जोधपुर शहर के कायलाना झील के किनारे अपने अंडों पर बैठी टिटहरी दिखाई दी। विशेषज्ञों का मानना है कि टिटहरी के अंडे देने के कुछ दिन बाद ही बरसात होने की संभावना बन जाती है। ऐसे में अपने अंडों की रक्षा करती टिटहरी। फोटो- एसके मुन्ना

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned