सांचौर में रीको की ये करोड़ों की जमीन अतिक्रमण की जद में

Dharmendra Ramawat

Updated: 07 Feb 2019, 06:08:04 PM (IST)

स्‍पेशल

सांचौर. क्षेत्र के माखुपुरा स्थित रीको इंडस्ट्रीज क्षेत्र में खाली पड़ी करोड़ों रुपए की जमीन पर लोगों ने अवैध कब्जे कर बाड़े बना लिए हैं, लेकिन विभाग इस जमीन को कब्जे से मुक्त करवाने में लाचारी जता रहा है। रीको की यह बेशकीमती जमीन हाइवे से सटी हुई है। जिसकी वजह से इस जमीन पर प्रभावशाली लोगों ने कब्जा जमा रखा है। यहां स्थित खाली भूखंडों पर नित रोज अतिक्रमण हो रहे हैं। इसके बावजूद विभाग कोई सख्त कार्रवाई नहीं कर रहा है। रीको की इस जमीन पर लोगों ने बड़े-बड़े बाड़े बनाकर उसमें कारोबार शुरू कर दिए हैं। जिसमें तुड़ी व चारा तुलाई सहित अन्य गतिविधियां बेरोकटोक चल रही है। इसके बावजूद ना तो विभाग इस ओर ध्यान दे रहा है और ना ही प्रशासन और स्थानीय जनप्रतिनिधि।
सरंक्षण के अभाव में अतिक्रमण
माखुपुरा स्थित रिको का अधिकांश भू-भाग खाली पड़ा है जो माखुपुरा टंकिया के पास का हिस्सा है। यहां ना तो कोई फैक्ट्री लगी हुई है और ना ही रीक ने इस जमीन पर चार दिवारी बनाकर इसे संरक्षित किया है। जिसकी वजह से करीब 50 हैक्टेयर जमीन खाली पड़ी है। जहां हर रोज कोई ना कोई अतिक्रमी कब्जा जमाने की फिराक में रहता है। इस बारे में रीको व प्रशासन को जानकारी होने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। अतिक्रमियों ने रीको की इस खाली पड़ी जमीन पर कब्जा करने का नया तरीका भी ढूंढ निकाला है। जिसके तहत यहां पशुओं के चारा डालने के लिए बाड़े बनाए जो हैं और चारा बेचने का धंधा भी किया जा रहा है। वहीं यहां निज रोज बिक्री के लिए चारे की गाडिय़ां भी खाली की जाती हैं, लेकिन इन्हें रोकने वाला कोईनहीं है।
इस वजह से खुला पड़ा भूखंड
गौरतलब है कि माखुपुरा एकमात्र ऐसा क्षेत्र है, जहां रीको क्षेत्र के पास मेले का आयोजन होता है। पशुपालक भी यहां स्थित जलदाय विभाग की टंकियों के आस-पास खाली पड़े भूखंड पर विश्राम करते हैं। वहीं यहां प्रतिवर्ष मेले का आयोजन होने से जमीनों के भाव भी आसमान छू रहे हैं। इसके बावजूद इस भूमि को ना तो पंचायत समिति संरक्षित कर रही है और ना ही रीको प्रशासन। माखुपुरा स्थित जीएलआर के पास कई लोग तो वर्षों से स्थाई रूप से कब्जा जमाए बैठे हैं, जिन्होंन पक्का घर बनाकर अवैध रूप से दुकानें भी बना ली हैं।
चेताने के बावजूद विभागीय अनदेखी
रीको क्षेत्र में दिन दहाड़े हो रहे अतिक्रमण को लेकर पत्रिका की ओर से समय-सयम पर समाचार भी प्रकाशित किए गए। इसके बावजूद इस मुद्दे को लेकर कोई भी अधिकारी रुचि नहीं दिखा रहा है। ऐसे में अतिक्रमियों के हौसले बुलंद हो रहे हैं।
इनका कहना है...
रीको क्षेत्र में स्थित सरकारी भूमि पर पिछले लम्बे समय से अतिक्रमण को लेकर गतिविधियां हो रही हैं, विभाग को इस मामले में व्यापारियों ने सूचित भी किया था, लेकिन कोई गंभीरतापूर्वक ध्यान नहीं दे रहा है। जिससे दिनों दिन अतिक्रमण बढ़ रहे हंै। विभाग को इस मामले में अविलम्ब कार्रवाई करनी चाहिए।
- रामावतार मांजू, अध्यक्ष, रीको इण्डस्ट्रीज यूनियन, सांचौर

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned