दो कॉलेज बसें आपस में टकराईं, दर्जनों छात्र-छात्राएं घायल

दो कॉलेज बसें आपस में टकराईं, दर्जनों छात्र-छात्राएं घायल
bus accident in Sitapur

Shatrudhan Gupta | Updated: 24 Nov 2017, 12:00:36 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले में दो स्कूलीं बसें आपस में टकरा गईं। हादसे में कई छात्र-छात्राओं को चोटें आई हैं।

सीतापुर. उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले में दो स्कूलीं बसें आपस में टकरा गईं। हादसे में कई छात्र-छात्राओं को चोटें आई हैं। बताया जाता है कि एक चालक नशे में बस चला रहा था। घायल छात्र-छात्राओं को तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया। पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज कर लिया है। वहीं, इस मामले में स्कूल प्रबंधन कुछ भी बोलने से इनकार कर रहा है। सीतापुर में एक विद्यालय की ही दो बसें आपस में टकरा गईं। यह हादसा उस समय हुआ, जब पीछे चल रही बस का चालक ओवर टेक करने लगा। इस हादसे में दोनों बसों में सवार तीस से अधिक छात्र-छात्राएं गंभीर रूप से घायल हो गए। सभी घायलों को आनन-फानन में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घायल छात्र बस के चालक को शराब के नशे में बस चलाना बता रहे हंै। वही एक घायल छात्र हादसे का कारण बस को अनफिट होना बता रहा है। इधर, पूरे मामले को लेकर विद्यालय प्रशासन कुछ भी बोलने को तैयार नही है।

नशे में था बस चालक

जानकारी के मुताबिक रामकोट इलाके के रेस्योरा में स्थित सीतापुर शिक्षण संस्थान की दो बसें छात्र-छात्राओं को लेकर कॉलेज जा रही थी। बताते हैं कि जब दोनों बसें इलाके के कनवाखेड़ा के पास थीं, तभी ओवर टेक करते समय दोनों बसें आपस में टकरा गईं। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि दोनों बसों में सवार करीब तीस से अधिक छात्र-छात्राएं गंभीर रूप से घायल हो गए। घटना के बाद आस पास के रहने वाले लोग मौके पर पहुंचे और तत्काल घायल छात्र-छात्राओं को जिला अस्पताल में भर्ती करवाया। घायल छात्रा पल्लवी का कहना है कि चालक शराब के नशे में था, जिस कारण बस टकरा गई। वहीं, छात्र अनुभव का कहना है कि विद्यालय की अधिकांश बसे अनफिट हैं। कॉलेज प्रशासन द्वारा उन्हें सही नहीं कराया जा रहा है। चालक द्वारा हादसे के समय ब्रेक लगाई गई, लेकिन ब्रेक न लगने के कारण बस दूसरी बस से जा टकराई।

घपलेबाजी का लगता रहा है आरोप

बताया जाता है कि सीतापुर शिक्षण संस्थान के नाम से सीतापुर के इस कॉलेज में कोर्सेज के नाम पर तो किसी यूनिवर्सिटी की टक्कर देते कोर्सेस हैं, लेकिन सुविधाओं के नाम पर सिर्फ छलावा ही छलावा है। बताया जाता है कि छात्रों के अभिभावकों से मोटी रकम वसूल कर बड़े पैमाने पर घपलेबाजी को शुरू से अंजाम दिया जा रहा है। आरोप है कि किसानों की जमीनों को हड़प कर बनाये गये इस कॉलेज में स्कालरशिप के नाम पर भी बड़ा खेल किया जा रहा है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned