हरियाणा सरकार ने अतिथि अध्यापकों का वेतन 25 फीसदी तक बढाने का किया फैसला

Prateek Saini

Publish: Jul, 13 2018 09:31:21 PM (IST)

Haryana, India
हरियाणा सरकार ने अतिथि अध्यापकों का वेतन 25 फीसदी तक बढाने का किया फैसला

(चंडीगढ़): हरियाणा सरकार ने राज्य के सरकारी स्कूलों में सेवारत अतिथि अध्यापकों की समान काम के लिए समान वेतन की मांग पर फैसला करते हुए उनके वेतन को 20 से 25 प्रतिशत बढ़ाने तथा भविष्य में इसे हर वर्ष दो बार महंगाई की दर के अनुसार शत-प्रतिशत आधार पर बढ़ाने का निर्णय लिया है।

 

राज्य सरकार के इस फैसले से जेबीटी,ड्राईंग टीचर, मास्टर व स्कूल लैक्चररों के तौर पर नियुक्त अतिथि अध्यापकों को एक जुलाई 2018 से क्रमवार 26,000 रूपए, 30,000 रूपए व 36,000 रूपए प्रतिमाह वेतन मिलेगा। यही नहीं इनका वेतन हर वर्ष एक जनवरी व एक जुलाई से हरियाणा प्रदेश के ‘कॉस्ट ऑफ लिविंग इंडेक्स’ में होने वाली बढ़ौतरी के बराबर दर से बढ़ता रहेगा।

 

हरियाणा के शिक्षा मंत्री राम बिलास शर्मा ने बताया कि अतिथि अध्यापकों के चार संगठनों के साथ मुख्यमंत्री मनोहर लाल व उनकी वार्ता हुई थी जिसमें अतिथि अध्यापकों के हित में यह फैसला किया गया। उन्होंने बताया कि भाजपा सरकार शुरू से ही अतिथि अध्यापकों के हित में कदम उठाती आई है । पिछली सरकार ने वर्ष 2006 में अतिथि अध्यापकों की नियुक्ति की थी जिनको प्रति पीरियड के हिसाब से भुगतान किया जाता था । इसके बाद उनके वेतन में थोड़ी-बहुत बढ़ौतरी की गई ।


वर्तमान सरकार ने सातवें वेतन आयोग की रिपोर्ट के बाद 14.52 प्रतिशत बढ़ौतरी सुनिश्चित करते हुए इन जेबीटी,ड्राईंग टीचर, मास्टर व स्कूल लैक्चररों का वेतन एक जनवरी 2017 से क्रमवार 21,715 रूपए, 24,001 रूपए तथा 29,715 रूपए प्रतिमाह कर दिया था । अब मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने राज्य के सरकारी स्कूलों में सेवारत हजारों अतिथि अध्यापकों के हित में यह नया फैसला किया है ।

यह भी पढे: ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने समलैंगिकता की सुनवाई से बनाई दूरी, बोले- SC का फैसला सर्वमान्य

यह भी पढे: गिरफ्तारी से चंद घंटों पहले नवाज शरीफ ने दिया भावुक बयान, 'बीमार बीवी को अल्लाह के भरोसे छोड़ रहा हूं'

Ad Block is Banned