हुड्डा व चौटाला पर ईडी ने कसा शिकंजा

मानेसर जमीन घोटाले में हुड्डा से चार घंटे पूछताछ।
चौटाला की पंचकूला कोठी के बाहर नोटिस लगा किया अटैच।
सीआरपीएफ की मौजूदगी में तेजा खेड़ा फार्म को खंगाला।

(चंडीगढ़). प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बुधवार को अहम कार्रवाई करते हुए हरियाणा के दो पूर्व मुख्यमंत्रियों के खिलाफ शिकंजा कस दिया है। ईडी ने एक तरफ जहां भूपेंद्र सिंह हुड्डा को मानेसर जमीन घोटाले के आरोप में चार घंटे तक पूछताछ के लिए बिठाए रखा, वहीं जेबीटी भर्ती घोटाले में सजा काट रहे पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला के सिरसा स्थित तेजा खेड़ा फार्म को खंगाल डाला और पंचकूला में उनके एक मकान को सील करके अटैच कर दिया। ईडी के जोनल ऑफिस चंडीगढ़ तथा दिल्ली मुख्यालय की टीमों ने बुधवार को दिनभर इस कार्रवाई को अंजाम दिया।
चार घंटे हुई पूछताछ
सुबह करीब साढ़े नौ बजे हुड्डा सैक्टर-18 स्थित ईडी कार्यालय पहुंचे। जहां करीब चार घंटे पूछताछ हुई। हुड्डा के ईडी कार्यालय में होने की सूचना मिलते ही मीडिया का जमावड़ा लग गया। दोहपर करीब एक बजे हुड्डा ईडी कार्यालय के पिछले दरवाजे से बाहर निकल गए। दूसरी तरफ ईडी की टीम ने सुबह भारी पुलिस तथा अद्र्ध सैनिक बलों के साथ सिरसा जिला के तेजा खेड़ा स्थित चौटाला फार्म में डेरा डाल लिया। ईडी के अधिकारियों ने तेजा खेड़ा में कई घंटे सर्च की।
बड़ी कार्रवाई को अंजाम

हुड्डा व चौटाला पर ईडी ने कसा शिकंजा

ईडी के सहायक निदेशक दीपक कुमार व उनकी टीम ने पंचकूला में बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए मनसा देवी कांप्लैक्स सैक्टर-चार स्थित कोठी नंबर छह-पी को भी अटैच कर दिया। कोठी के बाहर नोटिस चस्पा करने के अलावा बड़ा बोर्ड भी लगा दिया गया है। जिस पर लिखा गया है कि यह संपत्ति ईडी की है, जोकि की पहले ओम प्रकाश चौटाला की थी।

satyendra porwal
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned