scriptno elections in gramdani villages from last 17 years | सिरोही जिले के 20 गांव जहां 17 वर्ष में नहीं हुए चुनाव, जानें क्या है इसकी वजह | Patrika News

सिरोही जिले के 20 गांव जहां 17 वर्ष में नहीं हुए चुनाव, जानें क्या है इसकी वजह

- गांव की अपनी संसद के उद्देश्य बनाए गए ग्रामदानी गांवों के प्रति सरकार की बेरूखी, सरकारें बदली लेकिन गांवों में नहीं करवाए चुनाव
- ग्राम सभा के लिए कार्यपालिका समिति का नहीं हुआ गठन, राजस्व सम्बंधित विभिन्न कामकाज बाधित

सिरोही

Published: April 09, 2022 08:37:01 pm

आबूरोड. गांव के अहम फैसले गांव की संसद में करने के लिए बनाए गए ग्रामदानी गांवों के प्रति सरकार की बेरूखी इन गांवों के विकास में बाधक बन चुकी है। ग्रामसभा में अध्यक्ष व कार्यपालिका समिति का कार्यकाल 3 वर्ष का होने के बावजूद 17 वर्ष बाद भी इन गांवों के चुनाव नहीं हुए हैं। ऐसे में इन गांवों का विकास भी ठप्प थे। गत माह जिला प्रशासन की ओर से इन गांवों में कार्यपालिका के दायित्वों के लिए प्रशासक नियुक्त करने के निर्देश दिए गए थे, हालांकि प्रशासकों की नियुक्ति को लेकर कई ग्रामदानी गांवों के अध्यक्षों ने जिला कलक्टर से मुलाकात कर आपत्ति जताई थी। ऐसे में गांवों अब भी असमंजस की स्थिति बनी हुई है।
सिरोही जिले के 20 गांव जहां 17 वर्ष में नहीं हुए चुनाव, जानें क्या है इसकी वजह
सिरोही जिले के 20 गांव जहां 17 वर्ष में नहीं हुए चुनाव, जानें क्या है इसकी वजह
संत विनोबा भावे की ओर से 1951 में चलाए गए भूदान आंदोलन में स्वैच्छिक भूमि सुधार आंदोलन किया गया था। जिसके बाद ग्रामदान का विचार राज्य में राजस्थान ग्रामदान अधिनियम-1971 के रूप में पारित हुआ। भूमि सम्बंधित विवाद भी ग्रामसभा के जरिए ही सुलझाए जाते हैं। जिले की बात करें तो 20 गांवों को ग्रामदानी गांव बनाया गया था। वर्ष-2005 में हुए ग्रामसभा चुनावों के बाद यहां चुनाव नहीं हुए। कार्यपालिका समिति का गठन नहीं होने से कई भूमि सम्बंधित विवादों के निपटारे समेत राजस्व सम्बंधित कामकाजों में लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सरकार की ओर से भी नियमित चुनाव नहीं करवाने से आमजन की सुविधा के लिए बने ग्रामदानी गांव आफत बन गए हैं। आबूरोड के ग्रामदानी गांवों की बात करें तो सरकार की उपेक्षा के चलते एक भी ग्रामदानी गांव में अब तक ग्रामसभा भवन भी नहीं बन सके हैं। ऐसे में खुले आसमान तले इन गांवों की ग्रामसभा होती है।
बाहर के लोग नहीं खरीद सकते इन गांवों में भूमि
ग्रामदानी गांवों में गांव के लोग अपनी व्यवस्था ग्रामसभा के माध्यम से सम्भालते हैं। गांव में राजस्व सम्बंधित कामकाज जैसे मोटेशन, रजिस्ट्री, वसूली, जमाबंदी, नकल जैसे कार्य ग्रामसभा की सहमति से ही होते हैं। ग्रामदानी गांवों की भूमि ग्राम सभा की होती है। यहां बाहरी लोग भूमि नहीं खरीद सकते हैं। जिले में सर्वाधिक आबूरोड व देलदर तहसील क्षेत्र में 12 ग्रामदानी गांव है। इसमें फोरेस्ट चोटिला, चोटिला, चोरवाव, चंडेला आम्बावेरी, पाबा, निचलाखेजड़ा, आम्बा, भैसासिंह, हाथल, खारा, असावा, अनादरा, टोकरा, अखापुरा खारल, तेलपीखेड़ा, वाड़ेली, कृष्णगंज, निचलीबोर, सबेलिया की फली, निचलागढ़ गांव ग्रामदानी गांव है।
2017 में ग्रामदानी बोर्ड ने दिए थे चुनाव करवाने के निर्देश
गौरतलब हो कि भूदान ग्रामदान बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष के चंडेला आम्बावेरी में एक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचने पर विभिन्न ग्रामदानी गांवों के अध्यक्षों ने गांवों के चुनाव करवाने की मांग उठाई थी। जिसके बाद बोर्ड के निदेशक नित्यानंद शर्मा ने 17 मार्च 2017 को जिला कलक्टरों को पत्र भेजकर ग्रामदानी गांवों के चुनाव करवाने के निर्देश दिए थे, हालांकि आज दिन तक इन गांवों में चुनाव नहीं होने से कार्यपालिका का गठन नहीं हुआ है। इन गांवों के कामकाज के लिए प्रशासक की नियुक्ति की जा रही है, हालांकि प्रशासक की नियुक्ति को लेकर कई ग्रामदानी गांवों के अध्यक्षों ने जिला कलक्टर से समक्ष आपत्ति जताई थी।
जिला कलक्टर ने प्रशासक लगाने के दिए थे निर्देश
हाल स्थिति की बात करें तो गत माह जिला कलक्टर ने 11 मार्च को तहसीलदारों को पत्र भेजकर ग्रामदानी गांवों में चुनाव अवधि पार होने के कारण, ग्रामदानी गांवों में चुनाव सम्पन्न होने व नई कार्यपालिका समिति का गठन होने तक उनके कर्तव्यों का निर्वहन करने के लिए प्रशासक नियुक्त करने के निर्देश दिए गए थे। जिसके विरोध में ग्रामदानी गांवों के अध्यक्षों ने जिला कलक्टर से मुलाकात कर शीघ्र चुनाव करवाने व चुनाव होने तक प्रशासक नियुक्त नहीं करने की मांग की थी।
इन्होंने बताया ...
ग्रामदानी गांवों की कार्यपालिका का कार्यकाल पूरा हो चुका है। जिन गांवों में पूर्व में प्रशासक लगाए गए थे, वहां ना तो चुनाव हुए और ना ही उन गांवों में कामकाज हो रहा है। गत दिनों जिला कलक्टर से मुलाकात कर ग्रामदानी गांवों में प्रशासक नियुक्त नहीं कर शीघ्र चुनाव करवाने की मांग की गई थी।
- लकमाराम गरासिया, अध्यक्ष, सबेलिया फली चंडेला, आबूरोड
........................................
रेवदर क्षेत्र में ग्रामदानी गांवों में प्रशासक लगाए गए हैं। आबूरोड में अब तक प्रशासक नहीं लगाए गए हैं। जिला प्रशासन से गत दिनों ही ग्रामदानी गांवों के चुनाव करवाने की मांग की गई थी, ताकि गांवों में राजस्व सम्बंधित कामकाज सुचारू रूप से हो सके।
- गेनाराम गरासिया, अध्यक्ष, खारा, आबूरोड.
........................................
ग्रामदानी गांवों में चुनाव को लेकर ग्रामदानी बोर्ड से अब तक कोई निर्देश नहीं मिले हैं। प्रशासकों की नियुक्ति के लिए एक माह पूर्व जिला कलक्टर से निर्देश मिले थे। जिसकी पालना की गई है।
- दिनेशकुमार साहू, तहसीलदार, आबूरोड

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मस्जिद: नौ तालों में कैद वजूखाना, दो शिफ्टों में निगरानी कर रहे CRPF जवान, महंतो का नया दावापाकिस्तान व चीन बॉडर पर S-400 मिसाइल तैनात करेगा भारत, जानिए क्या है इसकी खासियतप्रयागराज में फिर से दिखा लाशों का अंबार, कोरोना काल से भयावह दृश्य, दूर-दूर तक दफ़नाए गए शव31 साल बाद जेल से छूटेगा राजीव गांधी का हत्यारा, सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेशगुजरातः चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, हार्दिक पटेल ने दिया इस्तीफा, BJP में शामिल होने की चर्चाकान्स फिल्म फेस्टिवल में राजस्थान का जलवा, सीएम गहलोत ने जताई खुशीऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का बड़ा फैसला, ज्ञानवापी सर्वे मामले को टेक ओवर करेगा बोर्डआतंकियों के निशाने पर RSS मुख्यालय, रेकी करने वाले जैश ए मोहम्मद के कश्मीरी आतंकी को ATS ने किया गिरफ्तार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.