scriptGoseva business spreading like mushrooms | कुकुरमुत्तों की तरह फैल रहा गोसेवा का कारोबार | Patrika News

कुकुरमुत्तों की तरह फैल रहा गोसेवा का कारोबार

  • गोशालाओं की व्यवस्थाएं हो रही प्रभावित
  • जिस पशु के शरीर के भीतर 33 करोड़ देवी देवताओं का वास वे सडक़ों पर पड़े कचरों में मुंह मारने का हो रही मजबूर
  • गोसेवा की आड़ में निहित स्वार्थो की पूर्ति करने वालों की पौ-बारह

सिरोही

Updated: March 26, 2022 02:22:00 pm

शिवगंज. भारत की प्राचीन संस्कृति में वैदिक काल का वह दौर जिसमें गायों की संख्या व्यक्ति की समृद्धि का मानक हुआ करती थी। उसके उलट आज के दौर में व्यक्ति गाय के दूध का उपयोग तो करना चाहता है,मगर उसे अपने घर में नहीं रखना चाहता। सनातन धर्म में गाय को माता का स्थान देते हुए इसे पवित्र एवं पूजनीय माना जाता है। कहा यह भी जाता है कि एक गाय ही ऐसा पशु है जिसमें 33 करोड़ देवी देवताओं का वास होता है। विडम्बना है कि आज के समय में जिनके घरों में गाय है वे उसका उपयोग करने के बाद स्वछंद विचरण के लिए छोड़ रहे है। परिणाम स्वरूप इन्हें आवारा कह कर पुकारा जाता है। सडक़ पर खुले घुमते इन बेसहारा गोवंश की निरंतर बढ़ती संख्या की वजह से ही इनकी आड़ में गोसेवा का गोरखधंधा चलाने वालों का कारोबार भी कुकुरमुत्तों की तरह फैलता जा रहा है। नतीजतन, इसका असर अब सीधे तौर पर संवैधानिक तौर पर चलाई जा रही गोशालाओं की आर्थिक स्थिति पर पड़ रहा है।
शिवगंज. घायल पशु को बैलगाड़ी में उपचार के लिए ले जाते मंगल मीना।
शिवगंज. घायल पशु को बैलगाड़ी में उपचार के लिए ले जाते मंगल मीना।
गौरतलब है कि पुरातन काल में प्रत्येक घर में गोवंश रखा जाता था। लोग उसे बड़े प्रेम से पालते थे। कालांतर में आधुनिकता के दौर की वजह से यह गोवंश घरों से निकलकर गोशालाओं तक सीमित रह गया। वर्तमान समय में जो भी लोग अपने घरों पर गोवंश पालते है, वे भी उन्हें अपने घरों में रखने के बजाय उसका दूध निकालने के बाद खुले में घुमने के लिए छोड़ देते है। ये गोवंश दिन भर बाजारों व गली मौहल्लों में भ्रमण कर अपना पेट भरते है और सांझ ढलने पर मालिक उसे फिर से अपने घर ले जाकर बांध देते है। यह क्रम अनवरत चलता रहता है। इनमें से कई गोवंश ऐसे भी है जो अब दुधारू नहीं रहे। ऐसे में उनके मालिकों ने उन्हें बेसहारा छोड़ दिया है। इस प्रकार के गोवंश अब अपना पेट भरने के लिए इधर-उधर मुंह मारते दिखाई देते है।
गोसेवा की आड़ में पनप रहा गौरखधंधा

सडक़ों पर बेसहारा घुम रहे इन गोवंशों के चारा पानी की समस्या का तय समय पर निराकरण नहीं होने तथा स्वायत्तशासी संस्थाओं व स्थानीय गोशालाओं की इनके प्रति उदासीनता के परिणाम स्वरूप गोसेवा की आड़ में अपने निहित स्वार्थो की पूर्ति करने वालों ने इसमें फायदा देख गोसेवा के नाम से संस्थाएं बनाकर लोगों से पुण्य कमाने का प्रलोभन देकर चांदी काटने वालों की संख्या अब उपखंड क्षेत्र में निरंतर बढ़ती जा रही है। जिसका सीधा असर क्षेत्र में संचालित होने वाली गोशालाओं पर पड़ रहा है। पहले वे लोग जो गोसेवा के लिए गोशालाओं में दान किया करते थे। जिससे गोशाला को गोवंश की सेवा में सहयोग मिलता था। वह अब निरंतर घटने लगा है। इधर, सरकार की ओर से समय पर अनुदान नहीं मिलने से गोशालाओं की स्थिति विकट होती जा रही है। गोशाला संचालकों की माने तो कथित गोसेवक किसी घायल गोवंश का रेस्क्यू कर उसे आखिरकार गोशाला में ही लेकर आते है। यहां लाकर वे अपने कार्य की इतिश्री कर लेते है उसके बाद उसका उपचार गोशाला को ही करवाना पड़ता है। ऐसे में इनका कार्य गोवंश को महज चारा डालने तक का ही रह जाता है। इस मामले में प्रशासन का भी मानना है कि इससे गोशालाओं पर असर हो रहा है। यदि ऐसा है तो इन स्वयंसेवी संस्थाओं का अपना सेंटर खोलकर वहां उनका उपचार करवाना चाहिए ताकि गोशालाओं की अर्थ व्यवस्था पर इसका असर नहीं हो। साथ ही हर साल इस प्रकार की संस्थाओं की ऑडिट भी होना जरुरी है।
यहां दिखती है पशु सेवा की दिवानगी

यदि आप गोसेवा की दिवानगी देखना चाहते है तो उपखंड क्षेत्र के पालड़ी एम चले जाइए। जहां पूर्व पंचायत समिति सदस्य मंगल मीना पिछले कई सालों से राजमार्ग पर घायल होने वाले पशुओं को रेस्क्यू करने का काम कर रहे है। अब तक इन्होंने दुर्घटना में घायल हुए सैकड़ों की संख्या में गोवंश का रेस्क्यू कर उनका उपचार करवाया है। इसके लिए वे किसी से चंदा एकत्रित करते है या फिर प्रचार कर दान के रूप में रूपया एकत्रित करते है,ऐसा बिल्कुल नहीं है। पिछले कई सालों से गोवंश पर अपनी कमाई का ही पैसा खर्च कर रहे है। जिसमें घायल गोवंश के लिए वाहन की व्यवस्था करना हो या फिर अन्य खर्च। यदि किसी ने अपनी स्वेच्छा से दे दिया तो ठीक है अन्यथा किसी से इसकी मांग नहीं करते। इतना ही नहीं राजमार्ग पर घायल होने वाले पशुओं के लिए पशु एम्बूलेंस की व्यवस्था करवाने के लिए वे पिछले आठ साल से भी अधिक समय से निरंतर संघर्ष कर रहे है। तत्कालीन भाजपा सरकार के कार्यकाल में तो उन्होंने पशु एम्बूलेंस के लिए अपने खून से पत्र लिखकर सरकार को भेजा था। उनका कहना है कि जब तक सरकार राजमार्ग पर घायल होने वाले पशुओं के लिए एम्बूलेंस की व्यवस्था नहीं करवा देती तब तक उनका संघर्ष अनवरत जारी रहेगा।
उपचार की जिम्मेदारी गोशाला की

हादसे में घायल और बीमार होने वाले गोवंश की जानकारी मिलने पर गोशाला की ओर से उन्हें गोशाला लाकर उपचार करवाया जाता है। साथ ही अन्य संस्थाओं वाले भी घायल गोवंश को उपचार के लिए गोशाला ही लाकर छोड जाते है। जिनका गोशाला को उपचार करवाना पड़ता है। कुछ लोग तो गोसेवा के नाम पर सिर्फ सोशल मीडिया में छाए रहने के लिए फोटो खिंचवाते है।
फतेहसिंह राव, अध्यक्ष, गोशाला शिवगंज।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Veer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनName Astrology: इन नाम वाले लोगों के जीवन में अचानक से धनवान बनने का होता है योगफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटबुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामबेहद शार्प माइंड होते हैं इन 4 राशियों के लोग, बुध और शनि देव की रहती है इन पर कृपाज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

कश्मीर में आतंकी हमले में टीवी एक्ट्रेस की मौत, 10 साल के भतीजे पर भी हुई फायरिंगसुरक्षा एजेंसियों ने यासीन मलिक की सजा के बाद जारी किया आतंकी हमले का अलर्टIPL 2022, LSG vs RCB Eliminator Match Result: पाटीदार के दम पर जीता RCB, नॉकआउट मुकाबले में LSG को 14 रनों से हरायाटेरर फंडिंग केस में यासीन मलिक को उम्र कैद की सजा, 10 लाख का जुर्मानायासीन मलिक की सजा से तिलमिलाया पाकिस्तान, PM शहबाज शरीफ, इमरान खान, शाहिद आफरीदी को आई मानवाधिकार की यादAir Force के 4 अधिकारियों की हत्या, पूर्व गृहमंत्री की बेटी का अपहरण सहित इन मामलों में था यासीन मलिक का हाथअमरनाथ यात्रियों को तीन लेयर में मिलेगी सिक्योरिटी, ड्रोन व CCTV कैमरों के जरिए भी रखी जाएगी नजरमहबूबा मुफ्ती ने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा- आप बता दो कि मुसलमानों के साथ क्या करना चाहते हो
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.