scriptCongress Chintan Shivir: Contemplation starts in Congress 13th may | Congress Chintan Shivir 2022 : सत्ता से जाते ही कांग्रेस में शुरू हो जाता है चिंतन, क्या गुल खिलाएगा उदयपुर मंथन | Patrika News

Congress Chintan Shivir 2022 : सत्ता से जाते ही कांग्रेस में शुरू हो जाता है चिंतन, क्या गुल खिलाएगा उदयपुर मंथन

कांग्रेस के तीन दिवसीय चिंतन शिविर में भाग लेने के लिए राहुल गांधी दिल्ली के सराय रोहिल्ला स्टेशन से ट्रेन से राजस्थान के उदयपुर पहुंच चुके हैं। सबसे बड़ा सवाल ये है कि एक के बाद एक कई राज्यों के चुनावों में हार से पस्त कांग्रेस क्या इस चिंतन शिविर में हार की ईमानदार समीक्षा करेगी? लेकिन उसके पहले राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने नया सवाल खड़ा कर दिया है। राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बनाने का। देखना होगा कि कांग्रेस इस चिंतन शिविर में किस सवाल का सामना किस तरह से करती है....

जयपुर

Updated: May 13, 2022 07:03:02 am

झीलों की नगरी उदयपुर में आज 13 मई, शुक्रवार से कांग्रेस का तीन दिवसीय 'नव संकल्प चिंतन शिविर' शुरू हो रहा है। देश का सबसे पुराना दल अपनी कमजोरियां व भावी चुनौतियों पर विचार करेगा। कांग्रेस के सामने चुनौती ये है कि दो माह पहले हुए पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के नतीजे पार्टी के लिए निराशाजनक रहे थे। ऐसे में कांग्रेस के चिंतन शिविर के इतिहास पर एक नजर डालना भी जरूरी है। कांग्रेस में चिंतन शिविर मुख्य रूप से सोनिया गांधी के पार्टी के अध्यक्ष के रूप में सत्ता संभालने के बाद शुरू हुए हैं। 14 मार्च 1998 में पहली बार कांग्रेस की बागडोर संभालने के बाद कांग्रेस का पहला चिंतन शिविर पचमढ़ी में सितंबर 1998 में हुआ था। इस समय तक कांग्रेस केंद्र की सत्ता से बेदखल हो चुकी थी और अटल बिहारी वाजपेयी भाजपा के नेतृत्व में बनी गठबंधन सरकार के प्रधानमंत्री बने जो 19 मार्च 1998 से 22 मई 2004 तक रहे। जबकि कांग्रेस का दूसरा चिंतन शिविर आम चुनाव से ठीक पहले पांच साल बाद 2003 में शिमला में आयोजित हुआ था। जबकि तीसरा चिंतन शिविर 2013 में जयपुर में आयोजित हुआ था और अब नौ साल बाद राजस्थान के उदयपुर में चौथा शिविर हो रहा है।
rahul_to_udaipur.jpg
congress_chintan_shivir_history.jpgक्या मंथन से निकलेगा शिमला जैसा अमृत

चिंतन शिवर के परिणामों की बात करें तो आरंभ के 1998 और 2003 के दो शिविर सफल कहे जा सकते हैं क्योंकि इसके बाद जो आम चुनाव 2004 में हुए उसमें कांग्रेस के नेतृत्व में गठबंधन सरकार का गठन हुआ था, जो लगातार एक दशक तक चली। गौर करने की बात ये है कि इस बीच कांग्रेस को किसी चिंतन शिविर की जरूरत नहीं पड़ी!
congress_chintan1.jpgपचमढ़ी शिविर को याद करने की है जरूरत

बता दें, 1998 में, सोनिया गांधी के पार्टी अध्यक्ष के रूप में बागडोर संभालने के बाद मध्य प्रदेश के पचमढ़ी में 4 से 6 सितंबर के बीच इसी तरह का एक चिंतन शिविर आयोजित किया गया था। पचमढ़ी अधिवेशन में सोनिया गांधी ने अपने उद्घाटन भाषण में कहा था, “चुनावी उलटफेर अपरिहार्य हैं और अपने आप में चिंता का कारण नहीं हैं। लेकिन जो बात हमें परेशान करती है वह है हमारे सामाजिक आधार का क्षरण होना, उस सामाजिक गठबंधन का हमसे दूर जाना जो हमारा समर्थन करता है और हमारी ओर देखता है। यह भी चिंताजनक है कि पार्टी की भीतरी कलह हमारा इतना समय और ऊर्जा लेती है, जबकि इसे लोकप्रिय समर्थन और आमजन का भरोसा हासिल करने के लिए मिलकर काम करने के लिए इस्तेमाल किया जाना चाहिए।
कहने की जरूरत नहीं कि आज ये चुनौतियां कांग्रेस के सामने पहले से कहीं बहुत विकट हैं....देखना होगा कि आज से शुरू हो रहा कांग्रेस का चिंतन शिविर उसे सत्ता में लाता है या फिर कांग्रेस में चिंता के सुर तेज होते हैं। इस बार के चिंतन शिविर का खास बात ये बताई जा रही है कि इस बार 50 प्रतिशत से अधिक भागीदार युवा होने का दावा किया जा रहा है। देखना होगा कि इस शिविर में युवाओं की बात कितनी सुनी जाती है। सचिन पायलट जैसे नेता जरूर इस पर नजर रख रहे होंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलपंजाब के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के OSD प्रदीप कुमार भी हुए गिरफ्तार, 27 मई तक पुलिस रिमांड में विजय सिंगलारिलीज से पहले 1 जून को गृहमंत्री अमित शाह देखेंगे अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज', जानिए किस वजह से रखी जा रहीं स्पेशल स्क्रीनिंगGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबIPL 2022, Qualifier 1 RR vs GT: मिलर के तूफान में उड़ा राजस्थान, गुजरात ने पहले ही सीजन में फाइनल में बनाई जगहRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.