योगाचार्य पूरन चित्तारा: पहले किए फोन कॉल और फिर उसी शिक्षक को जिम्मेदार बता योगाचार्य ने की थी आत्महत्या

-आरोपित शिक्षक के कॉल डिटेल और उससे पूछताछ के बाद ही आगे बढ़ सकती है जांच

By: Bharat kumar prajapat

Published: 10 Feb 2018, 11:17 AM IST

शिवगंज. आत्महत्या से पहले योगाचार्य पूरन चित्तारा ने शिक्षक शिवदयाल को कुछ फोन कॉल किए थे। यह वही शिक्षक है जिसे सुसाइड नोट में आत्महत्या के लिए जिम्मेदार बताया गया है। इतना ही नहीं उसी दिन दोपहर में यह शिक्षक योगाचार्य के घर आया था और उसकी उनसे फेस-टू-फेस बात तक हुई थी। यह कॉल क्यों किए गए और इसके पीछे क्या वजह रही। कॉल डिटेल आने के बाद ही इन सबसे पर्दा उठ पाएगा।

सुसाइड नोट में कारण नहीं स्पष्ट
योगाचार्य की मौत के बाद उठे सवालों का जवाब शहर का हर वह शख्स चाहता है, जो उनसे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़ा हुआ था। पुलिस को जो सुसाइड नोट मिला है, उसमें आत्महत्या का कारण स्पष्ट नहीं है।

यहां भी उठ रहा संदेह
सूत्रों का कहना है कि जिस दिन योगाचार्यने आत्महत्या की उस दिन आरोपित शिक्षक उनके घर आया था। उस समय उन दोनों के बीच क्या वार्तालाप हुआ उसके कुछ घंटों के बाद योगाचार्य ने फांसी लगा ली। इस बीच एक सवाल यह भी उठा कि आखिर उस दिन उनकी पत्नी लता स्कूल से घर जल्दी क्यों आ गई। इस बारे में जब पत्रिका ने मृतक के बड़े भाई कमल किशोर चित्तारा से बात की तो उनका कहना था कि उस दिन लता के माता-पिता मिलने के लिए आए थे। जिस पर वह स्कूल से अवकाश लेकर घर आई थी। कुछ समय रुकने के बाद लता के माता-पिता चले गए थे।

एक आश्रम से है आरोपित शिक्षक का जुड़ाव
योगाचार्य ने अपने सुसाइड नोट में बाबाओं के नाम का उल्लेख किया है। सूत्रों से जानकारी मिली है कि आरोपित शिक्षक शिवदयाल सोनी का पालड़ी जोड़ मार्ग पर गैस गोदाम के पीछे स्थित एक आश्रम से जुड़ाव था। वैसे यह आश्रम भी सूनसान इलाके में ही है और वहां सत्संग के लिए प्रतिदिन कई महिलाएं आती-जाती है। यह पुलिस के लिए जांच का विषय है।

यह ख्वाहिश भी रह गईअधूरी
योगाचार्य काम्बेश्वर महादेव मार्ग पर खरीदी गई भूमि पर लकवा मुक्तिधाम बनाना चाहते थे। वहीं स्कूली बच्चों को बेहतर योग प्रशिक्षण मिले, इसके लिए स्कूल का संचालन और आयुर्वेदिक औषधियों के लिए हर्बल पार्क बनाने की भी उनकी ख्वाहिश थी, लेकिन यह सब अधूरी रह गई।

यह सवाल जो मांग रहे जवाब
१. सुसाइड नोट में लिखी इस बात से यह स्पष्ट नहीं हो पा रहा है कि आखिर चित्तारा के पास किस तरह की जानकारी थी?
२. आरोपित शिक्षक उनके परिवार के लिए खतरा कैसे बना हुआ था?
३. पुलिस को दी रिपोर्ट में योगाचार्य के भाई कमलकिशोर चित्तारा ने बताया है कि आरोपित शिक्षक पूरन चितारा को ब्लैकमेल करता था। सवाल यह उठ रहा है कि आखिर वह ब्लैकमेल क्यों कर रहा था? इसके पीछे वजह क्या थी?
४. रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि शिक्षक बार-बार उनके घर आया करता था। उसे वहां नहीं आने के लिए स्वयं चित्तारा तथा उनके भाई ने मना किया। इसके बावजूद वह वहां आता था तो इसके पीछे वजह क्या थी?
५. सुसाइड नोट में बाबाओं का भी जिक्र किया है, जिनको महिलाएं समर्पित की जाती थी। आखिर वे बाबा कौन है?

इनका कहना है...
हर पहलू को ध्यान में रखते हुए अनुसंधान किया जा रहा है। वहीं सुसाइड नोट से उठ रहे सवालों को लेकर भी जांच-पड़ताल की जा रही है। आरोपित शिक्षक की कॉल की डिटेल भी खंगाली जाएगी। वहीं आरोपित से पूछताछ की जाएगी। इसके बाद ही पूरे मामले का खुलासा हो पाएगा।
-बुद्धाराम बिश्नोई, थाना प्रभारी, शिवगंज

Bharat kumar prajapat Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned