अब निर्माण कार्यों की गुणवत्ता खुद जांच सकेंगी पंचायत समितियां

सिरोही जिले की 164 ग्राम पंचायत और राज्य की 98 91 ग्राम पंचायतों के सरपंच और ग्राम सचिवों को सुविधा मिलेगी।

By: mahesh parbat

Published: 13 Mar 2018, 09:53 AM IST


सिरोही. अब पंचायत समिति स्तर पर होने वाले निर्माण कार्यों की गुणवत्ता के लिए सरपंच व ग्रामसेवक या किसी भी अधिकारी को सार्वजनिक निर्माण विभाग की प्रयोगशाला के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। अब जांच पंचायत समिति स्तर पर स्थापित होने वाली गुणवत्ता नियंत्रण की प्रयोगशाला में
की जाएगी।
सिरोही जिले की १६४ ग्राम पंचायत और राज्य की 98 91 ग्राम पंचायतों के सरपंच और ग्राम सचिवों को सुविधा मिलेगी।
जिले में पांच और राज्य की 295 पंचायत समितियों में प्रयोगशाला स्थापित की जा रही है। उल्लेखनीय है कि ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग सिरोही सहित राज्य की हर पंचायत समिति में निर्माण कार्यों की गुणवत्ता नियंत्रण करने के लिए एक-एक प्रयोगशाला स्थापित कर रहा है। पंचायत समिति में निर्माण कार्य सामग्री की जांच के लिए मशीन सहित अन्य उपकरणों की आपूर्ति हो चुकी है। अब हर पंचायत समिति में मशीनों की खरीद कर प्रयोगशाला स्थापित की जानी है। एक पंचायत समिति में दो लाख 70 हजार रुपए तक खर्च का अनुमान है।
यहां स्थापित होंगी प्रयोगशाला
सिरोही, शिवगंज, पिण्डवाड़ा, आबूरोड तथा रेवदर पंचायत समिति में गुण नियंत्रण प्रयोगशाला स्थापित की जानी है। ग्राम पंचायत एवं पंचायत समिति क्षेत्र में होने वाले निर्माण कार्यों की गुणवत्ता की जांच होगी। हालांकि राज्य सरकार ने प्रयोगशाला में जांच के लिए अभी तक तकनीकी कार्मिकों की नियुक्ति नहीं की है।
यह है उद्देश्य
जिले में प्रयोगशाला की कमी होने से रोड सहित अन्य कार्यों की गुणवत्ता की जांच समय पर नहीं हो पा रही थी। इसी को लेकर सरकार ने अब पंचायत समिति स्तर पर गुणवत्ता प्रयोगशाला खोलने का निर्णय लिया है।
इनकी होगी जांच
राज्य सरकार की के माध्यम से किसी भी एजेंसी के द्वारा पंचायत समिति स्तर से होने वालो कामों की जांच की जाएगी।इसमें ग्राम पंचायतों में बनने वाले सीसी रोड, इंटरलोकिंग, ग्रेवल सड़क आदि की जांच होगी। इनमें अगस्त २०१६ के बाद जो भी काम हुए उनकी जांच के लिए प्रयोगशाला बनाई जा रही है। इसके लिए जिला मुख्यालय पर इलेक्ट्रोनिक कंप्रेशन टेस्टिंग मशीन, कोर कटर आदि भी आ गए हैं। भवन भी बनकर तैयार हो गया है।
प्रयोगशाला बनने से पंचायत स्तर पर निर्माण होने वाले हर कार्य की गुणवत्ता की समय पर जांच होगी। इससे काम में पारदर्शिता आएगी।
-प्रज्ञा कंवर, प्रधान पंचायत समिति सिरोही

mahesh parbat
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned