कामकाजी महिलाओं ने माना काम करना ही सबसे अच्छा 'विकल्प'

प्यू रिसर्च सेंटर के नए आंकड़ों के अनुसार अमरीका की 10 में से 8 कामकाजी माताओं का कहना है कि वे अपनी वर्तमान रोजगार स्थिति से सबसे ज्यादा खुश हैं, सरल शब्दों में वे नौकरी कर के खुद को आत्मनिर्भर मानती हैं जो उन्हें मानसिक दृढ़ता और सुख की अनुभूति कराता है।

By: Mohmad Imran

Published: 16 May 2020, 12:53 PM IST

दुनिया के जाने-माने प्यू रिचर्स सेंटर के हाल ही हुए एक सर्वे के अनुसार अधिकतर पूर्णकालिक (फुलटाइम) कामकाजी महिलाओं का मानना है कि उनके लिए जीवन का सबसे बेहतरीन विकल्प उनकी वर्तमान कार्य स्थिति यानी नौकरी पेशा जिंदगी है। प्यू रिसर्च सेंटर के नए आंकड़ों के अनुसार अमरीका की 10 में से 08 कामकाजी माताओं का कहना है कि वे अपनी वर्तमान रोजगार स्थिति से सबसे ज्यादा खुश हैं, सरल शब्दों में वे नौकरी कर के खुद को आत्मनिर्भर मानती हैं जो उन्हें मानसिक दृढ़ता और सुख की अनुभूति कराता है। आइए जानते हैं सर्वे में कामकाजी महिलाओं ने और क्या कहा-

कामकाजी महिलाओं ने माना काम करना ही सबसे अच्छा 'विकल्प'

01. 34 फीसदी अमरीकी महिलाएं फुल-टाइम जॉब करती थीं 50 साल पहले जो अब बढ़कर 55 प्रतिशत हो गया है
02. 72 फीसदी अमरीकी महिलाएं आज फुल-टाइम या पार्ट-टाइम जॉब करती हैं, 50 साल पहले यह 50 फीसदी था
03. 84 फीसदी फुल-टाइम जॉब करने वाली महिलाएं अपनी वर्तमान स्थिति को सबसे बेहतरीन मानती हैं
04. 14 फीसदी महिलाएं ऐसी भी थीं जिन्होंने सोचा कि पार्ट टाइम जॉब में शिफ्ट करना ज्यादा बेहतर होगा, जबकि सिर्फ 2 प्रतिशत महिलाओं ने ही खुद के लिए घर रहना सबसे अच्छा विकल्प बताया
05. 33 फीसदी महिलाओं ने कहा कि महिलाओं को पुुल टाइम नौकरी ही करनी चाहिए भले से उन पर बच्चों की जिम्मेदारियां भी क्यों न हों

कामकाजी महिलाओं ने माना काम करना ही सबसे अच्छा 'विकल्प'

06. 42 फीसदी ने कहा कि बच्चों की जिम्मेदारियों केसाथ पार्ट-टाइम जॉब ही सबसे बेहतरीन ऑप्शन है
07. 21 फीसदी महिलाएं ऐसी भी थी जिनका मानना था कि महिलाओं को घर पर रहकर ही जिम्मेदारियां उठानी चाहिएं
08. 47 फीसदी कामकाजी महिलाओं ने माना कि वर्किंग पैरेंट्स के लिए अपना कॅरियर आगे बढ़ाना कठिन हो गया है
09. 57 फीसदी वर्किंग वुमंस का यह भी कहना था कि फुल-टाइम जॉब के चलते वे अच्छे अभिभावक नहीं बन पातीं
10. 1/4 फुल-टाइम जॉब करने वाली महिलाओं ने यह भी कहा कि महिला होने के कारण काम के प्रति उनकी प्रतिबद्धता पर सवाल उठाकर उन्हें पदोन्नति और महत्त्वपूर्ण जिम्मेदारियां नहीं दी जातीं
11. 16 हजार डॉलर (12 लाख रुपए से ज्यादा) सालाना का आर्थिक नुकसान उठाना पड़ता है मां होने के कारण उनकी योग्यता और काम के समय में कटौती करने के कारण एक औसत कामकाजी अमरीकी महिला को्र
12. 20 फीसदी ने माना कि कंपनी या बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में उन्हीं महिलाओं को शामिल किए जाने की ज्यादा सभावना होती है जो बच्चों की जिममेदारियों से मुक्त हैं

कामकाजी महिलाओं ने माना काम करना ही सबसे अच्छा 'विकल्प'
Mohmad Imran
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned