कोरोनाकाल में बच्चे को भेजने से पहले एक्सपर्ट की ये राय जरूर जान लें

-स्क्रीन टाइम बढऩे से बच्चों की रचनात्मकता खत्म हो रही है

By: pushpesh

Published: 18 Oct 2020, 11:51 PM IST

जयपुर. कई देशों में हाइब्रिड लर्निंग शुरू हो रही है। बच्चों को स्कूल भेजने को लेकर अभिभावकों में अभी तक संशय है। अमरीकी पैरेंटिंग टीचर मेघन लेही से एक महिला ने सवाल पूछा, जो उन्होंने ये जवाब दिया।

प्रश्न : इस महीने से हाइब्रिड लर्निंग के लिए मेरी छोटी बच्ची स्कूल जाएगी। मैं जानती हूं कि उसके लिए स्कूल अच्छा है, लेकिन डर भी है, क्योंकि संक्रमण की दर अब भी चिंतानजक है। मुझे क्या करना चाहिए? मेरे पास काम अधिक है, इसलिए पहले ही वह डे केयर सेंटर में जा रही है।

जवाब : ये कई परिवारों की दुविधा है। आप हाइब्रिड लर्निंग के लिए भेजें या स्कूल, ये कोई नहीं जानता कि सही निर्णय क्या है। आपने डे केयर में भेजकर भी जोखिम लिया है। हालांकि वे सुरक्षा प्रोटोकॉल को फॉलो करते हैं और पूरा ध्यान रखते हैं। कुछ बातों पर गौर किया जाना चाहिए। हम जानते हैं कि स्कूल नहीं जाने से बच्चे अच्छा महसूस नहीं कर रहे हैं। स्क्रीन टाइम का बढऩा न केवल उन्हें सही लर्निंग से रोक रहा है, बल्कि व्यवहार संबंधी समस्याओं का कारण भी बन रहा है। क्योंकि प्राथमिक कक्षाओं के बच्चे शिक्षक से खेल-खेल में सीखने के अभ्यस्त होते हैं। स्क्रीन उनकी जिज्ञासा और रचनात्मकता को कुंद कर रही है। कोविड-19 के रोगियों का इलाज कर रहीं लूसी मैकब्राइड का कहना है कि यदि स्कूल जोखिम से बचने के सभी प्रोटोकॉल फोलो करते हैं तो बच्चों का स्कूल जाना गलत नहीं है। जैसे मास्क लगाना, कक्षा में बच्चों के बीच छह फीट का अंतराल, बार-बार हाथ धोना, नियमित जांच और संक्रमण मुक्त करने की प्रक्रिया करना। स्कूल जाने से उनकी सामाजिक और भावनात्मक सेहत सुधरेगी और माता-पिता की जॉब पर भी असर नहीं पड़ेगा।

स्कूल से पूछें जरूरी बातें
स्कूल प्रबंधन से संक्रमण से निपटने की व्यवस्था के बारे में पूछें। सभी अभिभावकों को सूचित किया गया है या नहीं? यदि किसी कारण से स्कूल फिर से बंद करने की नौबत आई तो वर्चुअल लर्निंग या फिर से डे केयर शुरू करने की तैयारी है?

खुद के साथ दूसरों का भी ध्यान रखें
ये आकलन आप ही कर सकते हैं कि स्कूल भेजना कितना सुरक्षित है। आपके घर में कोई संक्रमित है या हल्के लक्षण नजर आ रहे हैं तो बच्चे को स्कूल कतई नहीं भेजें, क्योंकि इससे आप अन्य बच्चों का जीवन संकट में डाल रहे हैं। इसलिए परिवार की कोविड हिस्ट्री ध्यान में रखते हुए तय करें। ये दो बातों पर निर्भर है, एक तो आप कितना जोखिम लेने के लिए तैयार हैं? दूसरा, उस क्षेत्र में संक्रमण और रिकवरी दर कैसी है?

Show More
pushpesh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned