मेरे से चर्चा बिना सरकार कैसे बुला सकती सत्र : कैलाश मेघवाल

Amit Kumar Garg

Publish: Jan, 10 2019 11:18:50 PM (IST)

स्‍पेशल

जयपुर। पंद्रहवीं विधानसभा का पहला सत्र 15 जनवरी को आहूत किए जाने पर राज्यपाल की मंजूरी के बावजूद विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल ने समन जारी करने से इनकार कर दिया है। उन्होंने कहा कि सरकार 21 दिन से कम अवधि के नोटिस पर विधानसभा अध्यक्ष की चर्चा के बिना सत्र नहीं बुला सकती है। विधानसभा भवन में अध्यक्ष कक्ष में गुरुवार को बकायदा प्रेसवार्ता बुलाकर विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल ने विधानसभा सत्र को लेकर प्रक्रिया के स्तर पर हुई चूक की ओर ध्यान दिलाया।
उन्होंने कहा कि नियमों की पत्रावली में स्पष्ट रूप से लिखा हुआ है कि विधानसभा का सत्र 21 दिन के अंतर से बुलाया जाए। उन्होंने कहा कि पहले यह अंतर 14 दिन हुआ करता था, जिसे विधायकों की सुविधा के लिए बदल कर 21 दिन कर दिया गया। उन्होंने कहा कि 21 दिन की इस अवधि को कम करने का अधिकार भी विधानसभा अध्यक्ष के पास है। उन्होंने कहा कि 15 जनवरी को सत्र बुलाने के लिए 21 दिन के अंतर की जगह 7 दिन पहले उन्हें सूचना मिली। इसके बाद नोटिस जारी करने के बाद 6 दिन ही शेष बचते हैं। उन्होंने कहा कि छह दिन के नोटिस पर किसी भी सूरत में विधानसभा सत्र के लिए समन जारी नहीं किया जा सकता है। कैलाश मेघवाल ने कहा कि मैंने राज्यपाल कल्याण सिंह से मुलाकात कर स्थिति साफ कर दी है। मैंने राज्यपाल से साफ कह दिया कि मैं सरकार की इस अनियमितता का साक्षी नहीं बनना चाहता। उन्होंने इस संबंध में राज्यपाल को लिखित पत्र भी सौंपा।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned