SOLAR ECLIPSE : सूर्यग्रहण के बाद राशि के अनुसार करें दान, नहीं होगा बुरा असर

-सूर्यग्रहण राहुग्रस्त होने के कारण अप्रिय प्रभावों से बचना चाहिए
-सूर्यग्रहण 2020 (Solar eclipse 2020)

By: pushpesh

Updated: 21 Jun 2020, 01:11 PM IST

जयपुर. इस वर्ष का पहला सूर्यग्रहण जारी है। यह सदी का सबसे बड़ा सूर्य ग्रहण है। इससे पहले 2001 में ऐसा सूर्य ग्रहण लगा था। ये सूर्य ग्रहण कई स्थानों पर कंकणाकृति में तो कहीं आंशिक नजर आ रहा है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, यह सूर्य ग्रहण राहुग्रस्त है, इसलिए आपकी जिंदगी पर इसका व्यापक असर पड़ सकता है। हालंाकि सूर्य ग्रहण के अप्रिय प्रभावों से बचने के लिए शास्त्रों में दान का विशेष महत्व बताया है। ग्रहण खत्म होने के बाद साफ-सफाई के बाद गंगाजल से घर की शुद्धि कर दान करने से अशुभ प्रभाव दूर होते हैं और समृद्धिकारक भी रहता है। अलवर जिले के कोलीला निवासी ज्योतिषाचार्य पंडित लक्ष्मीनारायण भारद्वाज के अनुसार राशियों के अनुसार कैसे और क्या दान करने से श्रेष्ठ फल प्राप्त होता है। जानिए-

सूर्यग्रहण : 900 वर्ष बाद ऐसा योग, जानिए क्या होगा इसका असर

मेष : राशि के तृतीय स्थान में ग्रहण लगा है। इसलिए इस दौरन सात प्रकार का अन्न और वस्त्र का दान श्रेष्ठ फलदायी रहता है। इसके अलावा मंदिरों में लाल वस्त्र, दालें या लाल वस्तु का दान करना चाहिए।
वृष: राशि के दूसरे स्थान पर ग्रहण लगा है। ग्रहण के बाद दूध से बने पदार्थ, चावल, चीनी या फिर कोई भी सफेद चीज दान कर सकते हैं। ग्रहण का दौरान श्रीसूक्त का पाठ करना भी बेहतर होता है।
मिथुन : मिथुन राशि में ग्रहण लगने से यह पहले स्थान पर विराजमान होगा। अशुभ प्रभाव से बचने के लिए हरी चीजों जैसे- मूंग की दाल, हरे वस्त्र, हरी सब्जियों का दान कर सकते हैं। ग्रहण के दौरान हनुमान चालीसा या सुंदरकांड का पारायण करें।
कर्क : राशि के 12वें स्थान में ग्रहण लगने जा रहा है। इसलिए आपके लिए सफेद चीजों का दान उत्तम है। आप चीनी, चावल, सफेद कपड़े आदि का दान कर सकते हैं। ग्रहण के दौरान भगवान शिव की अराधना और उनके मंत्रों का जप करें।
सिंह: ग्रहण के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए आटा, फल या फिर वस्त्र का दान कर सकते हैं। साथ ही ग्रहण के दौरान आप विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ कर सकते हैं। इससे देवता प्रसन्न होंगे और घर में समृद्धि आएगी।
कन्या: कन्या राशि के 10वें स्थान पर सूर्यग्रहण लगा है। इसलिए आप गाय को चारा, जरूरतमंद को भोजन, इलायची, शरबत, जल आदि चीजों का दान कर सकते हैं। साथ ही ग्रहण के दौरान आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ कर सकते हैं।
तुला : सूर्य ग्रहण तुला राशि के नौंवे स्थान पर लगा है। बच्चों को किताबें, हवन की सामग्री, अगरबत्ती, धूप, दीप आदि पूजा से संबंधित चीजों का दान कर सकते हैं। साथ ही आप ग्रहण के दौरान श्रीसूक्त का पाठ कर सकते हैं।
वृश्चिक : पीली चीजें जैसे- पीली मिठाई, हल्दी, चंदन, पीले कपड़े, गन्ने का रस, आदि चीजें दान कर सकते हैं। साथ ही आप ग्रहण के दौरान बजरंगबाण का पाठ कर सकते हैं। ऐसा करने से नौकरी और व्यवसाय में कोई समस्या नहीं आएगी।

SOLAR ECLIPSE : भूलकर भी ना करें ये काम

धनु : राशि के सातवें स्थान पर ग्रहण लगा है। इसलिए आप चना, हाथ के पंखे, घड़े, केसर, बेसन आदि चीजों का दान कर सकते हैं। साथ ही ग्रहण के दौरान भगवान विष्णु का अराधना करनी चाहिए। इससे घर में लक्ष्मी का वास होता है।
मकर: राशि के छठवें स्थान पर ग्रहण लगा है। इसलिए आपको कपड़े, फल, पापड़, चना, कंघा आदि दान करना चाहिए। साथ ही ग्रहण के दौरान आपके लिए सुंदरकांड का पारायण भी श्रेष्ठ फलदायी रहेगा।
कुंभ: राशि के पंचम स्थान पर लगा है। आटा, दूध, धार्मिक पुस्तकें, मिट्टी का घड़ा या अन्य पात्र दान कर सकते हैं। यथासंभव गरीब और जरूरतमंद को भोजन कराएं। ग्रहण के दौरान आप हनुमानजी व शनिदेव की आराधना करना चाहिए।
मीन: राशि के चतुर्थ स्थान पर ग्रहण लगा है। चीटियों को गुड़ और आटा डालें, साथ ही जरूरतमंद को वस्त्रादि का दान करें। ग्रहण के दौरान आपके लिए श्रीरामचरितमानस के अरण्य कांड का पाठ करना उत्तम रहेगा।

pushpesh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned