क्या सच में परमाणु हमले का कोई न्यूक्लियर बटन होता है?

अमरीकी राष्ट्रपति और उत्तर कोरिया के तानाशाह न्यूक्लियर बटन के जरिए एक-दूसरे को तबाह करने की धमकी देते रहते है लेकिन ऐसी कोई बटन नहीं होती।

By: Dhirendra

Published: 04 Jan 2018, 01:59 PM IST

 

चर्चा में क्यों है न्यूक्लियर बटन
उत्तर कोरिया के सनकी तानाशाह किम जोंग के आदेश पर लगतार होने वाले परमाणु परीक्षण को लेकर पूरी दुनिया चिंतित है। अमरीका इसको लेकर सबसे ज्यादा चिंतित है। उसे लगता है कि चीन का अप्रत्यक्ष समर्थन तानाशाह को हासिल है। इससे वैश्विक शक्ति संतुलन बिगड़ उसके खिलाफ जा सकता है। अमरीका चाहता है कि उत्तर कोरिया परमाणु और मिसाइल परीक्षण को हमेशा के लिए रोक दे। ऐसा नहीं करने पर अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप तानाशाह को परमाणु हमले की धमकी देते हैं। जिसके जवाब में उत्तर कोरिया भी न्यूक्लियर बटन दबा देने की धमकी देता है। यही वजह है कि यह बटन चर्चा में है। लोग यह समझने लगे हैं कि बटन दबा देने मात्र से परमाणु विस्फोट हो जाता है, पर ऐसा होता नहीं है।

ब्रीफकेस में होता है फुटबॉल और बिस्किट
दरअसल अमरीका में 45 पाउंड के ब्रीफकेस में परमाणु हमले का मॉड्यूल होता है। अमरीकी राष्ट्रपति जहां जाते हैं उनके साथ यह ब्रीफकेस जाता है। इसे न्यूक्लियर फुटबॉल भी कहते हैं। इस ब्रीफकेस में एटमी हमला करने के निर्देश और जिन जगहों को निशाना बनाना है उसकी जानकारी होती है। इसके जरिए 900 परमाणु हथियारों से हमला संभव है। हमले के निर्देश देने से पहले राष्ट्रपति को अपनी पहचान एक कोड के जरिए वेरिफाई करनी होती है। ये कोड एक कार्ड पर लिखा होता है, इसे आमतौर पर बिस्किट भी कहते हैं।

किस राष्ट्रपति ने खो दिया था बिस्किट
अमरीका के राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने अपना बिस्किट खो दिया था। उन्होंने महीनों तक शीर्ष अधिकारियों को इसकी जानकारी नहीं दी। लंबे अरसे बाद जब इस बात का वहां के शीर्ष अधिकारियों को पता चला तो वे लोग सकते में आ गए थे। लेकिन बाद में उसे ढूंढ लिया गया, पर गोपनीय मसला होने की वजह से जानकारी सार्वजनिक नहीं की गई।

बटन को लेकर बयान पर बयान
नए साल पर जब दुनिया भर के लोग जश्न मना रहे होते हैं तब उत्तरी कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने अपने भाषण में कहा था कि न्यूक्लियर बम का बटन हर वक्त उसकी टेबल पर होता है। इसके जवाब में अमरीकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने बुधवार को ट्वीट कर किम जोंग उन को जवाब देते हुए लिखा कि मेरे पास भी न्यूक्लियर बटन है, जो उसके बटन से बड़ा और ताकतवर है और ये बटन काम भी करता है।

दोनों के बीच क्यों है तनातनी
पिछले कुछ महीनों से नॉर्थ कोरिया इंटर-कॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल का कई परीक्षण कर चुका है। इस मिसाइल के जरिए अमरीका के किसी भी शहर को निशाना बनाना संभव है। नॉर्थ कोरिया एक हाइड्रोजन बम समेत छह परमाणु परीक्षण भी कर चुका है। दिसंबर में नॉर्थ कोरिया के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा कि अब सवाल ये नहीं है कि इस इलाके में परमाणु जंग होगी या नहीं, बल्कि अब सवाल ये है कि जंग कब होगी? जबकि उत्तरी कोरिया को धमकाने के लिए अमरीका कोरियाई पेनिनसुला के ऊपर से अपना बॉम्बर्स उड़ा चुका है। यही मसला दोनों देशों के बीच तनातनी का कारण बना हुआ है।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned