सिरसा में रेल सेवा शुरू, मोबाइल डाटा बेस इंटरनेट सेवा भी बहाल

डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के साध्वी यौनशोषण मामले में फंसने के बाद सिरसा में माहौल तनावपूर्ण बना हुआ था

By: शंकर शर्मा

Published: 11 Sep 2017, 11:04 PM IST

सिरसा। डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के साध्वी यौनशोषण मामले में फंसने के बाद सिरसा में माहौल तनावपूर्ण बना हुआ था। इसके बाद यहां रेल सेवा बंद कर दी गई थी। 24 को बंद हुई रेल सेवा सिरसा डेरे में सर्च आपरेशन पूरा होने के बाद आज बहाल हो गई है। सिरसा में मोबाइल डाटा बेस इंटरनेट सेवा भी बहाल कर दी गई है।

जिला उपायुक्त प्रभजोत सिंह ने बताया कि आज सुबह 8.30 बजे से 9.30 बजे (1 घंटा) कफ्र्यू में ढील दी गई थी। अभी भी शाह सतनाम सिंह चैक से नेजियाखेड़ा टी प्वाइंट तक, कंगनपुर रोड व नेजियाखेड़ा टी प्वाइंट से बाजेकां रेलवे क्रोसिंग तक कफ्र्यू जारी है। यहां सायं 4 से 7 बजे तक भी कफ्र्यू में ढील दी जाएगी।

सिरसा में 23 अगस्त से रेल सेवा बाधित थी। सिरसा में ट्रेनें नहीं चलने से जहां रेलवे को प्रतिदिन लाखों रुपयों का नुकसान झेलना पड़ा। यात्रियों को भी भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। दो हफ्तों के बाद आज फिर रेलवे स्टेशन पर रौनक लौटी। रविवार को जब डेरा का सर्च ऑपरेशन पूरा हो गया तो उपायुक्त सिरसा प्रभजोत सिंह ने घोषणा की थी कि 11 सितंबर से रेल सेवा बहाल हो जाएगी।

उसी आदेश के तहत आज सुबह से ही रेल सेवा बहाल हो गई है। रेल सेवा बहाल होने पर रेल यात्रियों ने राहत की सांस ली है क्योंकि आसपास के गांवों व शहरों के लोग प्रतिदिन रेलगाड़ी से सिरसा आवागमन करते हैं। कई सरकारी कर्मचारी भी प्रतिदिन रेलगाड़ी से ही सिरसा आते हैं। कई विद्यार्थी भी सिरसा पढऩे के लिए रेलगाड़ी से आवागमन करते हैं। रेल सेवा बंद होने से उन्हें सबसे अधिक परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। सिरसा के लोगों की पंजाब में भी रिश्तेदारियां हैं जहां लोगों का आवागमन लगा रहता है। रेल सेवा बंद होने से उन्हें भी परेशानी हो रही थी, लेकिन अब उनकी यह समस्या दूर हो गई है।


रेलवे को प्रतिदिन लगभग 2 लाख रुपयों का नुकसान
रेल गाडिय़ां बंद होने से सिरसा रेलवे स्टेशन को प्रतिदिन औसतन 2 लाख रुपयों का नुकसान हो रहा था। रेलवे के अधिकारियों ने बताया कि सिरसा रेलवे स्टेशन से प्रतिदिन हजारों यात्री यात्रा करते हैं। यात्रियों से टिकट के रूप में लगभग 2 लाख रुपये एकत्र होते हैं जिसका रेलवे को नुकसान हो रहा था। उधर रेलवे स्टेशन पर उन दुकानदारों को भी आर्थिक नुकसान हुआ है जिन्होंने स्टेशन पर किराए पर रेहडिय़ां ले रखी हैं। स्टेशन पर यात्री न आने की वजह से उनक बिक्री भी नहीं हुई, जबकि उनका किराया चालू था। इसी प्रकार स्टेशन पर पार्किंग ठेकेदार को भी आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा है।


वाहनों की जांच जारी
भले ही डेरा प्रकरण मंद हो गया है, लेकिन डेरा की तरफ सुरक्षा में कोई ढील नहीं है। डेरा की ओर जाने वाले वाहनों की अब भी तलाशी ली जा रही है। डेरा की तरफ कफ्र्यू अनवरत जारी रहेगा। हां, प्रशासन द्वारा कर्फ्यू में समय-समय पर ढील दी जा रही है ताकि लोग अपने दैनिक जरूरत का सामान खरीद सके।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned