खाताधारक का दोष साबित न होने पर धोखाधड़ी से हुए लेन-देन पर बैंक जिम्मेदार

'राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग' (एनसीडीआरसी) ने भी यह स्वीकार किया है कि किसी खाताधारक व्यक्ति के बैंक खाते से रुपए निकालने के लिए धोखाधड़ी से किए गए लेनदेन मामले में, संबंधित बैंक भी नुकसान के लिए जिम्मेदार होगा

By: Mohmad Imran

Published: 13 Jan 2021, 01:21 PM IST

ऑनलाइन ट्रांजेक्शन (Online Transaction) और डिजिटल बैकिंग (Digital Bnaking) ने भले ही बैंक की कतारें कम कर दी हों लेकिन इससे साइबर धोखाधड़ी (Cyber Thagi) में भी वृद्धि हुई है। आए दिन ऐसे मामले सामने आते रहते हैं। लेकिन हाल ही 'राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग' (एनसीडीआरसी) ने भी यह स्वीकार किया है कि किसी खाताधारक व्यक्ति के बैंक खाते से रुपए निकालने के लिए धोखाधड़ी से किए गए लेनदेन मामले में, संबंधित बैंक भी नुकसान के लिए जिम्मेदार होगा, ग्राहक नहीं। बशर्ते, यह साबित न हो कि ऐसा पूरी तरह से ग्राहक की अपनी गलती से हुआ है।

आयोग ने क्या कहा
-डिजिटल युग में क्रेडिट कार्ड हैकिंग या ऑनलाइन धोखाधड़ी से इनकार नहीं।
-अगर बैंक खाताधारक की गलती साबित नहीं कर पाता तो इसे बैंक की ही इलेक्ट्रॉनिक सुरक्षा प्रणाली चूक मानेंगे।
-बैंक ग्राहकों के प्रति अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकते। बैंकों की सुरक्षा संबंधी शर्तें आरबीआइ के अनुरूप हों।

बैंक की अपील की खारिज
मामले में एक निजी बैंक ने राज्य आयोग के निर्णय के विरुद्ध राष्ट्रीय आयोग में पुनर्विचार याचिका दायर की थी। लेकिन राष्ट्रीय आयोग ने याचिका को खारिज कर दिया और कहा कि राज्य आयोग का निर्णय ही यथावत रहेगा।

शिकायत में ये कहा खाताधारक ने
वहीं, आयोग के सामने शिकायतकर्ता ने बताया कि उक्त लेन-देन के समय क्रेडिट कार्ड उसके पास नहीं था। साथ ही लेन-देन उसके गृहनिवास से कई किमी दूर हुआ था। वहीं बैंक ने कहना था कि क्रेडिट कार्ड ग्राहक की लापरवाही से चोरी हुआ था।

पुख्ता सुबूत नहीं दे सका बैंक
मामले में राज्य आयोग ने पाया था कि बैंक अपनी दलीलों के संदर्भ में कोई पुख्ता सुबूत प्रस्तुत नहीं कर सका, कि यह खाताधारक की लापरवाही से हुआ। आयोग के निर्णय के विरुद्ध पुनर्विचार याचिका में एनसीडीआरसी ने बैंक को ही धोखाधड़ी से हुए लेन-देन के लिए उत्तरदायी ठहराया।

Show More
Mohmad Imran
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned