हनीप्रीत :  हरियाणा पुलिस खटखटाएगी हाईकोर्ट का दरवाजा

Haryana: जल्द रिवीजन पेटीशन दाखिल करेगी पंचकूला पुलिस

चंडीगढ़. डेरा सच्चा सौदा प्रकरण में हिंसा के मामले में लगातार झटके खाती आ रही हरियाणा पुलिस हनीप्रीत व अन्यों के ऊपर से देशद्रोह की धारा हटाए जाने के आदेश के खिलाफ हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाने जा रही है। पुलिस जल्द ही रिविजन पेटीशन दाखिल करने जा रही है।
उल्लेखनीय है कि डेरा मुखी गुरमीत राम रहीम की मुंहबोली बेटी हनीप्रीत जमानत मिलने के बाद जेल से बाहर भी आ चुकी है। उसका नाम पंचकूला में एफआईआर नंबर 345 में प्रमुख रूप से आया था और देशद्रोह की धारा समेत अन्य धाराएं लगाई गई थीं लेकिन, कोर्ट में चली सुनवाई के दौरान हनीप्रीत व अन्यों पर देशद्रोह की धारा हटा दी गई थी जबकि शेष अन्य धाराओं के तहत आरोप तय कर दिए गए थे। कुल मिलाकर देशद्रोह की धारा हटने के बाद हनीप्रीत पर शेष रह गई धाराएं बेलेबल थीं और पंचकूला कोर्ट ने उसकी जमानत याचिका को मंजूर कर लिया था। हनीप्रीत दो साल से अंबाला सेंट्रल जेल में बंद थी। वे जेल से बरी होने के बाद सीधे सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा के मुख्यालय गई थी जहां डेरे के अनुयायियों ने उसका भव्य स्वागत तक किया था।
हनीप्रीत के ऊपर से देशद्रोह की धारा हटना हरियाणा पुलिस के लिए बड़ा झटका है क्योंकि उसने हनीप्रीत व अन्यों के खिलाफ पुख्ता सबूत होने के दावे किए थे और इन्हीं सबूतों के आधार पर कोर्ट में खड़ी होती रही है।
इस मामले में चल रहे ताजा घटनाक्रमों पर गौर करें तो पुलिस अब पंचकूला कोर्ट के फैसले को हाईकोर्ट में चैलेंज करने के लिए पूरी तैयारी कर चुकी है। पंचकूला के डिस्ट्रिक्ट अटॉर्नी पंकज गर्ग ने इस बात की पुष्टि की कि हनीप्रीत के ऊपर से देशद्रोह की धारा हटाए जाने के आदेश के खिलाफ हाईकोर्ट में रिवीजन पेटीशन दाखिल की जाएगी। उन्होंने बताया कि इस पूरे मामले को स्टडी किया गया है। आदेश की कॉपी का भी अध्ययन किया गया है और इस मामले में हमारा यही कहना है कि विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है तो और उसमें प्राइमाफेसिया बनती है और इसमें चार्ज फ्रेम होने चाहिए।

हरियाणा की ताजा खबरों के लिए क्लिक करें

गर्ग ने इस मामले में चल रही प्रक्रिया के बारे में बताया जा रहा है कि 2 नवंबर को हनीप्रीत पर दंगे आरोप में देशद्रोह की धारा हटाने की ऑर्डर की कॉपी आने के बाद ही वकीलों की टीम ने काम शुरू कर दिया था। टीम के 5-6 सीनियर एडवोकेट हर पहलू से आदेशों का अध्ययन कर अपने प्लाइंट्स जोड़ते रहे। इसका सारा मसौदा तैयार कर फाइल पंचकूला पुलिस उपायुक्त कमलदीप गोयल को भेज दी गई है। मिली जानकारी के अनुसार रिव्यू पिटीशन में कई पॉइंट्स डाले गए हैं। उसमें शहर में लगाई गई आग, गाड़ियों को जलाए जाने, सरकारी व प्राइवेट बिल्डिंग में तोड़फोड़, शहर के हालात को बिगाड़े जाने जैसे बिंदू भी शामिल है।

 

Chandra Prakash sain Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned