script89000 women, girls killed in 2022: UN | विश्व में पिछले साल जानबूझकर मारी गईं 89,000 महिलाएं, बच्चियां | Patrika News

विश्व में पिछले साल जानबूझकर मारी गईं 89,000 महिलाएं, बच्चियां

locationजयपुरPublished: Nov 24, 2023 02:02:23 pm

Submitted by:

Kiran Kaur

वैश्विक स्तर पर 2022 में हत्याओं के कुल मामलों में गिरावट के बावजूद महिला हत्याओं की संख्या में कमी नहीं हो रही।

विश्व में पिछले साल जानबूझकर मारी गईं 89,000 महिलाएं, बच्चियां
विश्व में पिछले साल जानबूझकर मारी गईं 89,000 महिलाएं, बच्चियां
वियना। दुनियाभर में पिछले साल लगभग 89,000 महिलाओं और बच्चियों को जानबूझकर मार दिया गया। यह आंकड़ा दो दशकों के दौरान अब तक की सर्वाधिक संख्या है। संयुक्त राष्ट्र के ड्रग्स व अपराध निरोधक कार्यालय (यूएनओडीसी) की ओर से जारी 'महिलाओं और लड़कियों की हत्याएं' शीर्षक वाला अध्ययन गंभीर वास्तविकता को रेखांकित करता है कि घर भी महिलाओं और लड़कियों के लिए सुरक्षित ठिकाना नहीं हं। वैश्विक स्तर पर 2022 में हत्याओं के कुल मामलों में गिरावट के बावजूद महिला हत्याओं की संख्या में कमी नहीं हो रही।
अपने घर में सुरक्षित नहीं महिलाएं और बच्चियां:

रिपोर्ट के आंकड़े चौंकाने वाले हैं। इनके अनुसार दुनिया के अलग-अलग देशों में गत वर्ष महिलाओं और लड़कियों की 55 फीसदी हत्याएं (लगभग 48,800) उनके पार्टनर या परिवार के अन्य सदस्यों ने ही की थी। इसका मतलब है कि रोजाना औसतन 133 से अधिक महिलाओं को उनके ही घर में मार दिया जाता है। दुनियाभर के सभी क्षेत्रों में महिलाएं और लड़कियां हिंसा का अनुभव करती हैं। लेकिन पिछले साल ऐसा पहली बार हुआ जब कुल पीड़ितों (20,000) की सर्वाधिक संख्या वाले क्षेत्र के रूप में अफ्रीका ने एशिया को पीछे छोड़ दिया।
यूरोप में 2010 के बाद से आई हत्याओं में कमी:

उत्तरी अमरीका में पार्टनर या परिवार के सदस्यों द्वारा की जाने वाली महिलाओं की हत्याओं में 2017-2022 के बीच 29 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। जबकि मध्य और दक्षिण अमरीका में क्रमश: 10 प्रतिशत और आठ फीसदी की कमी आई है। यूरोप में भी 2010 के बाद से इस प्रकार की हत्याओं में औसतन 21 प्रतिशत की कमी देखी गई है। वहीं सीमित डेटा उपलब्धता के कारण अफ्रीका, एशिया और ओशिनिया में समय के साथ इन रुझानों का अनुमान लगाना संभव नहीं। हालांकि कई एशियाई देशों के उपलब्ध राष्ट्रीय डाटा से पता चलता है कि महिलाओं और लड़कियों के लिए हत्याओं का जोखिम धीरे-धीरे कम हो रहा है।
एक्सपर्ट व्यू:
महिला हत्याओं की चिंताजनक संख्या बताती है कि मानवता अभी भी गहरी जड़ें जमा चुकी असमानताओं और महिलाओं व लड़कियों के खिलाफ हिंसा से जूझ रही है। खोया गया हर जीवन इस कार्रवाई का आह्वान करता है कि संरचनात्मक असमानताओं को तत्काल संबोधित करने के साथ-साथ आपराधिक न्याय प्रतिक्रियाओं में सुधार किया जाए, जिससे किसी भी महिला या लड़की को अपने जीवन के लिए डर न हो।
गादा वॉली, कार्यकारी निदेशक, यूएनओडीसी
महिलाओं और बच्चियों की हत्या
अफ्रीका - 20,000 हत्याएं
एशिया-18,400 हत्याएं
अमरीका-7,900 हत्याएं
यूरोप- 2,300 हत्याएं
ओशिनिया- 200 हत्याएं
स्रोत: यूएनओडीसी

ट्रेंडिंग वीडियो