leave animals' in Shivganj | शिवगंज में 'छुट्टा पशुओं' की समस्या पैदा होने की आशंका | Patrika News

शिवगंज में 'छुट्टा पशुओं' की समस्या पैदा होने की आशंका

बेसहारा डोलते पशुओं के वाहन चालकों के चपेट में आने की घटनाएं बढ़ी

सिरोही

Updated: March 28, 2022 03:09:48 pm

शिवगंज. शहर की सड़कों व गली-मोहल्लों में डोलती गायों व गोवंश को लेकर विकट स्थिति है। कई मामलों में पशुपालक 'गरज पड़े कुछ और है, गरज सरे कुछ और' की कहावत को चरितार्थ करते हुए जब तक गाय दूध देती है तब तक तो उसकी परवरिश करते है, पर जब दूध देना बंद कर देती है तो खूंटे से अपने नसीब पर जिंदा रहने के लिए छोड़ देते हैं। दुहने नहीं देने वाली गायों व बछड़ों को यूं ही उनके हाल पर छोड़ने का सिलसिला जारी रहा तो यह कहने में कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी कि उत्तर प्रदेश की तरह यहां भी ग्रामीण इलाकों में 'छुट्टा पशुओं' की समस्या गिनती के महीनों में ही विकराल रूप लेने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। गांवों के साथ शहरों में भी बेसहारा पशुओं के वाहन चालकों को चपेट में लेकर घायल करने की घटनाओं में इजाफा होने की आशंका बढ़ जाएगी।
शिवगंज में 'छुट्टा पशुओं' की समस्या पैदा होने की आशंका
शिवगंज में 'छुट्टा पशुओं' की समस्या पैदा होने की आशंका
गोशालाओं की व्यवस्थाएं भी हो रही प्रभावित

जानकार बताते हैं कि बेशक बेसहारा सड़कों पर डोलते गोवंश को गोशालाओं में आश्रय भी मिल जाता है, पर कई बार नंदियों को आश्रय नहीं मिल पाता। वैसे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत इस समस्या को भांपते हुए नंदी शालाएं खोलने की घोषणा भी कर चुके हैं, पर अभी भी अधिकतर जगह नंदी शालाएं शुरू नहीं हो पाई है। कई जगह गोसेवक इनके लिए चारा-पानी व आश्रय की व्यवस्था कर देते है तो कई जगह गोसेवा की आड़ में अपने निहित स्वार्थों की पूर्ति करने से कथित गोसेवक बाज नहीं आते। जिसका सीधा असर गोशालाओं पर पड़ता है। जानकारों के मुताबिक गोशालाओं में दान के प्रवाह की रफ्तार भी धीमी हो जाने से कई गोशालाओं में तो चारे-पानी की व्यवस्था करने में ही गोसेवकों को पसीने आ जाते हैं।
घायल पशुओं के प्रति मंगलकारी सेवा

यदि आप गोसेवा की दिवानगी देखना चाहते है तो उपखंड क्षेत्र के पालड़ी एम. चले जाइए। जहां पूर्व पंचायत समिति सदस्य मंगल मीना पिछले कई सालों से राजमार्ग पर घायल होने वाले पशुओं को रेस्क्यू करने का काम कर रहे हैं। अब तक इन्होंने दुर्घटना में घायल हुए भारी संख्या में गोवंश का रेस्क्यू कर उनका उपचार करवाया है। दिलचस्प बात तो यह है कि वे इस सेवा के लिए न तो किसी से चंदा लेते है और ना ही दान। पिछले कई सालों से खुद की कमाई से ही यह सेवा कार्य कर रहे हैं। घायल गोवंश के लिए वाहन की व्यवस्था करना या फिर अन्य खर्च, वे खुद ही करते हैं। हां, यदि कोई अपनी इच्छा से दे दें तो ठीक वरना किसी से मांगते नहीं हैं।
इनका कहना है...

हादसे में घायल और बीमार गोवंश की जानकारी मिलने पर उन्हें गोशाला लाकर ही उपचार करवाया जाता है। कई संस्था वाले भी घायल गोवंश को उपचार के लिए गोशाला लाकर छोड़ जाते हैं। गोशाला को तो उनका उपचार करवाना ही पड़ता है। कई लोग तो गोसेवा के नाम पर सिर्फ सोशल मीडिया में छाए रहने के लिए फोटो खिंचवाते हैं।
- फतेहसिंह राव, अध्यक्ष, गोशाला शिवगंज।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

लगातार दूसरी बार हैदराबाद पहुंचे PM मोदी से नहीं मिले तेलंगाना CM केसीआरUP Budget 2022 : देश में पांच इंटरनेशनल एयरपोर्ट और पांच एटीएस वाला यूपी पहला राज्य, होंगी ये बड़ी सुविधाएंराष्ट्रीय खेल घोटाला: CBI ने झारखंड के पूर्व खेल मंत्री के आवास पर मारा छापाIRCTC 21 जून से शुरू करेगी श्री रामायण यात्रा स्पेशल ट्रेन, जानिए इस यात्रा से जुड़ी सभी जानकारीIPL में MS Dhoni, Rohit Sharma, Virat Kohli हुए 150 करोड़ के पार, कमाई जानकर आप हो जाएंगे हैरानसुप्रीम कोर्ट ने सेक्स वर्क को भी माना प्रोफेशन, पुलिस नहीं करेगी परेशान, जारी किए निर्देशजर्मनी ने 'Covaxin' को दी मंजूरी, यात्रा करने वाले लाखों लोगों को नहीं दिखाना होगा सर्टिफिकेटमहंगाई पर आज केंद्र की बड़ी बैठक, एग्री सेस हटाने और सीमेंट के दाम कम करने पर रहेगा जोर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.