महिला के अंगों से पांच लोगों को मिली नई जिंदगी

महिला के अंगों से पांच लोगों को मिली नई जिंदगी

Ritesh Ranjan | Publish: Dec, 06 2018 02:48:22 PM (IST) | Updated: Dec, 06 2018 02:48:23 PM (IST) स्‍पेशल

- अंगदान

चेन्नई. स्टेनली सरकारी कॉलेज व अस्पताल में ३९ वर्षीया महिला जयंती के अंगों से पांच लोगों को नया जीवन मिला है। जयंती रविवार को सडक़ हादसे में बुरी तरह से घायल हो गई थी। उसे अस्पताल ले जाया गया। डॉक्टरों ने उपचार के दो दिन बाद महिला को ब्रेनडेड घोषित कर दिया। इसके बाद महिला के पति वेणुगोपाल और उसके परिवार वालों ने अंगदान करने का निर्णय लिया। अंगदान करने वाली महिला के घर वालों ने बताया कि जयंती कैनरा बैंक में हाउस कीपिंग विभाग में काम करती थी। रविवार को वह अपने परिचित के साथ बाइक से कहीं गई थी। वह बाइक के पीछे बैठे हुई थी। सिरुवपुरी मंदिर के दर्शन करने के बाद वे घर लौट रहे थे उसी दौरान वह बाइक से गिर गई और उसके सिर में गंभीर चोटें लग गई। उसे इलाज के लिए निजी अस्पताल लाया गया ्रलेकिन अस्पताल के डॉक्टरों ने उसे स्टेनली सरकारी अस्पताल भेज दिया। स्टेनली अस्पताल में जयंती को आईसीयू में भर्ती कराया गया लेकिन मंगलवार को डॉक्टरों ने जयंती को ब्रेनडेड घोषित कर दिया।
- अंगदान का लिया निर्णय
इसके बाद स्टेनली सरकारी अस्पताल के डॉक्टर जयंती के पति वेणुगोपाल के घर वालों से मिले और उन्हें अंगदान के लिए प्रेरित किया। इसके बाद परिजनों की मंजूरी के बाद जयंती के हृदय, फेफड़े, लीवर, दोनों किडनी और कॉर्निया को जरुरतमंद मरीज को देने का निर्णय किया गया।
- बच गई पांच जिंदगियां
स्टेनली सरकारी अस्पताल के डीन डा. पोनमबाल नम:शिवायम ने कहा कि जयंती के अंगों को राजीव गांधी सरकारी अस्पताल, बाईं किडनी स्टेनली अस्पताल, फेफड़े अपोलो अस्पताल के मरीज, लीवर श्री बालाजी अस्पताल और कॉर्निया एगमोर आई हॉस्पिटल के मरीजों को प्रत्यारोपित कर दी गई।

Ad Block is Banned