गन्ना क्रय केंद्र पर बदमाशों ने बोला धावा, मजदूर को उतारा मौत के घाट, ट्रॉली लूटकर हुए फरार

जिले में बेखौफ बदमाशों द्वारा गन्ना क्रय केंद्र पर मौजूद मजदूर की गला घोंटकर गन्ने से भरी ट्रॉली लूटने का सनसनीखेज मामला सामने आया है।

सीतापुर. जिले में बेखौफ बदमाशों द्वारा गन्ना क्रय केंद्र पर मौजूद मजदूर की गला घोंटकर गन्ने से भरी ट्रॉली लूटने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। बेखौफ बदमाशों ने रात के अंधेरे में वारदात को अंजाम दिया और फिर हत्या कर शव को क्रय केंद्र से कुछ दूरी पर स्थित गन्ने के खेत में फेंककर फरार हो गए। वारदात से पर्दा उस वक्त उठा जब ट्रॉली का मालिक दोपहर ट्रॉली तुलवाने पहुंचा, लेकिन वहां का नजारा देख उसके होश उड़ गए। क्रय केंद्र संचालक ने पुलिस को सूचना दी और मजदूर की खोजबीन की तो उसका शव उसी के गमछे से बंधा हुआ बरामद हुआ। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

मजदूर को मारकर लूट ले गए ट्राली

घटना पिसावां थाना क्षेत्र की है। यहां रामकोट थाना निवासी 45 राम नरेश पुत्र राम प्रताप पिछले कई वर्षों से पिसावां के सरवाडीह गन्ना क्रय केंद्र पर मजदूरी करके अपना जीवन यापन करता था। मिली जानकारी के मुताबिक गन्ना क्रय केंद्र पर बीती रात 4 ट्रॉलियां गन्ना तुलवाने के लिए लाइन में लगी थीं, लेकिन देर रात होने के चलते क्रय केंद्र बंद हो गया और सभी किसान ट्रॉली छोड़कर वहां से चले गए। जानकारी के मुताबिक, क्रय केंद्र पर एक चौकीदार रहता था लेकिन बीती रात वह चौकीदार मजदूर के सहारे क्रय केंद्र छोड़कर वहां से चला गया। बीती देर रात बेखौफ बदमाशों ने क्रय केंद्र पर धावा बोलकर वहां पर मौजूद मजदूर के सर पर वारकर उसकी हत्या कर दी और उसी के गमछे से उसके हाथ पैर बांधकर उसे कुछ दूरी पर गन्ने के खेत में फेंक दिया। बदमाशों ने हत्या के बाद वहां मौजूद गन्ने से भरी ट्रॉली को भी लूट लिया और साथ लेकर फरार हो गए।

जांच में जुटी पुलिस

घटना की जानकारी पुलिस को उस वक्त हुयी जब गन्ना क्रय केंद्र पर मौजूद ट्रॉली वहां से गायब मिली। क्रय केंद्र पर मौजूद चौकीदार जब सुबह वापस आया तो उसने मजदूर रामप्रताप की खोजबीन तो उसका शव गन्ने के खेत में बंधा हुआ मिला। घटना की जानकारी पाकर मौके पर पहुंचे एसपी सहित आलाधिकारियों ने घटनास्थल का जायजा लिया और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पुलिस का कहना है कि मामले की हर पहलू से जांच पड़ताल की जा रही है और घटना के खुलासे के लिए पुलिस की 5 टीमों को लगाया गया है।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned