scriptहत्या का प्रयास है बच्चों को गर्म सलाखों से दागना, सीएमएचओ, एसी ट्राइबल ने दी समझाइश | Patrika News
खास खबर

हत्या का प्रयास है बच्चों को गर्म सलाखों से दागना, सीएमएचओ, एसी ट्राइबल ने दी समझाइश

आशा प्रशिक्षण कार्यक्रम में दागना जिला टास्क फोर्स ने किया संवाद

शाहडोलJun 07, 2024 / 12:12 pm

Ramashankar mishra

शहडोल. स्वास्थ्य विभाग की आशा कार्यकर्ताओं के जिला स्तरीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में दागना कुप्रथा पर जिला प्रशासन की दागना टास्क फोर्स टीम ने संवाद किया। इस दौरान आशा कार्यकर्ताओं को बताया कि दागना कितना घातक है और बच्चों की कैसे जान ले रहा है। असिस्टेंट कमिश्नर ट्राइबल व सीएमएचओ ने वैज्ञानिक तरीकों से आशा कार्यकर्ताओं का बताया कि दागना की कैसे काउंसलिंग करना है और किस तरह से दागना के केस को कंट्रोल कर सकते हैं। सहायक आयुक्त आनंद राय सिंहा ने अंधविश्वास से शुरुआत करते हुए ओसीडी (मनोग्रसित बाध्यता विकार) से जोड़ते हुए दागना के बारे में समझाया। उन्होंने कहा कि अंधविश्वास के फेर में बच्चों को गर्म सलाखों से दागना हत्या का प्रयास है। उन्होने कहा कि पुराने समय में जब स्वास्थ्य सुविधाएं अच्छी नहीं थी तब दादा दादी नाना नानी दवाइयां देते थे। झाडफ़ूंक करते थे लेकिन दागते नहीें थे। दागना के खिलाफ सबको आगे आना है।

सामूहिक जिम्मेदारी और काउंसलिंग से जीतेंगे जंग
सीएमएचओ डॉ एके लाल ने कहा कि कमिश्नर व कलेक्टर के निर्देशन में पूरे जिले में दागना के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। दागना के खिलाफ हम सबकी सामूहिक जिम्मेदारी है। मैदानी अमले की जिम्मेदारी और बढ़ जाती है। हमें कोशिश करना चाहिए कि एक भी दागना के केस न मिले। गांव-गांव काउंसलिंग और बच्चों का दर्द समझेंगे तभी दागना से जंग जीत सकेंगे।
इनकी रही मौजूदगी
संवाद में सीएमएचओ डॉ एके लाल, एसी ट्राइबल आनंद राय सिंहा, जिला टास्क फोर्स टीम कोर्डिनेटर, जिला प्रशिक्षक सुदीप चक्रवर्ती, डॉ संगीता, चन्द्रशेखर, रितु चतुर्वेदी व आशा कार्यकर्ता मौजूद रहीं।

Hindi News/ Special / हत्या का प्रयास है बच्चों को गर्म सलाखों से दागना, सीएमएचओ, एसी ट्राइबल ने दी समझाइश

ट्रेंडिंग वीडियो