आवंटन शर्तों के उलट चल रहा था कार्य, प्रशासन ने कब्जे में लिया 13 बीघा जमीन

कलक्टर के आदेश पर उपखंड अधिकारी सुरेशकुमार ओला ने निरीक्षण कर आवंटन शर्तों का उल्लंघन करना पाया।

By: पुनीत कुमार

Published: 02 Jan 2018, 07:37 PM IST

आबूरोड। दानवाव मुख्य मार्ग के पास स्थित लगभग तेरह बीघा भूमि को कलक्टर के आदेश पर कब्जे में ले लिया गया। मंगलवार को जिला कलक्टर के आदेश पर तहसीलदार मनसुखराम डामोर की उपस्थित में जमीन का कब्जा राज्य सरकार के पक्ष में लिया गया। इससे पहले निरीक्षण के दौरान जिला कलक्टर ने आवंटन शर्तों का उल्लंघन करना पाया। जिसे लेकर एक आदेश के बाद जमीन कब्जा करने की कार्यवाई की।

 

आदेश के किया जमीन पर कब्जा-

दरअसल इस भूमी पर स्कूल, कॉलेज, विश्रांति भवन बना हुआ है, जबकि आवंटी हरि संस्कार शिक्षण सेवा केन्द्र मानपुर के मैनेजिंग ट्रस्टी को भूमि आवंटित की गई थी, जिसमें शर्त के मुताबिक, कॉलेज, चिकित्सालय, धर्मशाला और सार्वजनिक उपयोग के निर्माण के लिए बिना कब्जे की सरकारी भूमी का आवंटन किया गया था। वहीं पूर्व में पूर्व में जिला कलक्टर के आदेश पर उपखंड अधिकारी सुरेशकुमार ओला ने निरीक्षण कर आवंटन शर्तों का उल्लंघन करना पाया। इस पर 29 दिसम्बर को जिला कलक्टर ने तहसीलदार को भूमि कब्जा राज्य सरकार के पक्ष में करने के आदेश दिए।

Read More: नवलगढ़ से निर्दलीय विधायक राजकुमार शर्मा का इस्तीफा नामंजूर

 

तहसीलदार ने भवन को किया सीज-

मंगलवार सुबह जमीन पर कब्जा करने टीम के साथ तहसीलदार पहुंचे और भवन को सीज किया और बोर्ड पर अंकित सभी नाम पर सरकारी भूमि पेंट करवा दिया। वहीं मौके पर उपस्थित संस्थान सचिव जिग्नेश पटेल ने बताया कि जिला कलक्टर की ओर से भेजे गए पत्र के जवाब में बताया गया था कि भूमि का उपयोग आवंटन की शर्तों के मुताबिक ही किया जा रहा है। भूमि पर आयुर्वेदिक औषधालय, स्कूल, शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय, छात्रावास, छात्रावास, खेल मैदान आदि बनाए गए हैं। परीक्षा कार्य और शिक्षण गतिविधियों के लिए आने वाले शिक्षाविदों और प्रवचन के लिए आने वाले संत-महंतों के लिए निशुल्क आवास व्यवस्था की गई है। कार्रवाई की उच्चाधिकारियों से अपील करने की बात कहीं।

Read More: हरियाणा में सड़क हादसे में झुंझुनूं के एक की परिवार के 5 लाेगाें की मौत, पूरे गांव में पसरा सन्नाटा

 

900 से ज्यादा बच्चे हैं स्कूल में-

उधर कॉलेज और स्कूल प्रधानाचार्यों ने बताया कि संस्थान में लगभग 900 से अधिक बच्चे अध्ययनरत है, बीच सत्र में स्कूल और कॉलेज भवन सीज करने की कार्रवाई से छात्रों का साल और उनका भविष्य खराब होने से इनकार नहीं किया जा सकता। जबकि मौके पर उपस्थित उपखंड अधिकारी सुरेशकुमार ओला ने बताया कि छात्रों का भविष्य खराब नहीं हो इसके लिए नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। गौरतलब है कि यह भूमि पॉश इलाके में स्थित होने से इसकी लागत करोड़ो रुपए में हैं।

Show More
पुनीत कुमार
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned