डेरा प्रकरण: दहशत फैलाने के आरोपी डेरा मुखी के 6 सुरक्षा कर्मियों के खिलाफ चालान पेश

पंचकूला में दंगे वाले दिन चंडीगढ़ में दहशत फैलाने के इरादे से घुसे डेरा मुखी के 6 सुरक्षाकर्मियों के खिलाफ कोर्ट में चालान पेश कर दिया गया है

By: शंकर शर्मा

Published: 10 Nov 2017, 11:28 PM IST

चंडीगढ़। पंचकूला में दंगे वाले दिन चंडीगढ़ में दहशत फैलाने के इरादे से घुसे डेरा मुखी के 6 सुरक्षाकर्मियों के खिलाफ कोर्ट में चालान पेश कर दिया गया है। मामले में 13 लोगों को गवाह बनाया गया है।


पुलिस ने घटना के 76 दिन बाद 6 सुरक्षा कर्मियों धर्मेंद्र , अनूप, मनिंदर सिंह, कृष्णपाल, सुखविंदर और रंजीत के खिलाफ आईपीसी की धारा 147, 148, 149 (दंगा भड़काने), 188 (सरकारी अफसर द्वारा पास ऑर्डर का उल्लंघन करने), 120 बी (साजिश रचने) और आर्म्स एक्ट की विभिन्न धाराओं के तहत चालान पेश किए। सभी को चंडीगढ़ के तहत मनीमाजरा पुलिस ने गिरफ्तार किया था। मनीमाजरा दरअसल, पंचकूला से सटा हुआ है और पंचकूला में 25 अगस्त को गुरमीत राम रहीम को साध्वी यौन शोषण मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद दंगा भड़क गया था।


चंडीगढ़ पुलिस ने पंचकूला के हालात बिगड़ते देख अपने इलाके में सुरक्षा बंदोबस्त काफी कड़े कर दिए थे। इसी दौरान पुलिस ने एक जिप्सी को मनीमाजरा नाके पर रोक कर तलाशी ली थी। इसमें एक पिस्तौल, 25 कारतूस और लाठियां व अन्य हथियार बरामद हुए थे। पुलिस का कहना है कि जिप्सी पर सवार लोगों ने अपनी पहचान डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के सुरक्षा कर्मियों के तौर पर बताई थी और इनका मकसद शहर में दहशत फैलाने का था।


उल्लेखनीय है कि पूरे डेरा प्रकरण की पड़ताल कर रही पंचकूला पुलिस ने भी कुछ समय पहले विभिन्न मामलों में आरोपियों के खिलाफ चालान पेश किए थे। मामले के लिए गठित विभिन्न एसआईटी की पड़ताल जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है तो चालान भी कोर्ट में पेश किए जाने का सिलसिसा चल रहा है।

सर्च से पहले ही डेरा प्रबंधन सामान को लगाया ठिकाने
क्या डेरा सच्चा सौदा के सैनेटाइजेशन से पहले ही डेरा अनुयायियों द्वारा बेशकीमती सामान डेरे से साफ कर दिया गया था। यह सवाल हरियाणा सरकार द्वारा पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट में सौंपी गई एक रिपोर्ट से खड़े हो गए हैं। कोर्ट में सौंपी गई रिपोर्ट में आशंका जाहिर की गई है कि 25 और 28 अगस्त के बीच डेरा सच्चा सौदा मुख्यालय से कीमती सामान डेरा परिसर से बाहर ले जाए जाने से इनकार नहीं किया जा सकता है।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned