अधिकारी ने जयपुर भेजी रिपोर्ट में बताया- रास्ते में ट्रक खराब होने से चारा आने में देरी, सरकारी अर्बुदा गोशाला में आया 26 टन सूखा चारा

अधिकारी ने जयपुर भेजी रिपोर्ट में बताया- रास्ते में ट्रक खराब होने से चारा आने में देरी, सरकारी अर्बुदा गोशाला में आया 26 टन सूखा चारा

Amar Singh Rao | Updated: 20 Jul 2019, 08:19:43 PM (IST) Sirohi, Sirohi, Rajasthan, India

सिरोही. जिले की एकमात्र सरकारी अर्बुदा गोशाला में शुक्रवार को आखिर सूखा चारा पहुंच ही गया। यहां दो दिन से चारा नहीं होने से गोवंश भूखा था।

सिरोही. जिले की एकमात्र सरकारी अर्बुदा गोशाला में शुक्रवार को आखिर सूखा चारा पहुंच ही गया। यहां दो दिन से चारा नहीं होने से गोवंश भूखा था।
पत्रिका ने इस मामले को लेकर 'सावन मास में दो दिन से चारा नहीं, तहसीलदार बोले-महंगा आ रहा, ऐसे कैसे दे दें ज्यादा रुपएÓ शीर्षक से समाचार प्रकाशित किया। इसके बाद हरकत में आए प्रशासन ने चारे की व्यवस्था कराई। शुक्रवार सुबह बड़े ट्रक में 26 टन सूखा चारा गोशाला परिसर पहुंचाया गया।
अर्बुदा गोशाला का संचालन समिति करती है। इसके अध्यक्ष कलक्टर हैं। शुक्रवार सुबह उपखण्ड अधिकारी हंसमुख कुमार मौके पर पहुंचे और गोशाला का मुआयना किया। इस दौरान तहसीलदार सुरेश कुमार (सचिव, गोशाला) और पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. सतवीर सिंह यादव(सदस्य, गोशाला) भी मौजूद रहे।
उपखण्ड अधिकारी हंसमुख कुमार ने बताया कि सिरोही, जालोर और पाली में चारा नहीं होने के कारण बाहर से मंगवाना पड़ रहा है। बाहर से लाने तथा बारिश होने के कारण समय लग जाता है। वैसे दो दिन बाद फिर बड़ा ट्रक चारे का आएगा। ऐसे में आने वाले समय में अब चारे की कमी नहीं रहेगी।

गायों का स्वास्थ्य जांचा, टीके लगाए
पशुपालन विभाग की टीम भी मौके पर पहुंची और गायों की जांच कर उपचार किया गया। कुछ गायों के टीके भी लगाए गए।

रिपोर्ट में लिखा- अब पर्याप्त व्यवस्था
सिरोही पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. सतवीर सिंह यादव (गोशाला, सदस्य) ने जयपुर में निदेशक को भेजी रिपोर्ट में खुलासा किया है कि सिरोही की सरकारी अर्बुदा गोशाला में हरियाणा से सूखे चारे की आपूर्ति होती है और रास्ते में ट्रक खराब हो जाने की वजह से चारे की आपूर्ति बाधित हुई। अब चारा पहुंच गया है और पर्याप्त व्यवस्था है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned