scriptTen medical teams in Fulabai Kheda and surrounding villages are doing | फूलाबाई खेड़ा व आसपास गांवों में दस मेडिकल टीमें मुस्तैदी से कर रही डोर- टू-डोर सर्वे, फिलहाल स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में होने का दावा | Patrika News

फूलाबाई खेड़ा व आसपास गांवों में दस मेडिकल टीमें मुस्तैदी से कर रही डोर- टू-डोर सर्वे, फिलहाल स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में होने का दावा

अब तक पांच सौ घरों का किया जा चुका है सर्वे, नई धनारी में पिछली रात बच्चे की मौत लम्बी बीमारी के बाद होने का प्रशासन ने किया खुलासा, मौत का कारण बताया निमोनिया

सिरोही

Updated: April 16, 2022 04:00:30 pm

सरूपगंज. फूलाबाई खेड़ा गांव में रहस्यमय बीमारी से बच्चों की आकस्मिक मौत का सिलसिला लगातार दो दिन से थम चुका है। हालांकि, नई धनारी गांव में गुरुवार रात एक तीन वर्षीय बच्चे की तबीयत बिगड़ने पर उसे अस्पताल ले जाते समय बीच रास्ते में ही दम तोड़ दिया। जिला कलक्टर ने बच्चे की मौत का खुलासा करते हुए कहा कि बच्चा बीस-पच्चीस दिन से बीमार था। चिकित्सा विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक सम्भवत: उसकी मौत निमोनिया से हुई। उधर, फूलाबाई खेड़ा में तीन-चार दिन की समयावधि में सात बच्चों की मौत के सिलसिले में ग्रामीण व क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि पूरे मामले में विस्तृत जांच करवा की मांग कर रहे हैं।
सरूपगंज के निकट फूलाबाई खेड़ा में जांच करती मेडिकल टीम। 
सरूपगंज के निकट फूलाबाई खेड़ा में जांच करती मेडिकल टीम। 
फूलाबाई खेड़ा में अज्ञात बीमारी के कारण बच्चों की मौत के मामले को केंद्र व राज्य सरकार ने गम्भीरता से लेते हुए दिल्ली, जयपुर व जोधपुर से चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की टीम फूलाबाई खेड़ा भेजी है। चिकित्सा विभाग के साथ प्रशासनिक अधिकारी भी स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। इस बीच भाजपा जिला उपाध्यक्ष किरण पुरोहित, महिला मोर्चा जिलाध्यक्ष अंशु वशिष्ठ, रतनलाल गरासिया, लक्ष्मण पुरोहित सहित कई राजनेताओं ने परिजनों से जानकारी ली।
जागरूकता का अभाव भी बन रहा मौत का कारण

क्षेत्र में पिछले दिनों हुई सात-सात बच्चों की मौत के बाद यह बात भी सामने आ रही है कि ग्रामीणों में जागरूकता का अभाव है। कई प्रकार के खाद्य व पेय पदार्थों पर न तो मैन्युफैक्चरिंग डेट पि्रन्ट होती है और ना ही एक्सपायरी डेट। जिससे कई बार बच्चे एक्सपायर्ड डेट की वस्तु भी खा लेते हैं, जिससे स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ हो सकता है। इसमें खास तौर पर गर्मियों के मौसम में बच्चों की पसंददीदा चुस्की (जिसे स्थानीय भाषा में बच्चे पेप्सी के नाम से जानते हैं) शामिल है।
गली-मोहल्लों में पनप रहा चुस्की बनाने का उद्योग

सरूपगंज के कई मोहल्लों में चुस्की बनाई जाती है, तो कई दुकानों पर इसका भारी स्टॉक किया हुआ है। जो लम्बे समय से पड़ा हुआ है। चुस्की बनाने का उद्योग समीपवर्ती नितोड़ा समेत कुछ और गांवों में जारी है, जो बच्चों के स्वास्थ्य के लिए घातक साबित हो सकता है।
........................

नई धनारी में बच्चे की मृत्यु का सम्भवत: निमोनिया से

जिला कलक्टर डॉ. भंवर लाल ने विज्ञप्ति जारी कर यह तथ्यात्मक जानकारी दी। फूलाबाई खेड़ा में बच्चों की आकस्मिक मौते के बाद चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की दस टीमें डोर-टू-डोर कर रही सर्वे। अब तक पांच सौ घरों का हो चुका है सर्वे। स्टेट नोडल ऑफिसर (आईडीएसपी) डॉ. प्रवीण अषवाल व कार्यवाहक सीएमएचओ डॉ. महेश कुमार गौतम कर रहे हैं क्षेत्र का निरन्तर दौरा। नई धनारी में हितेष (3) पुत्र गोपाल माली की आकस्मिक मौत के सम्बंध में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक हितेष बीस दिन से बीमार था। खांसी, जुकाम व बुखार से पीडि़त था। जिसका सरूपगंज के पाइवेट हॉस्पिटल में इलाज चल रहा था। गुरुवार रात अचानक तबीयत बिगडऩे पर अस्पताल ले जाते समय रास्ते में मृत्यु हो गई। जिसका सम्भवत: कारण निमोनिया होना बताया। परिवार के अन्य सभी सदस्य पूरी तरह स्वस्थ हैं।...................
बकौल कलक्टर 13 तारीख के बाद नहीं हुई कोई ऐसी मौतजिला कलक्टर डॉ. भंवर लाल ने एक वीडियो जारी कर बताया फूलाबाई खेड़ा गांव में बच्चों की आकस्मिक मौत के प्रकरण में 13 अप्रेल के बाद इस तरह की मौत की कोई सूचना सामने नहीं आई है। पूरे एरिया में चिकित्सा विभाग की टीमें मुस्तैदी से जुटी हुई हैं। मौके पर स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है। आज नई धनारी का एक केस आया था, पर वह बच्चा इस तरह की बीमारी से रिलेटेड नहीं है। वह बच्चा करीब बीस-पच्चीस दिन पहले से ही बीमार चल रहा था। सोशल मीडिया पर जिस तरह से न्यूज चलाई जा रही है उससे इसे जोड़कर देखा जा रहा है। चिकित्सकों की टीम नई धनारी गई थी और देखा तो यह केस ऐसी न्यूज से अनरिलेटेड पाया गया। वह बच्चा पहले से ही बीमार था। मौके पर स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है। मेडिकल टीम मौके पर ही है और इस तरह की यदि कोई सूचना मिलती है या कोई केस आता है तो मेडिकल टीम को जरूर बताएं। हम पूरी तरह से तैयार है। आमजन से अपील है कि वे किसी भी अफवाह अथवा गलत जानकारी पर ध्यान न दें और ना ही घबराएं। बीमार होने पर नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र पर ले जाकर उपचार करवाएं।
बीडीओ ने लिए आईस फैक्ट्री से सेम्पल

पिण्डवाड़ा विकास अधिकारी हनुवीर विश्नोई ने शुक्रवार को सरूपगंज की इंद्रा कॉलोनी स्थित कमला आइसक्रीम व महादेव आइस क्रीम फैक्ट्री का औचक निरीक्षण कर सेम्पल लिए।
Òपत्रिकाÓ की ओर से पाठकों को सलाह

यदि आपके बच्चों को बर्फ की चुस्की (पेप्सी) पीने की लत है तो आपको बता दें कि बर्फ की चुस्की (पेप्सी) पीना जहर पीने से कम नहीं है। आपने लोगों को सिर्फ यह कहते सुना होगा कि सॉफ्ट ड्रिंक पीना सेहत के लिए अच्छा नहीं है, लेकिन बर्फ से बड़ी फ्लेवर चुस्की (पेप्सी) तो उससे भी कई गुणा ज्यादा घातक है। बर्फ से बनी फ्लेवर चुस्की में प्रयुक्त किया जाने वाला सेकि्रन सामान्य चीनी की तुलना में लगभग 300-400 गुना अधिक मीठा होता है। एक ढक्कन सेकि्रन एक लीटर पानी में मिलाने पर एक किलो शक्कर के जितनी मिठास देता है। सेकि्रन, सुक्रालोज़ और एस्पार्टेम का उपयोग करने से आंत में बैक्टीरिया का संतुलन बाधित हो सकता है, जिससे मोटापा व रक्त में शुगर का स्तर बढ़ने की सम्भावना बढ़ जाती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठाLiquor Latest News : पियक्कडों की मौज ! रात एक बजे तक खरीदी जा सकेगी शराबशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफMorning Tips: सुबह आंख खुलते ही करें ये 5 काम, पूरा दिन गुजरेगा शानदारDelhi Schools: दिल्ली में बदलेगी स्कूल टाइमिंग! जारी हुई नई गाइडलाइनMahindra Scorpio 2022 का लॉन्च से पहले लीक हुआ पूरा डिजाइन और लुक, बाहर से ऐसी दिखती है ये पावरफुल कारबैड कोलेस्‍ट्राॅल और डिमेंशिया को कम करके याददाश्त को बढ़ाता है ये लाल खट्‌टा-मीठा फल, जानिए इसके और भी फायदेAC में लगाइये ये डिवाइस, न के बराबर आएगा बिजली बिल, पूरे महीने होगी भारी बचत

बड़ी खबरें

अफगानिस्तान के काबुल में भीषण धमाका, तालिबान के पूर्व नेता की बरसी पर शोक मना रहे लोगों को बनाया गया निशानाPunjab Borewell Accident: बोरवेल में गिरे 6 साल के बच्चे की नहीं बचाई जा सकी जान, अस्पताल में हुई मौतBJP को सरकार बनाने के लिए क्यूँ जरूरी है काशी और मथुरा? अयोध्या से बड़ा संदेश देने की तैयारी..पश्चिम बंगाल का पूर्व मेदिनीपुर जिला बम धमाकों से दहला, तलाशी के दौरान बरामद हुए 1000 से अधिक बमIPL 2022, SRH vs PBKS Live Updates: पंजाब ने हैदराबाद को 5 विकेट से हरायाकपिल देव के AAP में शामिल होने की चर्चा निकली गलत, सोशल मीडिया पर पूर्व कप्तान ने खुद साफ की स्थितिआख़िर क्यों असदुद्दीन ओवैसी बार-बार प्लेसेज ऑफ़ वर्शिप एक्ट का रो रहे हैं रोना, यहां जानेंपुजारा और कार्तिक की टीम में वापसी, उमरान मालिक को भी मिला मौका, देखें दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड दौरे का पूरा स्क्वाड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.