नि:शुल्क प्रवेश के लिए एक और मौका

सिरोही। निजी स्कूलों में अपने लाड़ले को नि:शुल्क पढ़ाने की चाह रखने वाले कमजोर वर्ग के...

By:

Published: 16 Jan 2015, 12:03 PM IST

सिरोही। निजी स्कूलों में अपने लाड़ले को नि:शुल्क पढ़ाने की चाह रखने वाले कमजोर वर्ग के परिवारों के लिए राहतभरी खबर है। अभिभावक सीबीएसई और राज्य सरकार की ओर से मान्यता प्राप्त स्कूलों में नि:शुल्क प्रवेश के लिए आवेदन कर सकते हंै। शिक्षा विभाग ने नि:शुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार सभी गैर सरकारी शिक्षण संस्थाओं में सत्र 2014-15 से प्रभावी प्रवेश प्रक्रिया सम्बन्धी दिशा-निर्देशों के टाइम फ्रेम में संशोधन किया गया है।

यूं करना पड़ा संशोधन
दरअसल, ग्रीष्मकालीन अवकाश होने के कारण कई बच्चों के अभिभावक जानकारी के अभाव में निजी विद्यालयों में आरटीई के तहत नि:शुल्क प्रवेश करवाने से वंचित रह गए थे। कई निजी स्कूलों में सीटें भी खाली रह गई। ऎसे में शिक्षा विभाग ने 1 अप्रेल व 1 मई से शुरू होने वाले निजी विद्यालयों में टाइम फ्रेम में संशोधन किया। ताकि पात्र बालकों को आरटीई (शिक्षा का अधिकार अधिनियम) के तहत नि:शुल्क प्रवेश मिल सके।

अब यह रहेगा टाइम फ्रेम
टाइम फ्रेम के अनुसार अब 1 अप्रेल या 1 मई तथा राज्य सरकार की ओर से निर्घारित तिथि को सत्र शुरू करने वाले विद्यालयों के लिए आवेदन पत्र प्राप्ति की तिथि 10 जुलाई तय की गई है। आवेदन पत्रों की जांच एवं सही आवेदन पत्रों की वेब पोर्टल पर प्रविष्टि 15 जुलाई तक, राज्य स्तर पर ऑनलाइन लॉटरी के बाद बालकों को क्रम निर्घारण 17 जुलाई, संबंधित निजी विद्यालयों में बालकों को 18 जुलाई तक प्रवेश देना होगा। नि:शुल्क प्रवेशित बालकों एवं शेष 75 प्रति सीटों पर प्रवेशित बालकों की वेब पोर्टल पर एंट्री संबंधित निजी विद्यालय को करनी होगी।

फायदा उठाएं
टाइम फ्रेम में संशोधन किया गया है। जो अभिभावक वंचित रह गए हैं वो इस टाइम फ्रेम के अंदर आवेदन करके आरटीई के प्रावधानों को फायदा ले सकते हैं।
अर्जुनसिंह छाबा, एपीसी, आरटीई सिरोही।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned