अपराधी हुए पेशेवर, पुलिस अभी भी भांज रही लाठी

लीड स्टोरी-शहर के हर पुलिस संभाग में अपराध के अलग-अलग ट्रेंड, जुआ-सट्टा, नशा और चोरी की वारदातें बनी पुलिस के लिए सिरदर्द

 

By: santosh singh

Published: 10 Mar 2019, 11:28 AM IST

जबलपुर. शहर की करीब 15 लाख की आबादी के लिए पुलिस का भारी भरकम अमला है। तीन एएसपी, आठ सीएसपी और महिला थाने सहित 23 टीआइ शहर की कानून व्यवस्था को संभालते हैं। आठ संभागों में बंटे शहर में अपराध के टे्रंड भी अलग-अलग हैं। जहां कई पुलिस संभागों में जुआ-सट्टा और मादक पदार्थों की तस्करी चुनौती है। वहीं कुछ सम्भागों में चोरी और महिला अपराध पुलिस के लिए सिरदर्द बने हुए हैं। एक तरफ अपराधी पेशवर होते जा रहे हैं, तो दूसरी ओर पुलिस खुद को आधुनिक नहीं बना पा रही है। यही कारण है कि अपराधों पर पुलिस अंकुश नहीं लगा पा रही है।
शहर में पुलिस बल-
एएसपी-03
सीएसपी-08
टीआइ-23
एसआइ, एएसआइ व आरक्षक-2000 लगभग
केंट संभाग में दो महीने में तीन हत्याएं-
शहर में एक जनवरी से आठ मार्च के बीच अब तक नौ हत्याएं हो चुकी हैं। इसमें सबसे अधिक तीन हत्याएं केंट संभाग में हुई हैं। अब तक सब्जी विक्रेता की हत्या का खुलासा नहीं हो सका। वहीं लूट की 14 वारदातों में गोरखपुर और ओमती संभाग में तीन-तीन वारदातें सामने आयी। कोतवाली थाना क्षेत्र में सीजे के रीडर की पत्नी के साथ और पनागर में एमआर के साथ हुई लूट के आरोपी पुलिस की पहुंच से दूर हैं। चोरी की एक भी वारदात पुलिस नहीं सुलझा सकी। संभागवार कुछ बड़ी घटनाओं के आधार पर यहां होने वाले अपराधों को पत्रिका ने चिन्हित करने की कोशिश की है।
शहर में इस तरह है अपराध का टे्रंड-
कोतवाली संभाग
थाने-कोतवाली, मदनमहल, लार्डगंज
लूट-2
चोरी/ठगी-11
फायरिंग/चाकूबाजी-4
महिला अपराध-5
अपराध का नेचर-इस संभाग में ठगी और जाम की सबसे बड़ी समस्या है।
ओमती संभाग
थाने-ओमती, बेलबाग, सिविल लाइंस
लूट-03
मादक पदार्थ की तस्करी-13
हत्या-1
ठगी-03
जुआ/सट्टा-7
अपराध का नेचर-इस संभाग में सबसे अधिक स्मैक, शराब का अवैध व्यापार और जुआ-सट्टा होता है।
गोहलपुर संभाग
थाने-हनुमानताल, गोहलपुर
चाकूबाजी-8
जुआ/सट्टा-8
चोरी-6
शराब/स्मैक/इंजेक्श-5
हत्या-1
अपराध का नेचर-इस संभाग में मादक पदार्थों की तस्करी के बाद चाकूबाजी की वारदातें सामने आती रहती हैं।
अधारताल संभाग
थाने-अधारताल व पनागर
लूट-2
एक्सीडेंट-7
महिला अपराध-5
चोरी/ठगी-6
चाकूबाजी-4
अपराध का नेचर-इस संभाग में रोड एक्सीडेंट एक बड़ी चुनौती है। बड़े सडक़ हादसे होते रहते हैं।
रांझी संभाग
थाने-रांझी, घमापुर, खमरिया
चोरी/ठगी-11
जुआ/सट्टा-9
महिला अपराध-8
चाकूबाजी-6
शराब/स्मैक/इंजेक्शन-3
हत्या-1
लूट-2
अपराध का नेचर-इस संभाग में चोरी व ठगी के बाद महिला अपराध एक बड़ी चुनौती है।
केंट संभाग
थाने-केंट, गोराबाजार, ग्वारीघाट
हत्या-3
लूट-1
चोरी/ठगी-6
शराब/गांजा-5
एक्सीडेंट-4
महिला अपराध-5
अपराध का नेचर-इस संभाग में साम्प्रदायिक तनाव और धार्मिक आयोजन में गड़बड़ी पुलिस के लिए चुनौती है।
गढ़ा संभाग
थाने-गढ़ा, माढ़ोताल, विजयनगर
हत्या-2
लूट-1
चोरी/ठगी-14
चाकूबाजी-6
शराब/इंजेक्शन-4
महिला अपराध-4
अपराध का नेचर-इस संभाग की सबसे बड़ी समस्या चोरी है। यहां चोरी की बड़ी वारदातों का भी खुलासा नहीं हो सका है।
गोरखपुर संभाग
थाने-गोरखपुर व संजीवनी नगर
लूट-3
चोरी/ठगी-6
चाकूबाजी-04
शराब/गांजा/इंजेक्शन-7
असलहा-2
एक्सीडेंट-03
महिला अपराध-3
अपराध का नेचर-इस संभाग में लूट की वारदात बड़ी चुनौती है। इसके अलावा चोरी व ठगी के भी मामले सामने आते रहते हैं।

 

Show More
santosh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned