दहेज के लिए पत्नी की पिटाई, तीन तलाक देकर घर से भगाया, पति के खिलाफ केस दर्ज

घटना बिसवां कोतवाली क्षेत्र की है।

सीतापुर. तीन तलाक पर कानून बनने के बाद भी तीन तलाक के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। ताजा मामला उत्तर प्रदेश के सीतापुर जनपद से सामने आया है। यहां शादी के एक साल बाद दहेज की अतिरिक्त मांग न पूरी होने पर पति ने हैवनियत की सारी हदें पार कर दी। पति ने पत्नी को पहले जमकर पीटा और फिर तीन तलाक देकर नवजात बच्चे समेत घर से बाहर निकाल दिया। किस्मत की मारी और पति के अत्याचार से तंग आकर पीड़िता ने आखिरकार कानून का दरवाजा खटखटाया और अपने और अपने मासूम बच्चे के लिए न्याय की गुहार लगायी। पीड़ित महिला ने पति समेत पांच लोगों पर आरोप लगाते हुए थाने में तहरीर दी हैं।


तीन तलाक देकर घर से भगाया

घटना बिसवां कोतवाली क्षेत्र की है। यहां के मोहल्ला कच्चा कटरा निवासी शहनाज बनों का विवाद एक वर्ष पूर्व सीतापुर के सिधौली तहसील के ग्राम मनिकापुर निवासी मतीन अहमद के साथ हुआ था। पीड़िता शहनाज बानों के मुताबिक, उसके पति मतीन अहमद और उसके ससुरालीजन शादी के बाद से ही अतिरिक्त दहेज की मांग कर रहे थे। पीड़िता के मुताबिक दहेज की अतिरिक्त मांग को पूरा करने में उसके परिवार वाले असमर्थ थे इसलिए आये दिन उसका पति और उसके परिवारीजन उसके साथ मारपीट करते थे और उसे प्रताड़ित किया करते थे। शहनाज अपने परिवार की मजदूरी और पति के अत्याचारों को एक साल तक सहती रही और इसी बीच उसने एक मासूम बच्चे को जन्म दिया। बच्चे के जन्म के बाद पति और उसके परिवार वालों का अत्याचार कम नही हुआ और लगातार बढ़ता गया और एक दिन पति ने उसे बेरहमी से पीटा और तीन तलाक देकर उसे बच्चे समेत घर से बाहर निकाल दिया।


पुलिस ने पति के खिलाफ दर्ज किया केस

पति और ससुराल की प्रताड़ना के तंग और घर से बाहर निकाले जाने के बाद वह अपने घर पहुंची और परिजनों को अपनी आपबीती सुनाई। पत्नी शहनाज के सामने अब कानून की दरवाजे पर दस्तक देने के सिवा जब कोई और रास्ता नही दिखा तो उसने कोतवाली पहुंचकर मामले की शिकायत पुलिस से की। पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए पीड़ित की तहरीर के आधार पर पति समेत पांच लोगों के खिलाफ सुसंगत धाराओं में केस दर्ज कर जांच पड़ताल शुरू कर दी हैं। पुलिस का कहना हैं कि मामले में केस दर्ज कर विवेचना की जा रही हैं जो तथ्य निकलकर सामने आएंगे उसके आधार पर कार्यवाई की जाएगी।

नितिन श्रीवास्तव Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned