यूरिया की कालाबाजारी पर कृषि विभाग का शिंकजा, तीन दुकानदारों के खिलाफ अवैध भंडारण का केस दर्ज

पीओएस मशीन द्वारा जब अधिकारियों ने यूरिया की खपत और किसानों की स्थिति को देखा तो उनके होश फाख्ता हो गये।

सीतापुर. जनपद में 20 किसानों द्वारा 9737 बोरी यूरिया की खपत के बाद कालाबाजारी की आशंका पर जागे कृषि विभाग ने उर्वरक व्यापारियों के यहां छापेमारी अभियान छेड़ रखा हैं। इसी कड़ी में कृषि विभाग के अधिकारियों ने तीन दुकानों पर यूरिया की कालाबाजारी पकड़ते हुए यूरिया की खेप बरामद की है। यूरिया की कालाबाजारी करने वाले दो दुकानदारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराते हुए कालाबाजारी के लिए रखी गयी खाद को भी जब्त कर लिया हैं। कृषि अधिकारी का कहना हैं कि यह अभियान लगातार जनपद में चल रहा है जो भी यूरिया की कालाबाजारी में पकड़ा जाएगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

पीओएस मशीन द्वारा जब अधिकारियों ने यूरिया की खपत और किसानों की स्थिति को देखा तो उनके होश फाख्ता हो गये। पीओएस मशीन द्वारा यह साफ हुआ कि दो दो बीघा वाले किसान 124 बोरी से लेकर 1194 बोरियां यूरिया की ख़पत कर चुके हैं। कृषि विभाग ने यूरिया की किल्लत को देखते हुए यूरिया स्टॉकिस्टों के यहां छापेमारी अभियान शुरू किया तो हकीकत सामने आ गयी और यह साफ हो गया कि सीतापुर में बड़े पैमाने पर यूरिया की कालाबाजारी कर उसे अच्छे दामों में बेचा जा रहा हैं और जरूरतमंद किसान यूरिया के किये इधर उधर भटक रहा हैं।

कृषि अधिकारी अखिलानंद पांडेय ने बताया कि उनकी एक टीम ने सिधौली के कुँवरगद्दी में स्थित सर्वशक्तिमान कृषक सेवा केंद्र में जब छापेमारी की गयी तो स्टॉक रजिस्टर दुरुस्त न होने के चलते एक कमरे को खुलवाया गया तो उसमे यूरिया का अवैध भंडारण पाया गया और इसी तरह भण्डिया स्थित शिवा मार्केटिंग कंपनी में जब छापेमारी की गयी तो वहां भी पीओएस मशीन ने यूरिया का स्टॉक शून्य था लेकिन वहां भी कमरे में यूरिया पायी गयी। इन दोनों यूरिया विक्रेताओं के खिलाफ कृषि विभाग ने केस दर्ज कराकर दुकान के लाइसेंस निलम्बित करने की कार्रवाई शुरू कर दी हैं। कृषि अधिकारी का कहना है कि कालाबाजारी करने वाले तीन व्यापारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी गयी है इसके साथ ही साथ आधा दर्जन से अधिक दुकानों के लाइसेंस क्व निरस्तीकरण की कार्रवाई की जा रही हैं। उनका कहना हैं कि यह कार्रवाई लगातार जारी है।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned