scriptमुख्यमंत्री के दावे बेअसर : माफिया व खनन कारोबारी ने नदी के बीच में बनाई सडक़, मशीन लगाकर निकाल रहे रेत | Patrika News
खास खबर

मुख्यमंत्री के दावे बेअसर : माफिया व खनन कारोबारी ने नदी के बीच में बनाई सडक़, मशीन लगाकर निकाल रहे रेत

जहां पटवारी व एएसआई की हत्या, उसी क्षेत्र में कारोबारी हावी, अधिकारी भी नहीं कर पा रहे कार्रवाई

शाहडोलJun 12, 2024 / 12:17 pm

Ramashankar mishra

शहडोल. मंत्रालय में पत्रकारवार्ता के दौरान मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने दावा किया है कि खनन माफिया के खिलाफ लगातार कार्रवाई कर रहे हैं। माफिया में हडक़ंप है। वे ट्रैक्टर ट्राली छोडकऱ भाग रहे हैं। जबकि शहडोल में माफिया व खनन कारोबारी बेखौफ होकर अवैध तरीके से नदियों में हैवी मशीनें उतारकर खनन करा रहे हैं। जिस क्षेत्र में एएसआई और पटवारी की माफिया ने ट्रैक्टर से कुचलकर हत्या की थी, उसी क्षेत्र में माफिया हावी है। मानसून व रेत प्रतिबंध का समय नजदीक आते ही ब्यौहारी के पोड़ी में खनन कारोबारियों ने नदी के भीतर लंबा रैंप बना दिया है। इतना ही नहीं, कुछ जगहों पर नदी की धार को भी बदलकर रेत निकाल रहे हैं। मानसून के नजदीक आते ही बड़े स्तर पर रेत का भंडार तैयार किया जा रहा है। लगातार शिकायतों के बावजूद अधिकारी राजनीतिक संरक्षण में कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि, पोड़ी पुल से 5 किमी आगे चरकवाह और पोड़ी के बीच क्षेत्र में खनन कारोबारियों ने रेत निकालने के लिए नदी के बीच पर सडक़ बना ली है। नदी के बीच इसी लंबी सडक़ से माफिया व खनन कारोबारियों के हैवी वाहन गुजर रहे हैं। रेत निकालने के लिए इसी रैंप में मशीन भी लगा रखी है।

अधिकारियों की दलील, गड्ढा कर निकाल रहे रेत
अधिकारियों की दलील है कि खनन कारोबारियों ने मशीन लगाकर एक ओर रेत निकाल ली है। इसकी वजह से एक ओर गड्ढा हो गया है, जहां पानी का भराव हो गया है।

सीमा से हटकर खनन संबंधी शिकायत की जांच करने पहुंची टीम
ब्यौहारी में सीमा से हटकर रेत उत्खनन की शिकायत स्थानीय जनप्रतिनिधि ने जिला प्रशासन से की थी। इस तरह की शिकायतें लगातार की जा रही हैं। शिकायत को गंभीरता से लेते हुए मंगलवार को खनिज विभाग की टीम मौके पर पहुंची। टीम ने खदान की निर्धारित सीमा व किए जा रहे उत्खनन की जांच शुरु कर दी है। जांच पूरी होने के बाद टीम वरिष्ठ अधिकारियों को रिपोर्ट सौंपेगी। खनिज अधिकारी देवेन्द्र पटले ने बताया कि जांच टीम की रिपोर्ट के आधार पर ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।
फर्जी टीपी मामले में ड्राइवर व वाहन मालिक के दर्ज होंगे बयान
जैतपुर वन परिक्षेत्र में अवैध परिवहन मामले में अधिकारियों ने जांच शुरू कर दी है। वाहन क्रमांक सीजी 10 बीएल 9775 के नाम से टीपी कटी थी जो कि कहीं और खड़ा था। पूरे मामले को लेकर वन विभाग ने सख्त रुख अपनाया है। पूरे मामले की जांच जैतपुर वन परिक्षेत्र अधिकारी को सौंपी गई है। अब ड्राइवर और वाहन मालिक के बयान दर्ज होंगे। अधिकारियों ने दोनों को जवाब मांगा है। इधर वाहन मालिक का कहना है कि कंपनी में वाहन को लगाया था।

इनका कहना है
अवैध खनन की शिकायत पर लगातार कार्रवाई की जा रही है। शिकायत मिलने पर जांच के लिए टीम भी भेजी जा रही है। कहीं पर नियमों को दरकिनार कर रैंप बनाई है तो कार्रवाई की जाएगी।
तरुण भटनागर, कलेक्टर शहडोल

Hindi News/ Special / मुख्यमंत्री के दावे बेअसर : माफिया व खनन कारोबारी ने नदी के बीच में बनाई सडक़, मशीन लगाकर निकाल रहे रेत

ट्रेंडिंग वीडियो