scriptधनियां को चढ़ा ताव…टमाटर हुआ लाल,लहसुन ने निकाले आंसू | Patrika News
खास खबर

धनियां को चढ़ा ताव…टमाटर हुआ लाल,लहसुन ने निकाले आंसू

सब्जी का स्वाद बढ़ाने के साथ सलाद में काम आने वाले टमाटर के तेवर लाल हो चले है। एक पखवाड़े के भीतर तीगुने दाम होने से आम लोगों की थाली से धनिया की खुशबू और आलू-टमाटर गायब होने लगा है।

बूंदीJun 30, 2024 / 06:44 pm

पंकज जोशी

धनियां को चढ़ा ताव...टमाटर हुआ लाल,लहसुन ने निकाले आंसू

बूंदी के बाजार में बिकने आई सब्जियां।

बूंदी. सब्जी का स्वाद बढ़ाने के साथ सलाद में काम आने वाले टमाटर के तेवर लाल हो चले है। एक पखवाड़े के भीतर तीगुने दाम होने से आम लोगों की थाली से धनिया की खुशबू और आलू-टमाटर गायब होने लगा है। इसे मानसून का प्रभाव कहे या मुनाफाखोरी की एकाएक सब्जियों के दाम आसमान पर पहुंच रहे है।
आलम यह है कि बारिश के मौसम में सब्जियां गर्मी के मौसम से भी महंगी हो चली है। इससे घर का बजट गड़बड़ाने लगा है। उपभोक्ताओं का कहना है कि अगर इसी तरह सब्जियों के दामों में उछाल जारी रहा तो आने वाले दिनों में सब्जियां खरीदना भी मुश्किल हो जाएगा। महंगाई ने गृहणियों के रसोई का बजट बिगाड़ के रख दिया है। इन दिनों थाली से मानो हरी सब्जियां गायब ही हो गई है। इसके पीछे की वजह आसमान छूते सब्जियों के दाम हैं। लहसुन का भाव आसमान छू रहा है तो वहीं टमाटर और लाल हो गया है।
धनिया तो मानों सब्जियों से गायब सा हो गया है। सब्जियों के बढ़ते दाम के चलते सप्ताहभर की सब्जियों की खरीदारी करके निश्चित होने वाले लोग भी एक या दो दिन की ही खरीदारी करते हुए नजर आ रहे हैं। मात्रा भी सीमित कर दी है। सब्जी विक्रेता कल्लू ने बताया कि गर्मी में तो सब्जी के लू लगने से महंगी हुई है और मई जून में बारिश नहीं होने से सब्जियों के दाम बढ़े है। करीब एक माह बाद नई सब्जियां आएगी,तब सब्जी की कीमतों में कमी आएगी।
सब्जियों के दाम 100 रुपए प्रतिकिलो के पार
बाजार में कई सब्जियों के दाम तो अब 100 रुपए प्रतिकिलो के भी पार पहुंच गए हैं। कुछ दिन पहले तक जो टमाटर 20 रुपए प्रति किलो बिक रहे थे, वह अब 50 रुपए पार तक पहुंच गए हैं। वहीं आलू के दाम भी 40 रुपए किलो तक पहुंच गए हैं। शिमला मिर्च, मिर्च और नीबू के दाम तो अब 100 रुपए प्रति किलो के पार ही पहुंच गए हैं। प्याज भी लाल हो चला है।
10 दिन में 20 से 30 फीसदी बढ़े दाम
सब्जियों के दामों में यकायक वृद्धि होने से महिलाओं को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि बूंदी में आसपास के क्षेत्रों से हिंडोली,बड़ानयागांव, ठीकरदा से देसी सब्जियों की आवक होने से थोड़ी राहत जरूर मिली है, लेकिन वह सब्जियों की सामान्य डिमांड को पूरी नहीं कर पा रहे है। पिछले 10 दिनों के मुकाबले सब्जियों के दामों की बात करें,तो यकायक 20 से 30 फीसदी तक बढ़ोतरी हुई है। सब्जी विक्रेताओं के अनुसार अन्य राज्यों से सब्जियां बूंदी आती है, उनकी आवक भी कम हो गई है। जिससे सब्जी के दामों में वृद्धि हो रही है।

Hindi News/ Special / धनियां को चढ़ा ताव…टमाटर हुआ लाल,लहसुन ने निकाले आंसू

ट्रेंडिंग वीडियो