सपा पाले में रही जिला पंचायत अध्यक्ष की गई कुर्सी, सदस्यों ने लाया अविश्वास प्रस्ताव

Jyoti Mini

Publish: Oct, 13 2017 05:12:52 (IST)

Sonbhadra, Uttar Pradesh, India
सपा पाले में रही जिला पंचायत अध्यक्ष की गई कुर्सी, सदस्यों ने लाया अविश्वास प्रस्ताव

26 जिला पंचायत सदस्यो में से 25 ने विपक्ष में दिया मत

 

सोनभद्र. सूबे में योगी सरकार बनने के बाद से ही सपा के पाले में रही जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी को लेकर जिला प्रशासन ने इसके लिए सुरक्षा के किये कड़े प्रबन्ध किये थे। सुरक्षा की दृष्टि से उप जिलाधिकारी विशाल यादव, अपर पुलिस अधीक्षक डॉक्टर अवधेश सिंह, अरुण कुमार दीक्षित के अलावा भारी संख्या में फ़ोर्स तैनात रही, व्यवस्था में किसी भी तरह की दखल अंदाजी ना हो इसको लेकर कई जगहों पर बैरिकेडिंग किया गया था।

 

 

police force
IMAGE CREDIT: patrika

अविश्वास प्रस्ताव के कयास लगाये जा रहे थे. आखिरकार छह माह बीत जाने के बाद जिला पंचायत सदस्यों ने अविश्वास प्रस्ताव ला खड़ा किया। अगले महीने जिला पंचायत अध्यक्ष के कार्यकाल को तीन साल पूरे हो रहे हैं। इसी कड़ी में आज सदस्यों ने जिला पंचायत कार्यालय में अपने अविश्वास प्रस्ताव के मत किया।

जिला पंचायत अध्यक्ष का अविश्वास पास हो गया है। प्रेक्षक के रूप में जिला जज के प्रतिनिधि सिविल जज सीनियर डिवीजन के विनय कुमार सिंह की देख-रेख में अविश्वास प्रक्रिया संपन्न हुआ। अपर मुख्य अधिकारी वर्तिका ने बताया कि, जिलापंचायय अध्यक्ष के विपक्ष में 33 में से 25 मत पड़े। जबकि एक मत पक्ष में पड़ा। जिला पंचायत अध्यक्ष का अविश्वास हो गया है। अब जब तक चुनाव नहीं होता तब तक राज्य सरकार के निर्देश पर जिलाधिकारी द्वारा किसी को नामित किया जायेगा।

 

jila panchayat no confidence motion
IMAGE CREDIT: patrika

आपको बता दें कि, जिला पंचायत अध्यक्ष अनिल कुमार यादव के खिलाफ 33 में से 25 मत पड़े। जिसमें अमरेश कुमार पटेल नगवा ,राजकुमार, राजमती देवी, तेजबली ,रमाकांत, विनोद मौर्य, राजकुमार यादव, मनोज कुमार, नागेंद्र प्रसाद, संजू लता, मुनीब, विरजन राम, मानसिंह ,काजल देवी ,देव नारायण सिंह, दुर्गावती आदि ने अध्यक्ष के विपक्ष में किया।

 

sp
IMAGE CREDIT: net

यह भी पढें-

निकाय चुनाव का आरक्षण जारी होने के बाद बढ़ी चुनावी सरगर्मी
नगर निकाय चुनाव को लेकर आरक्षण सूची जारी होने के बाद चुनावी सरगर्मी तेज हो गई है। प्रमुख दलों के साथ छोटे दलों ने भी अपनी जो आजमाइश शुरू कर दी है। वार्ड सभासद के साथ ही निकाय अध्यक्ष के लिए भी जोड़तोड़ शुरू हो गया है। अध्यक्षों की आरक्षण सूची आने के साथ चुनावी सरगर्मी तेज हो गई है। प्रमुख दलों के अलावा आजाद उम्मीदवार की हैसियत से किस्मत आजमाने वाले मतदाताओं का मन टटोलने के लिए वार्डों के चक्कर लगाने लगे हैं।

input- जितेंद्र गुप्ता

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned