scriptमेहनत रंग लाई, बंजर भूमि पर लहलहाने लगे फल | Patrika News
खास खबर

मेहनत रंग लाई, बंजर भूमि पर लहलहाने लगे फल

ग्राम पंचायत नमाना द्वारा 3 साल पहले बंजर पड़ी भूमि को उपजाऊ कर उसमें लगाए गए फलदार पौधे अब रंग दिखाने लगे हैं। तीन हजार पौधों में किसी के आम तो किसी के मौसमी आने लगी है।

बूंदीJul 03, 2024 / 06:24 pm

पंकज जोशी

मेहनत रंग लाई, बंजर भूमि पर लहलहाने लगे फल

नमाना पंचायत की चरागाह भूमि पर लगे फलदार पौधे पर आई मौसमी

नमाना. ग्राम पंचायत नमाना द्वारा 3 साल पहले बंजर पड़ी भूमि को उपजाऊ कर उसमें लगाए गए फलदार पौधे अब रंग दिखाने लगे हैं। तीन हजार पौधों में किसी के आम तो किसी के मौसमी आने लगी है। नमाना सरपंच गंगाबाई मीणा ने बताया कि नमाना रोड पर पंचायत कि 2022 में 55 बीघा भूमि बंजर भूमि को समतल कर प्लांटेशन के तहत उसमें करीब 5000 पौधे लगाए गए थे, जिसमें से 3000 पौधों ने आकार ले लिया है, वहीं मौसमी, आम, आंवला के पेड़ है, अब लोगों को छाया के साथ-साथ फल भी दे रहे हैं। मीणा ने बताया कि बंजर पड़ी भूमि पर सही कर लोगों को रोजगार भी दिया गया। इस प्लांटेशन में नरेगा के तहत करीब 2000 श्रमिकों को रोजगार भी उपलब्ध कराया है। अब इसके साथ ही इनकी रखवाली के लिए दो चौकीदारों की नियुक्ति की गई है, वहीं रात के समय भी दो अलग से व्यक्ति लगाकर पौधों की देखभाल कर रहे हैं वर्तमान में 55 बीघा भूमि पर करीब 3000 पौधे ने अपना आकर लेकर बाग की तरह लगने लगे हैं
सौर ऊर्जा से सिंचित होते हैं पौधे
ग्राम पंचायत की भूमि पर लगाए गए पौधों की सिंचाई करने के लिए ग्राम पंचायत द्वारा 3 सौर ऊर्जा के प्लांट लगाए गए हैं, वहीं पौधों को पानी देने के लिए नदी के साथ-साथ पंचायत में तीन बोरिंग भी लगाए गए हैं, जिससे अब पौधों को सिंचित किया जाता है।
नींबू के 300 में से तीन पौधे ही बड़े हुए
चारागाह भूमि को समतल कर 300 पौधे नींबू के व 300 पौधे कटहल के लगाए गए थे, जिसमें से नींबू के तो मात्र तीन पौधे ही बड़े हुए, वहीं कटहल का एक ही पौधा बड़ा हो पाया। सरपंच गंगाबाई मीणा का कहना है कि पौधे नहीं चलने की वजह से अब इस मिट्टी की जांच करवाई जाएगी। इस मिट्टी पर अधिकांश किस तरह के पौधे लगाए जाए यह जांच के बाद स्पष्ट होगा फिर उस तरह के पौधे यहां पर लगाए जाएंगे।
60 बीघा जमीन को और कर रहे तैयार
नमाना रोड पर पंचायत के पास अधिकांश बंजर भूमि पड़ी हुई है। इस भूमि में से 60 बीघा भूमि को और तैयार किया जा रहा है, जिसमें फलदार व छायादार वह गुलाब की खेती करने का भी प्रस्ताव तैयार किया गया है। सरपंच गंगा मीणा का कहना है कि गुलाब की खेती करने से पंचायत की आमदनी भी बढ़ सकेगी। इससे विकास कार्य भी अधिक होंगे।
55 बीघा भूमि पर फलदार पौधे लगाए गए थे, जो अब आकार लेने लगे हैं। आम और मौसमी के पौधों पर फल आने लगे हैं। बंजर भूमि को उवर्रक कर लगाए गए पौधों से लोगों को रोजगार भी मिला। अन्य पड़ी हुई जमीन पर भी समतल कर पौधे लगाने का प्रस्ताव तैयार है, उस पर काम चालू है।
गंगाबाई मीणा, नमाना, सरपंच

Hindi News/ Special / मेहनत रंग लाई, बंजर भूमि पर लहलहाने लगे फल

ट्रेंडिंग वीडियो