अयोध्या में श्रीराम मंदिर के शिलन्यास में हरियाणा से 12 नदियों का जल प्रयोग होगा

श्री राम मंदिर की नींव में यमुना नदी, सरस्वती, कपाल मोचन सरोवर, ऋण मोचन सरोवर और सूरजकुंड के जल का प्रयोग होगा।

By: Bhanu Pratap

Published: 27 Jul 2020, 12:26 AM IST

यमुनानगर/चंडीगढ़। अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर और निर्माण पूजन में हरियाणा की भी भागीदारी होगी। हरियाणा से संत समाज राज्‍यभर से पवित्र नदियों व सरोवरों का जल लेकर अयोध्‍या जाएगा। राम मंदिर के शिलान्‍यास में इस पवित्र जल का प्रयोग होगा। हरियाणा से संत समाज और राम भक्‍तों का दल यह जल लेकर अयोध्‍या जाएगा। इसके लिए यहां हथनी कुंड बैराज पर खास पूजा-अर्चना और कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

श्री राम मंदिर की नींव में यमुना नदी, सरस्वती, कपाल मोचन सरोवर, ऋण मोचन सरोवर और सूरजकुंड के जल का प्रयोग होगा। रविवार को संत समाज, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ व विश्व हिंदू परिषद के पदाधिकारियों ने इन पवित्र स्थानों से जल एकत्रित किया। हथनीकुंड बैराज पर मुख्य आयोजन हुआ। बैराज पर पूजा अर्चना के बाद यमुना नदी का जल क्लश लेकर विहिप के पदाधिकारी संघ प्रांत कार्यालय रोहतक के लिए रवाना हुए। रोहतक से यह जल राम जन्म भूमि ले जाया जाएगा। राम भक्तों ने विदेश की नदियों का जल भी पूजन के लिए सौंपा।

हिन्दू जागरण मंच की इकाई बेटी बचाओ के जिलाध्यक्ष सोम प्रकाश और उनकी पत्नी कमल ने कंबोडिय़ा की पुलेन नदी का जल सौंपा। इसके अलावा राम भक्त राजकुमार नारंग ने 12 पवित्र नदियों का जल संत समाज को सौंपा।

Ram Mandir
Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned