#करसलाम: पाक की छाती पर चढ़कर बर्बाद किए थे 7 तोप, मौत के वक्त भी लोड करता रहा गन

शायद उन्हें ये नहीं पता था कि भारत से लड़ने के लिए जिगरा चाहिए, जो उनके पास नहीं था।

By:

Published: 04 Jan 2018, 07:57 PM IST

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश का गाज़ीपुर ज़िला, बात है सन् 1933 की। गाज़ीपुर के एक मुस्लिम परिवार में 1 जुलाई के दिन एक बच्चे का जन्म हुआ था। घर वालों की सहमति से बच्चे का नाम पड़ा अब्दुल हमीद। मुझे न जाने ऐसा क्यों लग रहा है कि अब्दुल हमीद का नाम लेते ही आपके मन में कोई ख्याल आ रहा है। हो भी सकता है क्योंकि साधारण सा दिखने वाला वो बच्चा बड़ा होकर पाकिस्तान का इतना बड़ा दुश्मन बनेगा किसी ने सपने में भी नहीं सोचा था। पाकिस्तान ने जब 1965 में हमसे लड़ाई करने का इरादा किया तो हमीद ने अपने दम पर ही पाकिस्तान के बुझदिल सैनिकों को धूल चटाने का मन बना लिया था।

उन दिनों पाकिस्तान अमेरिका से मंगवाए पैटन टैंकों पर बहुत उछल रहा था। पाकिस्तान को न जाने ऐसा क्यों लग रहा था कि वो सिर्फ टैंक के भरोसे भारत को हरा देंगे। शायद उन्हें ये नहीं पता था कि भारत से लड़ने के लिए जिगरा चाहिए, जो उनके पास नहीं था। युद्ध के दौरान हमीद ने अपनी आरसीएल जीप से ही अमेरिका से लिए पाकिस्तान के 7 टैंकों को भस्म कर दिया था। हमीद के इस हैरतअंगेज़ कारनामे को देखकर पूरी दुनिया अपने दांतों तले उंगली चबाने को मजबूर हो गई। पाकिस्तान की हालत का अंदाज़ा तो आप खुद ही लगा सकते हैं।

लेकिन 10 सिंतबर की बात है, दुश्मनों ने हमीद को चारों ओर से घेर लिया। लेकिन इस जवान के जिगरे को तो देखो, जान बचाने के बजाए वो अपनी गन लोड कर रहा था। मेरे ख्याल से हमीद के मन में यही बात आ रही होगी कि जाते-जाते जितने निपट जाएं, कम से कम स्कोर तो बढ़ेगा। बस, इसी बीच हमीद को गोलियों ने छलनी कर दिया। 32 की उम्र में हमीद ने पंजाब के तरण-तारण में शहीद हो गए।

अब्दुल हमीद 27 दिसंबर 1954 को भारतीय सेना के साथ जुड़े थे। उनकी जॉइनिंग ग्रीनेडियर्स रेजिमेंट में हुई थी। हमीद के साहस और बलिदान के लिए उन्हें परमवीर चक्र से नवाज़ा गया।

abdul hamid
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned