मानसून की पहली बरसात में नगर पालिका के वार्डों में हुआ भारी जलभराव

करोड़ों के प्रोजेक्ट के बावजूद आज तक नहीं हुआ जलभराव का निस्तारण

By: Ruchi Sharma

Published: 20 Jul 2018, 04:18 PM IST

सीतापुर. जिले में मानसून की पहली तेज बारिश ने नगर पालिका के वाटर ड्रेनेज सिस्टल की पोल खोल कर रख दी है। देर रात हुई तेज बारिश से सड़कों, वार्डों व घरों पर भी बारी जलभराव हो गया। लोगों का घर से निकलना दूभर हो गया है। वार्डों में स्थित घरों से निकलने वाले लोग पानी में भरे सड़कों पर निकलने के लिए लोग मजबूर है। मानसून की पहली बरसात में शहर के तमाम इलाकों में बरसात का पानी सड़कों पर बहने लगा है। अगर मानसून मेहरबान रहा तो आने वाले समय में बरसात का पानी राहगीरों के तबाही बनकर सामने आने वाला है। हालांकि इस मुद्दे पर नगर पालिका प्रशासन जल्द ही वार्डों से पानी निकलवाने की बात कह रहा है।

करोड़ों का प्रोजेक्ट भी नहीं मिटा सका स्थानीयों का दर्द

आपको बताते चले इस मानसून की पहली बरसात ने सबसे ज्यादा प्रभावित वार्ड विकास नगर कॉलोनी के ख़ूबपुर इलाका है। जहां कॉलोनी के निकलने वाले गंदे पानी के निस्तारण का कोई उपाय नहीं है। हालांकि तत्कालीन डीएम अमृत त्रिपाठी ने इस कॉलोनी के इस समस्या के लिए शासन के पास 1 करोड़ रुपये का प्रस्ताव भेजकर कॉलोनी के गंदे पानी के निकलने का स्थायी समाधान करने का प्रयास किया था, लेकिन प्रस्ताव पास होने के बाद माननीयों को उदासीनता के चलते डीएम का ट्रांसफ़र हो गया और योजना ज्यो की त्यों पड़ी राह गयी।

एक वर्ष बाद अब फिर बरसात आयी और मोहल्ले वासियों के लिए बरसात का पानी एक बार फिर मुसीबत बनने लगा। जिला प्रशासन से लेकर हर जिम्मेदार अधिकारी इस समस्या से रूबरू नहीं होना चाहता है। सिर्फ वादों के सहारे मानसून निपट जाने का इंतजार माननीय और प्रशासन करता रहता है। विकास नगर के वासियों के दर्द हर साल मानसून में बाहर आता और मानसून के दौर में वह लगातार प्रशासन से लेकर नगर पालिका और माननीयों के चक्कर लगाते है लेकिन पिछले कुछ सालों से इनकी फरियाद कोई भी सुनने वाला नहीं है। इसी के चलते हर मानसून में यहां जलभराव होता और लोग इन्ही सड़कों पर गुजरते है।

Ruchi Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned