फोन पर बातें करते समय सावधान, हरियाणा में भी हो रही टैपिंग, गृहमंत्री ने तलब की रिपोर्ट

किसी के फोन अथवा मोबाइल पर होने वाली बातचीत को गुप्त ढंग से रिकॉर्ड करना फोन-टैपिंग कहलाता है।

चंडीगढ़. हरियाणा में भी फोन टैपिंग पर रोक लगाने के लिए गृहमंत्री अनिल विज ने बैठक कर फोन कंपनियों को पत्र जारी कर रिपोर्ट तलब की है। गृहमंत्री ने राज्य में उन तमाम लोगों का ब्यौरा तलब किया है, जिनके फोन टैपिंग पर लगे हुए हैैं। साथ ही फोन कंपनियों को कहा है कि जरूरी औपचारिकता के बगैर किसी का फोन टैप न किया जाए।
हरियाणा में राजनेताओं और अधिकारियों के साथ-साथ पत्रकारों के फोन टैपिंग पर लगाने का काम बरसों से चल रहा है। हुड्डा सरकार में जब गोपाल कांडा गृह राज्य मंत्री थे, तब भी फोन टैपिंग का मामला खासी चर्चा में रहा। पिछली मनोहर सरकार के दौरान खुद अनिल विज को इस बात की आशंका थी कि उनका फोन टेप किया जाता है।
गृह मंत्री ने राज्य के गृह विभाग के अधिकारियों व सीआइडी प्रमुख से कहा है कि उन्हें फोन टेप किए जाने वाले लोगों का ब्यौरा चाहिए। गृह मंत्री ने टेलीफोन कंपनियों को कहा कि वह बिना प्रक्रिया पूरी किए कोई फोन टैपिंग पर न लगाएं।


यह है फोन टैपिंग विवाद

हरियाणा में फोन टैपिंग विवाद नया नहीं है। पूर्व मुख्यमंत्री बंसीलाल के समय में सबसे पहली बार यह विवाद उठा था। उसके बाद सत्ता में आए लगभग सभी मुख्यमंत्रियों पर अपने ही मंत्रियों तथा विधायकों और विपक्षी दलों के नेताओं के फोन टैप करवाने के आरोप लगते रहे हैं। किसी के फोन अथवा मोबाइल पर होने वाली बातचीत को गुप्त ढंग से रिकॉर्ड करना फोन-टैपिंग कहलाता है।


हरियाणा की अधिक खबरों के लिए क्लिक करें...
पंजाब की अधिक खबरों के लिए क्लिक करें...
जम्मू कश्मीर की अधिक खबरों के लिए क्लिक करें...

Show More
Devkumar Singodiya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned