क्वॉरेंटाइन किये गए 5 साल के बच्चे की अचानक हुई मौत, मचा हड़कंप

सदरपुर थाना क्षेत्र के गांव मोतीलाल पुरवा मजरा लच्छीपुर निवासी 5 वर्षीय पवन कुमार पुत्र सम्बारी अपने परिजनों के साथ गांव में बने प्राथमिक विद्यालय में एक अप्रैल से क्वॉरेंटाइन था...

सीतापुर. सदरपुर थाना क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय मोतीलालपुरवा में क्वॉरेंटाइन के लिए रोके गए 5 वर्षीय बच्चे की अकस्मात मौत हो गई। परिजनों ने पुलिस को सूचना दिए बगैर शव का अंतिम संस्कार कर दिया। वहीं सीएचसी अधीक्षक ने बिना सूचना और पोस्टमार्टम के अंतिम संस्कार करने को गलत ठहराया है।

क्वॉरेंटाइन सेंटर में बच्चे की मौत

सदरपुर थाना क्षेत्र के गांव मोतीलाल पुरवा मजरा लच्छीपुर निवासी 5 वर्षीय पवन कुमार पुत्र सम्बारी अपने परिजनों के साथ गांव में बने प्राथमिक विद्यालय में एक अप्रैल से क्वॉरेंटाइन था। स्कूल में क्वॉरेंटाइन किए गए कुल सात लोगों में से पवन की उल्टी और दस्त होने के बाद बीती रात समय लगभग तीन बजे मौत हो गई। परिजन और ग्राम प्रधान इस मौत का कारण डायरिया बता रहे हैं। गांव की आशा बहू रमा देवी व अन्य ग्रामीणों ने बताया कि इस स्कूल में कन्नौज, लखनऊ और हरदोई से मजदूरी कर वापस लौटे कुल सात लोगों को सुरक्षा को दृष्टि से क्वॉरेंटाइन करके रखा गया था। परिजनों ने बच्चे की मौत के तुरंत बाद ही उसका अंतिम संस्कार स्वास्थ्य विभाग व पुलिस को बताए बगैर कर दिया।

सूचना मिलने के बाद पुलिस व स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गांव पहुंचकर परिजनों व ग्रामीणों से शिशु की मौत का कारण जाना। इस संबंध में थानाध्यक्ष सदरपुर दिनेश सिंह और महमूदाबाद के अधीक्षक डा. अजय वर्मा ने बताया कि सभी साथियों का परीक्षण किया जा चुका था। इसके बाद सभी को एक अप्रैल को प्राथमिक विद्यालय मोतीलाल पुरवा में क्वॉरेंटाइन कर दिया गया था। अधीक्षक के मुताबिक इनमें से किसी को भी कोविड-19 के लक्षण नहीं पाए गए थे। शिशु की मौत व बिना बताए अंतिम संस्कार किए जाने की सूचना पर मौके पर पहुंचे चिकित्सक डा. सतीश ने बताया कि इन्हें बिना परीक्षण अन्तिम संस्कार नहीं करना चाहिए था। मृतक के पिता ने बताया कि उसने ग्राम प्रधान प्रतिनिधि शहरयार और आशा बहू को सूचना दी थी।

Show More
नितिन श्रीवास्तव Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned