तीन इंजीनियरिंग छात्रों का कमाल, बनाया ऐसा स्मार्ट डस्टबिन, कचरा इकटठा होने पर कूड़े वाले को खुद बुला लेगा

बेहद कम खर्च में तैयार हो जाने वाला डिजिटल डस्टबिन स्वच्छ भारत अभियान में मील का पत्थर साबित हो सकता है।

सोनभद्र. पूरे देश में स्वच्छ भारत अभियान का जोर है। स्वच्छता को और आसान बनाने के लिये कई नए इन्नोवेशन भी किये जा रहे हैं। इसी क्रम में इंजीनियरिंग के तीन छात्रों ने मिलकर एक ऐसा स्मार्ट डस्टबिन बनाया है जिसके बाद आपको कूड़े को लेकर चिंता करने की जरूरत नहीं होगी। जब भी आपके घर पर कूड़ा जमा होते ही सफाई वाला खुद आकर उसे ले जाएगा। यह सब करेगा छात्रों का बनाया हुआ स्मार्ट डस्टबिन। छात्रों के इस काम को खूब सराहना मिली है और नोएडा में यूपी इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइनिंग इसे प्रथम पुरस्कार दिया है। बेहद कम खर्च में तैयार हो जाने वाला डिजिटल डस्टबिन स्वच्छ भारत अभियान में मील का पत्थर साबित हो सकता है।

यह स्मार्ट डस्टबिन सोनभद्र के राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज के तीन छात्रों अभय प्रताप, मानसी सिंह और सर्वेश दि्ववेदी ने मिलकर बनाया है। उनका कहना है कि स्मार्ट डस्टबिन न सिर्फ खुद बताएगा कि कूड़ा भर गया है, बल्कि यह कूड़ा कलेक्ट करने वाले को भी सूचित कर देगा। इतना ही नहीं अगर सूचना के बाद भी कूड़ा लेने वाला नहीं आया तो यह उसके सुपरवाइजर और उसके भी न सुनने पर अधिकारी से भी शिकायत करेगा कि कूड़ा भर चुका है लेकिन इसे लेने के लिये कूड़ा कलेक्ट करने वाला कर्मचारी नहीं आया।

कैसे काम करेगा स्मार्ट डस्टबिन

अपने इन्नोवेशन के बारे में छात्र सर्वेश दि्ववेदी बताते हैं कि ये एक हजार रुपये से भी कम कीमत में बनकर तैयार हुआ है। इसे बनाने में इलेक्ट्रॉनिक कम्पोनेंट और जीपीएस का इस्तेमाल किया गया है। इसकी मोबाइल के साथ कनेक्टिविटी भी है। स्मार्ट डस्टबिन जब 50% भर जाएगा तो यह एरिया के नजदीकी कूड़ा कलेक्ट करने वाले सफाई कर्मी के मोबाइल पर मैसेज भेज देगा। अगर उसने कूड़ा नहीं कलेक्ट किया तो 75% भरने पर यह सुपरवाइजर को मैसेज करेगा। इसके बाद भी कूड़ा नहीं कलेक्ट हुआ तो 95% भर जाने पर यह सम्बन्धित अधिकारी को मैसेज कर यह बता देगा कि अब कूड़ा पूरी तरह भर चुका है। छात्रों ने बताया कि अभी इसमें यह सुधार करने की कोशिश भी की जा रही है कि कौन सा डस्टबिन कितना नजदीक है यह भी पता चल सके।

Smart Dustbin
स्मार्ट डस्टबिन बनाने वाले छात्र अभय प्रताप, मानसी सिंह और सर्वेश दि्ववेदी IMAGE CREDIT:

24 प्रोजेक्ट में रहा नं. 1

इसे बनाने वाली टीम की सदस्य बीटेक इलेक्ट्रिकल की छात्रा मानसी सिंह ने बताया कि नोएडा स्थित यूपी इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइनिंग में बड़ा कार्यक्रम होने वाला है। इसको ध्यान में रखते हुए पूरे देश से 24 सबसे बढ़ियां प्रोजेक्ट्स को शामिल किया गया। इसमें हमारा स्मार्ट डस्टबिन का प्रोजेक्ट सबमें नं. वन चुना गया। इसे लिये 10 हजार रुपये कैश ईनाम भी मिला।

नगर निकायों में हो सकेगा बेहतर इस्तेमाल

सोनभद्र इंजीनियरिंग कॉलेज के डायरेक्टर वीके गिरी ने बताया कि अभी यह कोशिश की जा रही है कि इसके लोकेशन सिस्टम में और सुधार किया जा सके, ताकि यह पता लग सके कि कौन सा डस्टबिन कितना नजदीक है। जल्द ही शासन स्तर पर बात करके इसका इस्तेमाल नगर निकायों में करवाने की कोशिश की जाएगी, ताकि इसे बनाने का मकसद सफल हो।

By Santosh

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned