जब बीजेपी की महिला सांसद ने विधायक पर तानी जूती, देखिए कैसे समर्थकों चले लात घूंसे

Nitin Srivastava

Publish: Jan, 14 2018 12:26:58 (IST) | Updated: Jan, 14 2018 12:31:20 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India

सीतापुर. लोकतंत्र के मंदिरों में सांसदों-विधायकों को एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगाते, गाली गलोज करते, यहां तक कि मारपीट करते, कुर्सियां फेंकते, अंडे टमाटर फेंकते, काला कपड़ा दिखाते जनता ने बीते 75 वर्षों में कई बार देखा होगा। लेकिन जनता के बीच, जनता के कार्यक्रम में और जनता के हित के लिए किए जाने वाले आयोजन में सांसद-विधायक को इस तरह से एक दूसरे को मारते-पीटते नहीं देखा गया होगा।

 

सांसद और विधायक का ये हाल

सीतापुर में शनिवार को घटी इस घटना ने विधायक और सांसद के पदों की गरिमा को तार-तार किया। साथ ही उन लाखों लोगों के फैसलों पर भी प्रश्न चिन्ह लगा दिया है जिन्होंने इनको अपना प्रतिनिधि चुना। भाजपा के इन दोनों प्रतिनिधियों ने पार्टी की अनुशासनात्मक क्षवि पर एक गहरा दाग लगा दिया है। वीडियो में देखिए कि कैसे एक सांसद के बेटे ने विधायक के गनर पर हमला बोला और पीछे से सांसद ने भी गनर को दबोचने की कोशिश की। भाजपा की यह महिला सांसद सीतापुर सिटी धौरारा संसदीय सीट पर जीती रेखा वर्मा हैं। धौरारा इलाके में महोली विधानसभा सीट भी आती है और यहां से भाजपा के ही नवनिर्वाचित विधायक शशांक त्रिवेदी हैं।

 

समर्थक भी भिड़े

दरअसल दोनों ही माननीयों को एक मंच के नीचे गरीबों को जाने से बचाने के लिए कंबल वितरित करना था। वहीं इस दौरान सूबे की योगी सरकार की नीतियों का बखान और पीएम नरेंद्र मोदी के गरीबों के प्रति लगाव को भी सार्वजनिक करना था। लिहाजा ठंड के आखरी हफ्तों में आयोजित इस कंबल वितरण के कार्यक्रम में दोनों माननीय अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ लोगों को कंबल बांटने के लिए उपस्थित हुए। लेकिन कहीं न कहीं एक दूसरे से ज्यादा श्रेय लेने की होड़ ने इन दोनों को कुछ ही वक्त में एक दूसरे का दुश्मन बना दिया। चंद मिनटों में हालात कुछ ऐसे बदले की सांसद ने विधायक पर अपनी जूती उठा ली। सांसद के पुत्र ने विधायक के गनर पर हमला बोल दिया। तभी बचाव में गनर विधायक समर्थकों के साथ सांसद पुत्र और उनके समर्थकों से भिड़ा तो सांसद ने स्वयं मोर्चा संभालने की कोशिश कर गनर और समर्थकों पर हमला बोल दिया।

 

किसी तरह इज्जत बचाने में जुटे नेता

सिर्फ डेढ़ मिनट के इस वीडियो में आप खुद ही सांसद पद की गरिमा को तार- तार होते बेहद साफ तौर पर देख सकते हैं और इन सबके बीच किसी तरह हॉल से बाहर निकलने की जुगत में फंसे विधायक की नाजुक हालत को भी आसानी से समझा जा सकता है। भारतीय जनता पार्टी के इन नेताओं पर पार्टी की तरफ से क्या कार्रवाई होती है। यह तो वक्त ही बताएगा। फिलहाल जिला संगठन ने पार्टी की फजीहत को कम करने के लिए दोनों के बीच अगले कुछ वक्त में ही समझौता करा दिया और दोनों को मीडिया व जनता के सामने एक साथ लाकर मामले को दबाने का पूरा प्रयास किया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned